ⓘ वांग शुआन-त्सो, 7 वीं शताब्दी में तांग राजवंश के एक संरक्षक अधिकारी और राजनयिक थे। 648 में, तांग राजवंश के महाराजा ताईज़ोंग ने भारतीय सम्राट हर्षवर्धन के चीन मे ..

                                     

ⓘ वांग शुआन-त्सो

English version: Wang Xuance

वांग शुआन-त्सो, 7 वीं शताब्दी में तांग राजवंश के एक संरक्षक अधिकारी और राजनयिक थे। 648 में, तांग राजवंश के महाराजा ताईज़ोंग ने भारतीय सम्राट हर्षवर्धन के चीन में राजदूत भेजने के प्रतिक्रियास्वरूप उन्हें भारत भेजा था। हालाँकि उनके भारत पहुँचते ही उन्हें पता चला कि हर्षवर्धन की मृत्यु हो गई, और नए राजा अर्जुन झा ने वांग और उनके ३० घुड़सवार अधीनस्थों पर हमला किया। इसके बाद वांग तिब्बत भाग गये और फिर उन्होंने 7.000 से अधिक नेपाली घुड़सवार पैदल सेना और 1.200 तिब्बती पैदल सेना लेकर भारतीय राज्य पर 16 जून को जवाबी हमला किया। इस हमले की सफलता ने वांग को "ग्रैंड मास्टर फॉर द क्लोज़िंग कोर्ट" का प्रतिष्ठित खिताब दिलवाया। उन्होंने चीन के लिए एक कथित बौद्ध अवशेष भी हासिल किया। मगध साम्राज्य से २००० कैदियों को नेपाली और तिब्बती सेनाओँ द्वारा वांग के अधीन ले जाया गया। तिब्बती और चीनी लेखन दस्तावेज़ में तिब्बत के सैनिकों के साथ भारत पर वांग के हमले का वर्णन है। नेपाल को तिब्बती राजा सोंगत्सेन ने अपने अधीन कर लिया। बंदियों के बीच भारतीय ढोंगी भी था। युद्ध 649 में हुआ। ताईज़ोंग की कब्र में भारतीय ढोंगी की मूर्ति थी। उसका नाम चीनी रिकॉर्ड में "ना-फू-टी ओ-लो-न-शुएन" के रूप में दर्ज किया गया था। युद्ध 3 दिनों तक चला था।

उन्होंने पुस्तक झांग तियानझू गुओटू मध्य भारत का व्याख्याकृत वर्णन लिखी, जिसमें भौगोलिक जानकारी का खजाना शामिल था।