ⓘ इण्डिका, मेगस्थनीज द्वारा रचित पुस्तक. इंडिका ग्रीक लेखक मेगस्थनीज द्वारा मौर्यकालीन भारत का एक लेख है। यह मूल रूप से प्राप्त नहीं हुई है परन्तु इसके कुछ भाग पर ..

                                     

ⓘ इण्डिका (मेगस्थनीज द्वारा रचित पुस्तक)

English version: Indica (Megasthenes)

इंडिका ग्रीक लेखक मेगस्थनीज द्वारा मौर्यकालीन भारत का एक लेख है। यह मूल रूप से प्राप्त नहीं हुई है परन्तु इसके कुछ भाग परवर्ती लेखकों के ग्रंथों से प्राप्त हुए है इनमें डियोडोरस, सुकीलस, स्ट्रैबो, प्लिनी और एरियन, प्लूटार्क, जस्टिन के नाम उल्लेखनीय है।

                                     

1. पुनर्निर्माण

मेगस्थनीज की इंडिका को बाद के लेखकों द्वारा प्रत्यक्ष उद्धरण या पैराफेरेस के रूप में संरक्षित भागों का उपयोग करके फिर से बनाया जा सकता है। मूल पाठ से संबंधित भागों की पहचान बाद की रचनाओं, समान शब्दावली और शब्दावली पर आधारित कार्यों से की जा सकती है, तब भी जब सामग्री को मेगास्थनीज के लिए स्पष्ट रूप से जिम्मेदार नहीं ठहराया गया हो। फेलिक्स जेकोबी के फ्रैगमेंटे डेर ग्रिचिसचेन हिस्टोरिकर में मेगास्थनीज के 36 पेज के कंटेंट हैं।

                                     

2. ऐतिहासिक विश्वसनीयता

बाद के लेखक जैसे एरियन, स्ट्रैबो, डियोडोरस और प्लिनी ने इंडिका का उल्लेख अपने कामों में किया। इन लेखकों में से, एरियन मेगास्थनीज के सबसे अधिक बोलता है, जबकि स्ट्रैबो और प्लिनी उसे कम सम्मान के साथ मानते हैं।

पहली शताब्दी के ग्रीक लेखक स्ट्रैबो ने मेगस्थनीज और उसके सफल राजदूत डीमाचस लीअर्स दोनों को बुलाया, और कहा कि "कोई भी विश्वास नहीं" उनके लेखन में रखा जा सकता है।

                                     
  • इण ड क Indica स न म नल ख त च ज क ब ध ह त ह - इण ड क एर अन द व र रच त प स तक इण ड क म गस थन ज द व र रच त प स तक ट ट इ ड क क र
  • ह म गस थन ज ज स ल य कस न क टर क र जद त थ उसन इण ड क न मक प स तक म म र यय ग न सम ज तथ स स क त व षय क ल ख ह इण ड क स य न न य द व र भ रत
  • र जतर ग ण म भ व द श म द त क न य क त क वर णन ह म गस थन ज क प स तक इण ड क म म र यक ल न भ रत क र जन त क दश ओ क वर णन ह ब न द स र