ⓘ मित्तानी साम्राज्य यह सा्म्राज्य कई सदियों तक पश्चिम एशीया में राज करता रहा। इस वंश के सम्राटों के संस्कृत नाम थे। विद्वान समझते हैं कि यह लोग महाभारत के पश्चात ..

                                     

ⓘ मित्तानी साम्राज्य

English version: Mitanni

मित्तानी साम्राज्य यह सा्म्राज्य कई सदियों तक पश्चिम एशीया में राज करता रहा। इस वंश के सम्राटों के संस्कृत नाम थे। विद्वान समझते हैं कि यह लोग महाभारत के पश्चात भारत से वहां प्रवासी बने। कुछ विद्वान समझते हैं कि यह लोग वेद की मैत्रायणीय शाखा के प्रतिनिधि हैं।

मित्तानी देश की राजधानी का नाम वसुखानी धन की खान था।

इस वंश के वैवाहिक सम्बन्ध मिस्र से थे। एक धारणा यह है कि इनके माध्यम से भारत का बाबिल, मिस्और यूनान पर गहरा प्रभाव पडा।

                                     

1. मित्तानी वंशावली

  • वसुक्षत्र Wasashatta, son of Shattuara 1300 BC-1280 BC
  • Shaushtatar son of Parshata tar) 1440 BC-1410 BC
  • सत्वर्ण 3 Shuttarna III 1350 BC, son of an usurper Artatama II
  • आर्ततम 1 Artatama I 1410 BC-1400 BC
  • Parshatatar, may be identical with Barattarna 1450 BC-1440 BC
  • तुष्यरथ अथवा दशरथ en:Tushratta 1380 BC-1350 BC
  • अर्थसुमेढ़ Artashumara 1385 BC-1380 BC
  • क्षत्रवर 1 Shattuara I 1320 BC-1300 BC
  • सत्वर्ण 2 Shuttarna II 1400 BC-1385 BC
  • कीर्त्य Kirta 1500 BC-1490 BC
  • वरतर्ण Barattarna, P/Barattama 1470 BC-1450 BC
  • मतिवाज Shattiwaza or Mattivaza, son of Tushratta 1350 BC-1320 BC
  • सत्वर्ण 1 en:Shuttarna I, son of Kirta 1490 BC-1470 BC
  • क्षत्रवर 2 Shattuara II, son or nephew of Wasashatta 1280 BC-1270 BC, or maybe the same king as Shattuara I.

All dates must be taken with caution since they are worked out only by comparison with the chronology of other ancient Near Eastern nations.

                                     
  • Kadesh र म स स द व त य क न त त व म म स र स म र ज य और म व त ल ल द व त य क न त त व म ह त त त स म र ज य क ब च क द श न म क नगर म ह आ थ यह य द ध