ⓘ साहित्य. किसी भाषा के वाचिक और लिखित को साहित्य कह सकते हैं। दुनिया में सबसे पुराना वाचिक साहित्य हमें आदिवासी भाषाओं में मिलता है। इस दृष्टि से आदिवासी साहित्य ..

पुस्तक

पुस्तक या किताब लिखित या मुद्रित पन्नो के संग्रह को कहते हैं। डिजिटल पुस्तकों को ई-पुस्तक कहते हैं जबकि हस्तलिखित पुस्तकोँ को पांडुलिपियां कहते हैँ। एक स्थूल पदार्थ के रूप में पुस्तक सामान्यतः आयताकार पृष्ठों का एक पुलिंदा है जिसे कागज़, पेपिरस, चर्मपत्र या भोजपत्र से निर्मित किया जाता है और जिसे एक ओर से बाँधकर या सीं कर या फिर किसी अन्य माध्यम से एक साथ इस प्रकार से दृढ कर दिया जाता है कि उसे सरलता से पढ़ा जा सके। आज पुस्तकें सिर्फ स्थूल रूप में ही उपलब्ध नहीं हैं, बल्कि संचार क्रांति के फलस्वरूप वह ई-पुस्तकों और दूसरे रूपों में भी उपलब्ध हैं। जिस स्थान पर बहुत सी पुस्तकों को व्यवस्थित औ ...

उपन्यास

अर्नेस्ट ए. बेकर ने उपन्यास की परिभाषा देते हुए उसे गद्यबद्ध कथानक के माध्यम द्वारा जीवन तथा समाज की व्याख्या का सर्वोत्तम साधन बताया है। यों तो विश्वसाहित्य का प्रारंभ ही संभवत: कहानियों से हुआ और वे महाकाव्यों के युग से आज तक के साहित्य का मेरुदंड रही हैं, फिर भी उपन्यास को आधुनिक युग की देन कहना अधिक समीचीन होगा। साहित्य में गद्य का प्रयोग जीवन के यथार्थ चित्रण का द्योतक है। साधारण बोलचाल की भाषा द्वारा लेखक के लिए अपने पात्रों, उनकी समस्याओं तथा उनके जीवन की व्यापक पृष्ठभूमि से प्रत्यक्ष संबंध स्थापित करना आसान हो गया है। जहाँ महाकाव्यों में कृत्रिमता तथा आदर्शोन्मुख प्रवृत्ति की स्पष् ...

साहित्येतिहास

साहित्येतिहास से आशय गद्य और पद्य के रूप में लिखे गये सम्पूर्ण साहित्य के विकास के इतिहास से है। साहित्य के अन्तर्गत वह सब कुछ आ जाता है जो पाठकों/श्रोताओं/दर्शकों को मनोरंजन प्रदान करे, शिक्षा दे या उनका प्रबोधन करे।

पत्रिका

Outdoor ConferenceOutdoor Conference पत्रिका वह नियतकालिक कृति है जो मुख्यतः साप्ताहिक होती है। जिसमे विचारतत्व प्रधान होता है। पत्रिकाओं का प्रकाशन एक दिवसीय से लेकर साप्ताहिक,पाक्षिक,मासिक त्रैमासिक, छमाही,वार्षिक व अनियतकालीन भी होता है। पत्रिका एक प्रकाशन है, आमतौपर एक आवधिक प्रकाशन, जो मुद्रित या इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रकाशित होता है कभी-कभी ऑनलाइन पत्रिका के रूप में संदर्भित। पत्रिका आम तौपर एक नियमित समय पर प्रकाशित होती है और इसमें विभिन्न प्रकार की सामग्री होती है। वे आम तौपर विज्ञापन द्वारा, एक खरीद मूल्य द्वारा, प्रीपेड सदस्यता या तीनों के संयोजन द्वारा वित्तपोषित होते हैं। इसकी ...

समाचारपत्र

समाचार पत्र या अख़बार, समाचारो पर आधारित एक प्रकाशन है, जिसमें मुख्यत: सामयिक घटनायें, राजनीति, खेल-कूद, व्यक्तित्व, विज्ञापन इत्यादि जानकारियां सस्ते कागज पर छपी होती है। समाचार पत्र संचार के साधनो में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। समाचारपत्र प्रायः दैनिक होते हैं लेकिन कुछ समाचार पत्र साप्ताहिक, पाक्षिक, मासिक एवं छमाही भी होतें हैं। अधिकतर समाचारपत्र स्थानीय भाषाओं में और स्थानीय विषयों पर केन्द्रित होते हैं।

साहित्यिक समालोचना

साहित्य के पाठ अध्ययन, विश्लेषण, मूल्यांकन एवं अर्थ निगमन की प्रक्रिया साहित्यिक समालोचना कहलाती है। समालोचना का कार्य कृति के गुण दोष विवेचन के साथ उसका मूल्य अंकित करना है।

जापानी साहित्य

जापानी साहित्य काफी पुराना है। जापानी साहित्य की आरम्भिक रचनाएँ चीन और चीनी साहित्य के साथ जापान के सांस्कृतिक सम्बन्धों से बहुत प्रभावित हैं। भारतीय साहित्य ने भी बौद्ध धर्म के माध्यम से जापानी साहित्य पर अपनी छाप छोड़ी। किन्तु समय के साथ जापानी साहित्य की अपनी अलग शैली विकसित हुई किन्तु फिर भी चीनी साहित्य का प्रभाव एदो काल तक बना रहा। १९वीं शताब्दी में जब से जापान ने अपने बन्दरगाहों को पश्चिमी व्यापारियों एवं राजनयिकों के लिए खोल दिया है, तब से पश्चिमी साहित्य तथा जापानी साहित्य ने एक दूसरे को प्रभावित किया है।

जर्मन भाषा का साहित्य

जर्मन साहित्य, संसार के प्रौढ़तम साहित्यों में से एक है। जर्मन साहित्य सामान्यत: छह-छह सौ वर्षों के व्यवधान में विभक्त माना जाता है। प्राचीन काल में मौखिक एवं लिखित दो धाराएँ थीं। ईसाई मिशनरियों ने जर्मनों को रुने वर्णमाला दी। प्रारंभ में ईसामसीह पर आधारित साहित्य रचा गया। प्रारंभ में वीरकाव्य एपिक मिलते हैं। स्काप्स का "डासहिल्डे ब्रांडस्ल्डि", पिता पुत्र के बीच मरणांतक युद्धकथा जर्मन बैलेड साहित्य की उल्लेख्य कृति है। ओल्ड टेस्टामेंट के अनेक अनुवाद हुए। जर्मन साहित्य के विभिन्न काल

चेक साहित्य

चेकोस्लोवाकिया के प्रथम लिखित साहित्यिक उदाहरण प्राचीन स्लाव भाषा में 9-11वीं शताब्दी में लिखे गए थे, जिनमें से विशेषकर गीत, लोककथाएँ और पौराणिक गाथाएँ आज तक सुरक्षित हैं। सन् 1125 में सबसे पुरातन ऐतिहासिक कृति "कोस्मस घटनावली" की रचना हुई थी, उसके बाद शांति के अनेक गीत तथा भजन चेक साहित्य के आधर बन गए जिनमें से एक "प्रभु, हम पर दया करें" नामक भजन सबसे प्रसिद्ध है। एक अन्य धार्मिक गीत का नाम है, "संत वात्स्लव भजन"। प्राचीन स्लाव भाषा के अतिरिक्त अनेक लेख लैटिन में भी चेक लेखकों द्वारा लिखे गए थे। 13वीं-4वीं शताब्दियों में चेक भाषा, जो प्राहा नामक प्रदेश की उपभाषा थी, साहित्यिक भाषा के पद प ...

                                     

ⓘ साहित्य

English version: Literature

किसी भाषा के वाचिक और लिखित को साहित्य कह सकते हैं। दुनिया में सबसे पुराना वाचिक साहित्य हमें आदिवासी भाषाओं में मिलता है। इस दृष्टि से आदिवासी साहित्य सभी साहित्य का मूल स्रोत है। साहित्य - स+हित+य के योग से बना है

                                     

1. भारतीय साहित्य

भारतीय वाङ्मय को काल की दृष्टि से निम्नलिखित भागों में विभक्त किया गया है -

भारत का संस्कृत साहित्य ऋग्वेद से आरम्भ होता है। व्यास, वाल्मीकि जैसे पौराणिक ऋषियों ने महाभारत एवं रामायण जैसे महाकाव्यों की रचना की। भास, कालिदास एवं अन्य कवियों ने संस्कृत में नाटक लिखे।

भक्ति साहित्य में अवधी में गोस्वामी तुलसीदास, ब्रज भाषा में सूरदास तथा रैदास, मारवाड़ी में मीराबाई, खड़ीबोली में कबीर, रसखान, मैथिली में विद्यापति आदि प्रमुख हैं। अवधी के प्रमुख कवियों में रमई काका सुप्रसिद्ध कवि हैं।

हिन्दी साहित्य में कथा, कहानी और उपन्यास के लेखन में प्रेमचन्द का महान योगदान है।

ग्रीक साहित्य में होमर के इलियड और ऑडसी विश्वप्रसिद्ध हैं। अंग्रेज़ी साहित्य में शेक्स्पियर का नाम कौन नहीं जानता।

                                     
  • ज सकत ह पर त ह न द स ह त य क जड मध यय ग न भ रत क अवध म ग ध अर धम गध तथ म रव ड ज स भ ष ओ क स ह त य म प ई ज त ह ह द म
  • ब गल भ ष क स ह त य स थ ल र प स त न भ ग म ब ट ज सकत ह - 1. प र च न 950 - 1, 200 ई. 2. मध य क ल न 1, 200 - 1, 800 ई. तथ 3. आध न क - 1, 800 क
  • भ रत क स ह त य अक दम भ रत य स ह त य क व क स क ल य सक र य क र य करन व ल र ष ट र य स स थ ह इसक गठन म र च क भ रत सरक र द व र क य गय
  • भ रत य स ह त य स त त पर य सन क पहल तक भ रत य उपमह द व प एव तत पश च त भ रत गणर ज य म न र म त व च क और ल ख त स ह त य स ह द न य म सबस
  • कन नड स ह त य क इत ह स लगभग ड ढ हज र वर ष प र न ह क छ स ह त य क क त य ज व शत ब द म रच गय थ अब भ स रक ष त ह कन नड स ह त य क म ख यत
  • इसव तक उड य स ह त य म धर म, द व - द व क च त रण ह म ख य ध य य ह आ करत थ पर स ह त य त सम प र ण र प स क व य पर ह आध र त थ उड य भ ष क
  • वर तम न स ह त य ह न द क एक पत र क ह यह स ह त य कल और स च क पत र क म स क क र प म प रक श त ह त रह ह क छ समय क ल ए यह पत र क त र म स क
  • र श द ज त ह नक द र श इस समय एक ल ख र पए ह स ह त य अक द म द व र अन व द प रस क र, ब ल स ह त य प रस क र एव य व ल खन प रस क र भ प रत वर ष व भ न न
  • उड य भ ष ओ स प रभ व त ह ई ह छत त सगढ स ह त य म भ रत य स स क त क तत व वर तम न ह इस स ह त य म अन क ल ककथ ए ह ज नक म ल भ व भ रत क अन य
  • अख ल भ रत य ह न द स ह त य सम म लन, ह न द भ ष एव स ह त य तथ द वन गर क प रच र - प रस र क समर प त एक प रम ख स र वजन क स स थ ह इसक म ख य लय प रय ग
  • व द क स ह त य भ रत य स स क त क प र च नतम स वर प पर प रक श ड लन व ल तथ व श व क प र च नतम स र त ह व द क स ह त य क श र त भ कह ज त ह क य क
                                     

साधु भाषा

बांग्ला साहित्य के सन्दर्भ में साधु भाषा उस ऐतिहासिक भाषा-शैली का नाम है जो १९वीं और २०वीं शताब्दी के साहित्यिक कृतियों में प्रयुक्त हुई। उदाहरण के लिए, बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय द्वारा रचित आनन्द मठ की भाषा, साधु भाषा है। साधु भाषा का उपयोग केवल लिखित रूप में ही होता था। इससे भिन्न भाषा को चलित भाषा कहते हैं जो बोलने और लिखने में एकसमान रहती है।