ⓘ जुबली पार्क जमशेदपुर. टाटा स्टील द्वारा निर्मित जुबली पार्क जमशेदपुर न्यायलय परिसर के समीप स्थित यह पार्क जमशेदपुर पर्यटन के प्रमुखा आकर्षणों में से एक है। शहर ..

                                     

ⓘ जुबली पार्क जमशेदपुर

टाटा स्टील द्वारा निर्मित जुबली पार्क जमशेदपुर न्यायलय परिसर के समीप स्थित यह पार्क जमशेदपुर पर्यटन के प्रमुखा आकर्षणों में से एक है। शहर के इस केन्द्रीय पार्क के निर्माण की शुरुआत 1937 में श्री एस लैंकस्टर के निर्देशन में शुरु किया गया था परन्तु बीच में इसमें कई बाधाएँ आई। 1955 के अगस्त महीने में इस पार्क का निर्माण टाटा स्टील के आनेवाले 50 वीं वर्षगाँठ को ध्यान में रखकर फिर से शुरु किया गया और इसबार जिम्मेवारी श्री जी एच क्रुम्बिगेल और बी एस निर्दय को दिया गया जो पहले मैसूऔर दिल्ली के राष्ट्रपति भवन के मुगल गार्डन के निर्माण कार्य की देख रेख कर चुके थे।

पूरा बाग लगभग 500 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है तथा इसके उत्तर में दलमा अभयारण्य की सुरम्य दलमा पहाड़ का दृश्य तथा दक्षिण में टाटा स्टील के कारखाने का दृश्य देखने को मिलता है। लगभग दो वर्षों के अंतराल में बनाया गया यह बाग भारत के सबसे खूबसूरत बागों में से एक है। बाग की मुख्य धुरी जमशेदपुर के संस्थापक जमशेदजी टाटा की मूर्ति है और उसके गिर्द फैली है रोज गार्डन, मुगल गार्डन, मुख्य झील, मनोरंजन पार्क और टाटा स्टील वन्य जीव उद्यान और झील के बीचोबीच स्थित कृत्रिम टापू। इसके अलावा मनोरंजन पार्क तथा बच्चों के पार्क में स्केटिंग केन्द्र तथा कैफेटेरिया की सुविधा भी मौजूद है। झील में नौका विहार का आनंद भी लिया जा सकता है।

मुगल गार्डन मे तीन मुख्य फव्वारों के साथ साथ सैकड़ों छोटे संगीतमय फव्वारे रात को खास रोशनी के इंतजाम से जगमगा उठते हैं। संस्थापक दिवस 3 मार्च को बाग में खास रोशनी का इंतजाम और समारोह को देखने के लिये हजारों प्रय्टक आस पास के इलाके से यहाँ आते हैं।

                                     
  • क अल व ड मन ल क, ज बल प र क दलम पह ड ह डक ल क, म द प र क क नन स ट ड यम आद ऐस जगह ह जह पर यटक घ म सकत ह यह प र क ट ट स ट ल न अपन
  • व ज त ओ 30 स त बर 2004 प कट ल कप श र ल क 13 नवम बर 2004 ब स स आई प ल ट नम ज बल म च प क स त न 10 जनवर 2005 व श व क र क ट स न म अप ल आईस स वर ल ड इल वन
  • प क स त न 106 रन स ज त क न न स ट ड यम, जमश दप र अ प यर: ब ल ब ड न न य ज ल ड और क ष ण हर हरन भ रत म च क सर वश र ष ठ ख ल ड र ण न व द - उल - हसन