ⓘ फ़ारस प्राचीन काल के कई साम्राज्यों के केन्द्र रहे प्रदेशों को कहते हैं जो आधुनिक ईरान से तथा उससे संलग्न क्षेत्रों में फैला था। फ़ारस का साम्राज्य कई बार विशाल ..

                                     

ⓘ फ़ारस

English version: History of Iran

फ़ारस प्राचीन काल के कई साम्राज्यों के केन्द्र रहे प्रदेशों को कहते हैं जो आधुनिक ईरान से तथा उससे संलग्न क्षेत्रों में फैला था। फ़ारस का साम्राज्य कई बार विशाल बन गया और फिर ढह गया। एक समय इसका विस्तार मध्य यूरोप से लेकर भारत के पश्चिमी छोर तक तथा मध्य एशिया से लेकप मिस्र तक था। १९३५ में रजाशाह पहलवी ने तत्कालीन फारस का नाम बदलकर ईरान कर दिया। इसके निवासियों के संयुक्त रूप से फारसी कहते हैं, यद्यपि इसके निवासियों में जातीय विविधता है।

                                     
  • अ तरर ष ट र य जल सर व क षण स गठन इसक ल ए ईर न क ख ड फ रस क ख ड न म क इस त म ल करत ह फ रस क ख ड क र ष ट र य द वस Persian Gulf, Encyclopedia
  • अरब ल ग, ज न ह न फ रस पर स तव सद क अ त तक अध क र कर ल य थ क वर णम ल म प अक षर नह ह त ह इस क रण स व इस फ रस कहत थ और यह न म
  • फ र स दक ष न ईर न म एक प र त ह
  • फ रस स म र ज य ईस प र व 559 - 1935 फ रस आज क ईर न और उसक प रभ व क इल क स श सन करन व ल व भ न न व श क स म र ज य क सम म ल त र प स कह ज त
  • फ रस - अरब ल प य स र फ फ रस ल प الفبای فارسی अल फ ब ई फ रस अरब ल प पर आध र त एक ल प ह ज सक प रय ग फ रस उर द स न ध प ज ब और अन य
  • फ रस भ ष और स ह त य अपन मध रत क ल ए प रस द ध ह फ रस ईर न द श क भ ष ह पर त उसक न म फ रस इस क रण पड क फ रस ज वस त त: ईर न क एक प र त
  • क इस द न यह न र णय ल य गय क फ रस क ख ड क ऐत ह स क तथ प र च न न म क द खत ह ए हर स ल 30 अप र ल क द न फ रस क ख ड क र ष ट र य द वस क त र
  • ए ग ल - फ रस य द ध 1 नव बर, 1856 और 4 अप र ल, 1857 क ब च चल थ और ग र ट ब र ट न और फ रस ज उस समय क ज र व श द व र श स त थ क ब च लड गय थ य द ध
  • फ रस व क प ड य व क प ड य क फ रस अवतरण ह
  • दर य दर फ रस دری अफ ग न स त न म प रचल त आध न क फ रस क एक र प ह पश त क स थ - स थ यह अफ ग न स त न क द स व ध न क र जभ ष ओ म स एक ह
  • पहल अध य य फ रस क ख ड क न म स स ब ध त र जन त क व भ ग ल क व व द फ रस क ख ड क न म स स ब ध त ऐत ह स क दस त व ज और फ रस क ख ड क