ⓘ आपस का मज़ाक ऐसे लतीफ़े या व्यंग्य को कहा जाता है जिसका व्यंग्य केवल उन्हीं लोगों को समझ आये जो किसी विशेष समुदाय, पेशे या अन्य गुट से सम्बन्ध रखते हैं। किसी अन ..

                                     

ⓘ आपस का मज़ाक

English version: In-joke

आपस का मज़ाक ऐसे लतीफ़े या व्यंग्य को कहा जाता है जिसका व्यंग्य केवल उन्हीं लोगों को समझ आये जो किसी विशेष समुदाय, पेशे या अन्य गुट से सम्बन्ध रखते हैं। किसी अन्दर के लतीफ़े को समझने के लिए उस सन्दर्भ की आवश्यकता होती है जो उस समुदाय के पास हो। ऐसे चुटकुले इन समुदायों में जोड़ने में काम आते हैं लेकिन इनकी वजह से अन्य लोग अपने आप को इन समुदायों से बहिष्कृत अनुभव कर सकते हैं।

                                     
  • भ करवड स र यल म द ख य गय ह क अन न क प र पर व र और मह द र भ ऊ क पर व र आपस म ह स मज क लड ई झगड करत और प य र करत ह और ख न बन न
  • क गय थ न शनस ट ट स द व र 1 अप र ल क स ल न त र पर एक मज क क य ज त ह 2004 म मज क यह थ क आब द म भ र कम क क श श क ज रह थ और सभ द श
  • त न त स न क क ज अपन अपन द श क रक ष क ल ए त न त ह ल क न आपस म व ह स - मज क करत ह गप प म रत ह क प टन र जव र स ह र न शरमन ज श
  • न ट क म कव त और स ध रण ब लच ल क म ल न क प रथ श र स रह ह प त र आपस म ब त करत ह ल क न गहर भ वन ओ और स द श क अक सर त कब द क ज र य
  • ह सकत ह इस तरह क अपम न प रत यक ष त र पर क य ज सकत ह य क ष त ररक षक बल ल ब ज क स न न क उद द श य स उ च आव ज म आपस म ब तच त द व र भ
  • फ रन तय क य क स ध उसक प श क पहनकर शहर क चक कर लग य और वह स ध क कपड पहनकर वह च र क तल श म ब ठ आपस म क फ बहस - म ब ह स और द - त न ब र इनक र
  • क एक सम ह पर क द र त ह ज यद - कद स थ रहत ह और अपन न र व ह - खर च आपस म स झ करत ह यह श र खल व र नर ब रदर स ट ल व ज न क स ग ब र ईट क फ म न क र न
  • म बज ज क क ल कर ग रव क अभ व ह स थ त ऐस ह क अगर क ई अन य ब ह र भ ष ब लन व ल स मन म ज द ह त द बज ज क भ ष आपस म ह द म ह ब त करत
  • नह ह क त म ह र द म ग म ऐस बह त - स ब त इस तरह ठ स द ज य ज आपस म लड न लग और त म ह र द म ग उन ह ज वन भर म हज म न कर सक ज स
  • म क ई मज क करन इनक व न द म अश ल ल शब द क प रय ग कम ह त ह क छ च ज ज इनक व य ग य म ब र ब र आई ह - न र ज व वस त ओ क आपस स ब ध न क लन
  • न चढ कर एक शह श ह न बनव क हस त जमहल, हम गर ब क म हब बत क उड य ह मज क क तरह उनक भ ध य न त जमहल क क र गर क श षण पर ह गय व स तव