ⓘ पर्यटन में सहायक वस्तुएँ. पर्यटक अनेक प्रकार की भौगोलिक मानचित्रों, उपकरणों व पुस्तकों का प्रयोग करते हैं। एक सही भौगोलिक मानचित्रावली, किसी भी पर्यटक के लिए सर ..

                                     

ⓘ पर्यटन में सहायक वस्तुएँ

पर्यटक अनेक प्रकार की भौगोलिक मानचित्रों, उपकरणों व पुस्तकों का प्रयोग करते हैं। एक सही भौगोलिक मानचित्रावली, किसी भी पर्यटक के लिए सर्वप्रथम और मुख्य साधन है। बहुत पहले से ही मानव ज्ञात पृथ्वी का लघु नमूना बनाता रहा है। इस समय मापनी एवं प्रक्षेपों का विकास नहीं हुआ था। विद्वान अपने अनुमान से ही मानचित्र बनाते थे। अल-इदरीसी का बनाया मानचित्र इनमें प्रमुख है। आज के वर्तमान मानचित्रों में अक्षांश रेखाएँ एवं देशान्तर रेखाएँ दी हुई होती हैं जिनकी सहायता से किसी भी स्थल के लघु रूप का कागज पर सतही निरीक्षण किया जा सकता है। ये प्राय मापनी पर आधारित होते हैं। आधुनिक मानचित्र उपग्रहों की सहायता से बनाए जाते हैं जो बड़ी मापनी पर अत्यधिक उपयोगी होते है। मानचित्रावली में पर्यटन पुस्तिका, पर्यटन केंद्रों या विभिन्न स्थानों के पर्यटन विभागों के विवरण जहाँ से आसपास के पर्यटन स्थलों के विवरण और अतिथिगृहों के विवरण आसानी से मालूम हो सकें, दिशासूचक या कुतुबनुमा, विभिन्न प्रकार के आँकड़े इत्यादि होते हैं।

भूगोल में सांख्यिकीय आँकड़ों की सहायता से विभिन्न आरेख बनाए जाते हैं। "इसके अन्तर्गत अनेक आरेखों द्वारा पर्यटन के भिन्न-भिन्न पहलुओं का अवलोकन किया जाता है। ये प्रस्तुत आरेख पर्यटन के अनेक पहलुओं का अध्ययन करने में सहायक सिद्घ होते हैं। इनके प्रमुख प्रकार हैं -

  • एकविम आरेख
  • वर्षा परिक्षेपण आरेख
  • जल बजट आरेख
  • पिरैमिड आरेख
  • रेखा आरेख
  • दण्ड आरेख
  • द्विविम आरेख
  • चक्र आरेख
  • आयताकार आरेख
  • वर्गाकार ब्लॉक आरेख
  • ईकाई वर्ग आरेख
  • वलय आरेख
  • त्रिविम आरेख
  • गोलीय आरेख
  • ब्लॉक पुंज आरेख
  • घनारेख
                                     
  •    पर यटन भ ग ल य भ - पर यटन म नव भ ग ल क एक प रम ख श ख ह इस श ख म पर यटन एव य त र ओ स सम बन ध त तत व क अध ययन, भ ग ल क पहल ओ क ध य न
  • एक बड नद ह और ग द वर नद क सह यक नद ह इस नद नद क उदगम स थ न उड स क क ल हन ड ज ल क र मप र थ य म ल म ह नद क क ल लम ब ई 240 म ल 390 क म
  • इसक पर यटन उद य ग म क फ व द ध ह ई ह र ज य न वर ष 2010 - 11 क ल य र ष ट र य पर यटन प रस क र ज त थ मध यप रद श म ख य र प स अपन पर यटन क ल ए
  • प रत ब धकव य पर अभ य स व ज ञ न क और तकन क न त और पर यटन क क ष त र म सम त य गठ त क गय ह वस त ओ सक र त मक सम य जन न त य और मह ल र जग र पर उच च
  • क बन य गय ल क र प म उल ल ख त ह त र त य ग न आख य न म दर ज यह ह द त र थ - स थल ब ह र क प रम ख पर यटन स थल म स एक ह स त मढ नगर क
  • क बच न म अपन सहय ग द त ह इस प रक र क पर यटन क ह ईक ट र ज म कहत ह पर य वरण पर बढ त द ष प रभ व क द खत ह ए सभ द श म पर य वरण - प र म
  • इसक न र म ण मह र व र ज व नय स ह न 1845 म करव य थ इस झ ल स र प रल नद क सह यक नद न कलत ह म नस न म इस झ ल क क ष त रफल बढकर 10.5 वर ग क ल म टर
  • व ज ञ न म ह इसक अल व भ ग लव त त द न क ज वन स सम ब ध त घटन ओ ज स पर यटन स थ न पर वर तन, आव स तथ स व स थ य सम ब ध क र य कल प म सह यक ह सकत
  • य न ट ह ज र ल ग स ट क, पह ए, एक स ल और र ल क अन य सह यक स घटक क व न र म ण म रत ह अर थ त, च तर जन ल क वर क स ड जल इ जन आध न क करण क रख न
  • प र व मह र ष ट र म वर ध नद क एक सह यक नद इरई और झरपट क तट पर स थ त ह च द रप र क अर थ ह च द रम क घर च द रप र म एक इ ज न यर ग क ल ज