ⓘ दृश्य कला, कला का वह रूप है जो मुख्यत: दृश्य प्रकृति की होती हैं। जैसे - रेखाचित्र, चित्रकला, मूर्तिकला, वास्तुकला, फोटोग्राफी, विडियो, चलचित्र आदि। किन्तु आजकल ..

चित्रकला

चित्रकला का प्रचार चीन, मिस्र, भारत आदि देशों में अत्यंत प्राचीन काल से है। मिस्र से ही चित्रकला यूनान में गई, जहाँ उसने बहुत उन्नति की। ईसा से १४०० वर्ष पहले मिस्र देश में चित्रों का अच्छा प्रचार था। लंदन के ब्रिटिश संग्रहालय में ३००० वर्ष तक के पुराने मिस्री चित्र हैं। भारतवर्ष में भी अत्यंत प्राचीन काल से यह विधा प्रचलित थी, इसके अनेक प्रमाण मिलते हैं। रामायण में चित्रों, चित्रकारों और चित्रशालाओं का वर्णन बराबर आया है। विश्वकर्मीय शिल्पशास्त्र में लिखा है कि स्थापक, तक्षक, शिल्पी आदि में से शिल्पी को ही चित्र बनाना चाहिए। प्रकृतिक दृश्यों को अंकित करने में प्राचीन भारतीय चित्रकार कितने ...

                                     

ⓘ दृश्य कला

English version: Visual arts

दृश्य कला, कला का वह रूप है जो मुख्यत: दृश्य प्रकृति की होती हैं। जैसे - रेखाचित्र, चित्रकला, मूर्तिकला, वास्तुकला, फोटोग्राफी, विडियो, चलचित्र आदि। किन्तु आजकल दृष्यकला में ललित कलाएँ तथा हस्तकलाएँ शामिल मानी जातीं हैं।

                                     
  • प र क त क द श य क एक व य पक व स त र ह ज सम ध र व य क ष त र क बर फ ल प र क त क द श य पह ड प र क त क द श य व स त त मर स थल य प र क त क द श य द व प
  • कल आर ट शब द इतन व य पक ह क व भ न न व द व न क पर भ ष ए क वल एक व श ष पक ष क छ कर रह ज त ह कल क अर थ अभ तक न श च त नह ह प य ह यद यप
  • न ष प दन कल ए performing arts व कल ए ह ज नम कल कर अपन ह शर र, म खम डल, भ व - भ ग म आद क प रय ग कर कल क प रदर शन करत ह द श य कल म न श प दन
  • द श य - श रव य स मग र य ह त एक व श ष ट प स तक लय क व क स करन कल - इत ह स, कल - सम क ष कल - प र त स हन, स ग रह व ज ञ न तथ द श य एव अभ न त कल ओ क
  • अध ययन क क र य करत ह कल दर शन : इस इक ई क क र य इस क द र द व र क ए गए श ध क र य और अध ययन क प रदर शन य क म ध यम स द श य र प म पर वर त त करन
  • पल लव कल एक प रस द ध प र च न भ रत य कल ह पल लव क व स त कल स च र प रम ख कल क श ल य व कस त ह ई - मह द रवर मन श ल म मल ल श ल र जस ह
  • म द र कल ओ स ल कर आध न क कल र प तक क भ म क उल ल खन य ह क रल य कल ओ क स म न यत द वर ग म ब ट सकत ह - एक द श य कल और द सर श रव य कल द श य
  • र जमर र क भ षण और श क षण क प रवचन द न म इस शब द क उपय ग स म न यत द श य कल क स दर भ म ह त ह क त प र य इस शब द क प रय ग मन र जन क स दर भ
  • प रक श आद स बन य ज सकत ह म र त कल एक अत प र च न कल ह भ रत क व स त श ल प, म र त कल कल और श ल प क जड भ रत य सभ यत क इत ह स म बह त