ⓘ चौथ, शुल्क. चौथ 17 वीं और 18 वीं शताब्दी में एक-चौथाई राजस्व प्राप्ति को कहा जाता था। यह भारत में एक जिले की राजस्व प्राप्ति या वास्तविक संग्रहण की एक चौथाई उगा ..

                                     

ⓘ चौथ (शुल्क)

English version: Chauth

चौथ 17 वीं और 18 वीं शताब्दी में एक-चौथाई राजस्व प्राप्ति को कहा जाता था। यह भारत में एक जिले की राजस्व प्राप्ति या वास्तविक संग्रहण की एक चौथाई उगाही थी। यह कर ऐसे जिले से लिया जाता था, जहां मराठा मार्गाधिकार या स्वामित्व चाहते थे। यह नाम संस्कृत शब्द से लिया गया है, जिसका अर्थ है एक चौथाई।

व्यावहारिक रूप में चौथ अक्सर हिन्दू या मुसलमान शासकों द्वारा मराठों को खुश करने के लिए दिया जाने वाला शुल्क था, ताकि मराठे उनके प्रांत में उपद्रव न करें या उनके जिले में घुसपैठ से दूर रहें। मराठों का दावा था, कि इस भुगतान के बदले में वे दूसरों के आक्रमणों से उनकी रक्षा कराते थे। लेकिन बहुत कम हिन्दू या मुसलमान राजा चौथ के भुगतान को इस नज़र से देखते थे। चूंकि शासक पूरा राजस्व वसूलने की कोशिश कराते थे, इसलिए नियमित राजस्व की मांग के साथ इस भार से जुडने से इसे दमनकारी माना जाता था। इसके फलस्वरूप भारत में हिन्दू और मुसलमान, दोनों में ही मराठों की लोकप्रियता घटी।

                                     
  • आय त व क सश ल द श स श ल क म क त य कम दर पर व कस त द श म दर ज ह च क अ य व कस त द श स ऐस वस त ओ क आय त श ल क क स म य दर क अध न
  • ह ट क स श ल क 200 स 250 र क लगभग र ल म र ग नजद क र लव स ट शन गय ज क शन गय ज क शन स ब ध गय ज न क ल ए ट क स श ल क 200 स 300 र
  • अवस थ म ह इस शहर म एक और भवन ह ज स स नहर महल कह ज त ह प रव श श ल क भ रत य क ल ए 15 र तथ व द श पर यटक क ल ए 100 र समय: स बह 8 बज
  • ह ट क स श ल क 200 स 250 र क लगभग र ल म र ग नजद क र लव स ट शन गय ज क शन गय ज क शन स ब ध गय ज न क ल ए ट क स श ल क 200 स 300 र
  • मन ह ल क न इसक अ दर ज सकत ह ग ज पठ र म प रव श क ल ए प रव श श ल क द न पड त ह अलग - अलग प र म ड क अ दर ज न क ल ए अत र क त ट कट ल न
  • कर स थ न य कर और व श ष कर हल क द न म सड क पर प र क ग श ल क और म न फ श ल क द व र बन ए रखत ह जबक क द र सरक र क कर स मग र म ख य र प स
  • ह उस न ब न ब र क उनक पद न नत द द ब र क ओल म प यन अ ज क स म श ल क व भ ग म अध क षक स तर पर पद न नत द गई भ रत य एथल ट खज न म अनम ल
  • र जध न क ष त र क सम त य म न य क त ह ई वह न इज र य क स म श ल क और उत प द श ल क क सम क ष क प नल क सदस य थ ख र त 2003 म अपन स न ट स ट क
  • रहत ह श ल क ज न स ग रह लय स बह स त बज स श म छ: बज तक ख ल रहत ह और इसम क ई प रव श श ल क नह ल य ज त र ज य स ग रह लय म श ल क क र प म
  • क र ड ब ज र म उत र द ए क र ड क व र ष क श ल क 6 ड लर क स थ ल न च क य गय ज क ड नर स क लब क व र ष क श ल क 1 ड लर स कई ज य द थ इसल ए इस प र म यम
  • क ल ए ग र प चरण तक पह चन क ल ए, य ईएफए क प रस क र 8, 600, 000 क श ल क आध र त. सम ह म एक ज त 1, 000, 000 स सम म न त क य और एक ड र 500.000
  • बच च और कर मच र य क ल ए न श ल क स व स थ य श व र क आय जन क ल ए ज न ज त ह भ रत सरक र न उन ह च थ सर व च च न गर क सम म न, पद म श र स 2008