ⓘ ऐतिहासिक सामग्री. विश्व के प्राचीन इतिहास को जानना एक कठिन प्रक्रिया है। उस समय आधुनिक विश्व के साधन उपलब्ध नहीं थे। लेकिन पुराण, इतिवृत्त, आख्यायिका, उदाहरण, ध ..

अमूर्त संरचना

अमूर्त संरचना एक औपचारिक वस्तु है जो क़ानूनों, गुणों और संबंधों के किसी समुच्चय से इस प्रकार परिभाषित हैं कि वह तार्किक रूप से आकस्मिक अनुभवों से, उदाहरणार्थ जिसमें भौतिक वस्तु शामिल हो, स्वतंत्र हैं।

आयरशायर

आयरशायर स्कॉटलैंड का एक ऐतिहासिक काउंटी और एक पूर्व प्रशासनिक क्षेत्र था। यह दक्षिण पश्चिम स्कॉटलैंड में उपस्थित है। वर्त्तमान रूप में यह केवल एक रजिस्ट्रेशन काउंटी है, और इसका कोई विशेष प्रशासनिक कार्य नहीं है, क्योंकि इसे उत्तर आयरशायर, दक्षिण आयरशायर और पश्चिम आयरशायर में विभाजित कर दिया गया है। इसकी आबादी ३,६६,८०० के करीब है।

                                     

ⓘ ऐतिहासिक सामग्री

विश्व के प्राचीन इतिहास को जानना एक कठिन प्रक्रिया है। उस समय आधुनिक विश्व के साधन उपलब्ध नहीं थे। लेकिन पुराण, इतिवृत्त, आख्यायिका, उदाहरण, धर्मशास्त्और अर्थशास्त्र में प्राचीन आर्यों के इतिहास को पाया जा सकता है। किसी देश के इतिहास का अध्ययन करने के लिए इस सभी सामग्री को दो भागों में बाँटा जा सकता है- साहित्यिक तथा पुरातात्विक।

साहित्यिक सामग्री को पहले दो भागों में विभक्त किया जाता है- धार्मिक साहित्य तथा इहलोकपरक साहित्य। इसमें धार्मिक साहित्य भी दो प्रकार का है- ब्राह्मण ग्रंथ तथा अब्राह्मण ग्रंथ। इहलोकपरक साहित्य में ऐतिहासिक, अर्ध ऐतिहासिक, विदेशी विवरण, जीवनियाँ, कल्पना प्रधान तथा गल्प साहित्य आते हैं। पुरातात्विक सामग्रियों में अभिलेख, प्राचीन स्मारक और मुद्राएँ आते हैं।

                                     
  • गय ल ख त स मग र क अन य प रक र क स मग र - ज स ख डहर, शव, बर तन, ध त अन न, स क क ख ल न तथ य त य त क स धन आद क सहय ग द व र ऐत ह स क ज ञ न क
  • क बह म ख व य पकत क क रण स वल प स मग र क सह र व गत य ग अथव सम ज क च त रन र म ण करन द स ध य ह स मग र ज तन ह अध क ह त ज त ह उस अन प त
  • क च त रण ऐत ह स क उपन य स ह सकत ह र गभ म ब द और सम द र, झ ठ सच और उत तरकथ भ अपन य ग क प र म ण क च त रण करन क क रण, ऐत ह स क उपन य स ह
  • और वह अब क वल आकस म क घटन ओ क प ज म त र नह रह गय ह ऐत ह स क भ त कव द न ऐत ह स क व च रध र क अत यध क प रभ व त क य ह 17 म र च 1883 क क र ल
  • स ह त य क स मग र य क प रक शन म महत व द त ह य ह न द म प रय क त व शब द ह ज नक जन म स स क त य प र क त म ह आ थ ल क न उनम ऐत ह स क द ष ट
  • ऐत ह स क भ व ज ञ न Historical geology क अन तर गत भ व ज ञ न क स द ध न त क उपय ग करक प थ व क इत ह स क प नर रचन क ज त ह और उस समझन क क श श
  • अध ययन ज ञ न और श ध क वह श ख ह ज सम म ड य द व र प रस त त स मग र म ड य क ऐत ह स क व क स, म ड य क प रभ व और म ड य क य गद न इत य द व षय
  • ह व द क क ल स ल कर अपन समय तक ज य त ष स ब ध स मग र एकत र त कर उसपर आध र त अन म न क ऐत ह स क द ष ट क ण स आपन व व चन क ह इसक ल ए 500 स
  • ह त ह यह एक प रक र स स हल म प र प त स मग र क कच च पक क प ल म अन व द म त र ह ज स क ल क ऐत ह स क ल ख ज ख द पव स न स रक ष त रख ह वह
  • प रश क ष अध क र य क ल ए स भ ड र त तकन क ग र थ लय, क प य टर क द र, स मग र पर क षण प रय गश ल म डल कक ष, स ग रह लय, छ त र व स, भ जन कक ष एव मन र जन