ⓘ संस्कृति - अंजन, अजा एकादशी, अनंत चतुर्दशी, अन्त: पुर, अष्टधातु, अष्टमंगल, मानव शव का प्रशमन ..

विषयानुसार संस्कृति संस्कृति-सम्बन्धी सूचियाँ संस्कृति आधार अंतर्राष्ट्रीय सांस्कृतिक संगठन अन्धविश्वास आन्दोलन आभूषण इस्लामी संस्कृति उत्सव कला क्षेत्रानुसार संस्कृति खानपान खाना खेल संस्कृति घटनाएँ सांस्कृतिक घटनाएँ चिन्ह जीवविज्ञान और संस्कृति दक्षिण एशियाई संस्कृति धर्म नाम नारे निवास प्रबंध सांस्कृतिक नृविज्ञान परम्पराएँ परिधान पारंपरिक खेल फलज्योतिष भाषण भाषा भाषाएँ भोजन मनु-पशु विज्ञान मनोरंजन मर्यादा महाद्वीप के अनुसार संस्कृति मानव संस्कृति में प्राणी मानविकी मृत्यु के सांस्कृतिक आयाम राजनैतिक संस्कृति राष्ट्रानुसार संस्कृति रीति लोक गीत लोक नृत्य विज्ञान और संस्कृति विशेष ध्वनियाँ संगीत संस्कृति सांस्कृतिक संचार माध्यम संस्कार संस्कृति का समाजशास्त्र संस्कृति से नाम संस्कृतियाँ सभ्यता समर्पित स्मारक समारोह सहयोग सांस्कृतिक अध्ययन सांस्कृतिक इतिहास सांस्कृतिक धरोहर सांस्कृतिक प्रवृत्तियाँ सांस्कृतिक संगठन सामाजिक मान्यता सूत्रवाक्य स्थानानुसार संस्कृति हिन्दी सिनेमा

अंजन

अंजन नेत्रों की रोगों से रक्षा अथवा उन्हें सुंदर श्यामल करने के लिए चूर्ण द्रव्य, नारियों के सोलह सिंगारों में से एक। प्रोषितपतिका विरहणियों के लिए इसका उपयोग वर्जित है। मेघदूत में कालिदास ने विरहिणी यक्षी और अन्य प्रोषितपतिकाओं को अंजन से शून्य नेत्रवाली कहा है। अंजन को शलाका या सलाई से लगाते हैं। इसका उपयोग आज भी प्राचीन काल की ही भाँति भारत की नारियों में प्रचलित है। पंजाब, पाकिस्तान के कबीलाई इलाकों, अफ़गानिस्तान तथा बिलोचिस्तान में मर्द भी अंजन का प्रयोग करते हैं। प्राचीन वेदिका स्तंभों पर बनी नारी मूर्तियाँ अनेक बार शलाका से नेत्र में अंजन लगाते हुए उभारी गई हैं।

अजा एकादशी

हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। भाद्रपद कृष्ण एकादशी का क्या नाम है? व्रत करने की विधि तथा इसका माहात्म्य कृपा करके कहिए। मधुसूदन कहने लगे कि इस एकादशी का नाम अजा है। यह सब प्रकार के समस्त पापों का नाश करने वाली है। जो मनुष्य इस दिन भगवान ऋषिकेश की पूजा करना चाहिए।

अनंत चतुर्दशी

एक दिन कौण्डिन्य मुनि की दृष्टि अपनी पत्नी के बाएं हाथ में बंधे अनन्तसूत्रपर पडी, जिसे देखकर वह भ्रमित हो गए और उन्होंने पूछा-क्या तुमने मुझे वश में करने के लिए यह सूत्र बांधा है? शीला ने विनम्रतापूर्वक उत्तर दिया-जी नहीं, यह अनंत भगवान का पवित्र सूत्र है। परंतु ऐश्वर्य के मद में अंधे हो चुके कौण्डिन्यने अपनी पत्नी की सही बात को भी गलत समझा और अनन्तसूत्रको जादू-मंतर वाला वशीकरण करने का डोरा समझकर तोड दिया तथा उसे आग में डालकर जला दिया। इस जघन्य कर्म का परिणाम भी शीघ्र ही सामने आ गया। उनकी सारी संपत्ति नष्ट हो गई। दीन-हीन स्थिति में जीवन-यापन करने में विवश हो जाने पर कौण्डिन्यऋषि ने अपने अप ...

अन्त: पुर

प्राचीन काल में हिंदू राजाओं का रनिवास अंतःपुर कहलाता था। यही मुगलों के जमाने में जनानखाना या हरम कहलाया। अंतःपुर के अन्य नाम भी थे जो साधारणतः उसके पर्याय की तरह प्रयुक्त होते थे, यथा- शुद्धांत और अवरोध। शुद्धांत शब्द से प्रकट है कि राजप्रासाद के उस भाग को, जिसमें नारियाँ रहती थीं, बड़ा पवित्र माना जाता था। दांपत्य वातावरण को आचरण की दृष्टि से नितांत शुद्ध रखने की परंपरा ने ही निःसंदेह अंतःपुर को यह विशिष्ट संज्ञा दी थी। उसके शुद्धांत नाम को सार्थक करने के लिए महल के उस भाग को बाहरी लोगों के प्रवेश से मुक्त रखते थे। उस भाग के अवरुद्ध होने के कारण अंतःपुर का यह तीसरा नाम अवरोध पड़ा था। अवर ...

अष्टधातु

अष्टधातु, एक मिश्रातु है जो हिन्दू और जैन प्रतिमाओं के निर्माण में प्रयुक्त होती है। जिन आठ धातुओं से मिलकर यह बनती है, वे ये हैं- सोना, चाँदी, तांबा, सीसा, जस्ता, टिन, लोहा, तथा पारा की गणना की जाती है। एक प्राचीन ग्रन्थ में इनका निर्देश इस प्रकार किया गया है: स्वर्ण रूप्यं ताम्रं च रंग यशदमेव च। शीसं लौहं रसश्चेति धातवोऽष्टौ प्रकीर्तिता:। सुश्रुतसंहिता में केवल प्रथम सात धातुओं का ही निर्देश देखकर आपातत: प्रतीत होता है कि सुश्रुत पारा पारद, रस को धातु मानने के पक्ष में नहीं हैं, पर यह कल्पना ठीक नहीं। उन्होंने अन्यत्र रस को भी धातु माना है ततो रस इति प्रोक्त: स च धातुरपि स्मृत:। अष्टधातु ...

अष्टमंगल

अष्टमांगालिक चिह्नों के समुदाय को अष्टमंगल कहा गया है। आठ प्रकार के मंगल द्रव्य और शुभकारक वस्तुओं को अष्टमंगल के रूप में जाना जाता है। सांची के स्तूप के तोरणास्तंभ पर उत्कीर्ण शिल्प में मांगलिक चिहों से बनी हुई दो मालाएँ अंकित हैं। एक में 11 चिह्न हैं - सूर्य, चक्र, पद्यसर, अंकुश, वैजयंती, कमल, दर्पण, परशु, श्रीवत्स, मीनमिथुन और श्रीवृक्ष। दूसरी माला में कमल, अंकुश, कल्पवृक्ष, दर्पण, श्रीवत्स, वैजयंती, मीनयुगल, परशु पुष्पदाम, तालवृक्ष तथा श्रीवृक्ष हैं। इनसे ज्ञात होता है कि लोक में अनेक प्रकार के मांगालिक चिह्नों की मान्यता थी। विक्रम संवत् के आरंभ के लगभग मथुरा की जैन कला में अष्टमांगलि ...

                                     

मानव शव का प्रशमन

मौत के बाद की विभिन्न संस्कृतियों में मानव शरीर के विभिन्न प्रकार से शमन करने के लिए पैटर्न है. उचित प्रकाऔर उचित समय पर शरीर के शमन से गैर-AVCHD पैदा करने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचा सकते हैं तक पहुँचने । अन्य प्राणियों की तरह मानव शरीर भी monoprint क्षय होने लगता है और इससे दुर्गंध आने लगती है.