ⓘ ट्यूबरस स्तन का रोग जन्मजात असामान्यता का परिणाम हैं जो पुरुषों और महिलाओं दोनों में पाया जाता हैं। यह समस्या युवावस्था के दौरान स्तन विकास में कमी के कारण और ज ..

                                     

ⓘ ट्यूबरस स्तन

English version: Tuberous breasts

ट्यूबरस स्तन का रोग जन्मजात असामान्यता का परिणाम हैं जो पुरुषों और महिलाओं दोनों में पाया जाता हैं। यह समस्या युवावस्था के दौरान स्तन विकास में कमी के कारण और जब स्तन सामान्य रूप से और पूरी तरह से विकसित करने में विफल हो जातें हैं तब वह ट्यूबरस स्तन कहलाते हैं। इस स्थिति से दुनिया में पांच प्रतिशत लोग प्रभावित हैं, जिनका इलाज सर्जरी द्वारा किया जाता हैं।

                                     

1. पृष्ठभूमि

ट्यूबरस स्तन की विकृति पहली बार रीस और एस्टन द्वारा १९७६ में वर्णित की गया था। इस रोग को सर्जिकल वर्गीकरण से पता लगाया जाता है, जिससे यह भी पता लगया जाता हैं की स्तन के कौन से क्षेत्र प्रभावित हैं। वर्गीकरण के बाद स्तन को तीन ग्रेड में विभाजित किया जाता हैं और यह पता लगाया जाता हैं की स्तन के किस भाग में यह रोग उत्पन्न हुआ हैं:

  • या पूरे स्तन को प्रभावित करना ग्रेड III
  • स्तन के इन्फेरोमीडीयल चतुर्भुज ग्रेड I भाग में
  • दो निम्न क्वाड्रंट्स ग्रेड II में

यह स्थिति को संकुचित स्तन, ट्यूबलर स्तन, स्नूपी स्तन हर्निएटेड एरोलर कॉम्प्लेक्स, शंकु स्तन, डोमिन निप्पल, निचले ध्रुव हाइपोप्लासिया और हाइपोप्लास्टिक स्तन के नाम से भी जनि जाती हैं।

ट्यूबरस स्तन केवल छोटे या अविकसित स्तन नहीं होते हैं। स्तन की उपस्थिति पर इस स्थिति का प्रभाव हल्के से गंभीर रूप से हो सकता है, और इस स्थिति की अन्य विशिष्ट विशेषताओं में शामिल हैं: विस्तारित, प्फ्फी ऐरोला, स्तनों के बीच में असामान्य रूप से चौड़ा अंतर, न्यूनतम स्तन ऊतक, सामान्य स्तन फोल्ड से अधिक, और सीने की दीवापर संकीर्ण आधार।

                                     

2. इलाज

ट्यूबरस स्तनों की उपस्थिति संभावित रूप से शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं के माध्यम से बदली जा सकती है, जिसमें ऊतक विस्तार विधि और स्तन प्रत्यारोपण भी शामिल हैं। ट्यूबरस स्तन जन्मजात रोग हैं, इसलिए इसका उपचार यूनाइटेड किंगडम में राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा में ही संभव है।