ⓘ प्रागितिहास इतिहास के उस काल को कहा जाता है जब मानव तो अस्तित्व में थे लेकिन जब लिखाई का आविष्कार न होने से उस काल का कोई लिखित वर्णन नहीं है। इस काल में मानव-इ ..

                                     

ⓘ प्रागितिहास

English version: Prehistory

प्रागितिहास इतिहास के उस काल को कहा जाता है जब मानव तो अस्तित्व में थे लेकिन जब लिखाई का आविष्कार न होने से उस काल का कोई लिखित वर्णन नहीं है। इस काल में मानव-इतिहास की कई महत्वपूर्ण घटनाएँ हुई जिनमें हिमयुग, मानवों का अफ़्रीका से निकलकर अन्य स्थानों में विस्तार, आग पर स्वामित्व पाना, कृषि का आविष्कार, कुत्तों व अन्य जानवरों का पालतू बनना इत्यादि शामिल हैं। ऐसी चीज़ों के केवल चिह्न ही मिलते हैं, जैसे कि पत्थरों के प्राचीन औज़ार, पुराने मानव पड़ावों का अवशेष और गुफाओं की कला। पहिये का आविष्कार भी इस काल में हो चुका था जो प्रथम वैज्ञानिक आविष्कार था

इतिहासकार प्रागैतिहास को कई श्रेणियों में बांटते हैं। एक ऐसी विभाजन प्रणाली में तीन युग बताए जाते हैं:

  • लौह युग - जब औज़ारो व हथियारों में लोहे का इस्तेमाल शुरू हो गया।
  • पाषाण युग - जब औज़ार व हथियार केवल पत्थर के ही बनते थे।
  • कांस्य युग - जब औज़ार व हथियार कांसे ब्रॉन्ज़​ के बनाने लगे।

प्रागैतिहासिक काल में मानवों का वातावरण बहुत भिन्न था। अक्सर मानव छोटे क़बीलों में रहते थे और उन्हें जंगली जानवरों से जूझते हुए शिकारी-फ़रमर जीवन व्यतीत करना पड़ता था। विश्व की अधिकतर जगहें अपनी प्राकृतिक स्थिति में थीं। ऐसे कई जानवर थे जो आधुनिक दुनिया में नहीं मिलते, जैसे कि मैमथ और बालदार गैंडा। विश्व के कुछ हिस्सों में आधुनिक मानवों से अलग भी कुछ मानव जातियाँ थीं जो अब विलुप्त हो चुकी हैं, जैसे कि यूरोप और मध्य एशिया में रहने वाले निअंडरथल मानव। अनुवांशिकी अनुसन्धान से पता चला है कि भारतीयों-समेत सभी ग़ैर-अफ़्रीकी मानव कुछ हद तक इन्ही निअंडरथलों की संतान हैं, यानि आधुनिक मानवों और निअंडरथलों ने आपस में बच्चे पैदा किये थे।

                                     
  • अन प र प ष ण क ल Epipaleolithic प र र भ क प र ग त ह स क एक चरण ह ज आज स लगभग 12, 500 वर ष पहल प र प ष ण क ल क ब द और मध यप ष ण क ल क पहल आत
  • त र - य ग पद धत three - age system म प र ग त ह स क त न स व भ ज य क लखण ड म ब ट ज त ह ज स प ष ण य ग, क स यय ग, ल हय ग
  • भ रत य उपमह द व प क प र ग त ह स म ल ह य ग गत हड प प स स क त कब र स स क त क उत तरग म क ल कहल त ह वर तम न म उत तर भ रत क म ख य ल ह य ग
  • क य न फ र म र क र ड क स थ श र ह आ प र र भ क र जव श य र ज यह प र प र ग त ह स 6 व शत ब द ईस प र व क अ त म य त आचम न द स म र ज य क आगमन क
  • ग ह क आर प disconfirming. अपन न ब ध, भ रत म स म द य क व न क क प र ग त ह स 2001 क ल ए अम र कन स स यट क ल ए पर य वरण य इत ह स Hidy प रस क र
  • व सद क अन स र उनक स ख य लगभग थ म ड ल ग क प र ग त ह स अस पष ट ह यद यप उन ह छ ट न गप र म क स आए, यह व व द त ह ल क न
  • हड प प सम ज प र तरह स श त प र ण नह थ म नव क क ल दक ष ण एश य ई प र ग त ह स म प ए गए च ट 15.5 क उच चतम दर क प रदर शन करत ह प ल य प थ ल ज कल
  • र मन स ल ल ख म ल ड न यम अर थ त: ल दन म शब द श म ल ह 2.1 प र ग त ह स 2.2 र मन ल दन 2.3 ए ग ल - स क सन ल दन और व इक ग अवध 2.4 मध य य ग 2
  • सहय ग म लत ह प र ग त ह स और प र र भ क ल खन क इत ह स क ब च व द व न एक अ तर म नत ह परन त इस ब त पर सहमत नह ह क कब प र ग त ह स इत ह स बन ज त
  • इत ह स History क प रय ग व श षत: द अर थ म क य ज त ह एक ह प र च न अथव व गत क ल क घटन ए और द सर उन घटन ओ क व षय म ध रण इत ह स शब द इत