ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 8

प्रथम हिन्दचीन युद्ध

प्रथम हिन्दचीन युद्ध, फ्रांस और वियत मिन्ह के बीच १९४० से १९५४ तक चला। वियतनामी लोग हिन्दचीन पर फ्रांस के पुनः कब्जे से स्वतंत्रता चाहते थे। इसमें संयुक्त राज्य अमेरिका भी फ्रांस की सहायता कर रहा था। अन्ततः १९५४ में फ्रांस की पराजय हुई, चार देश स ...

चन्द्रमा

चन्द्रमा पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है। यह सौर मंडल का पाचवाँ,सबसे विशाल प्राकृतिक उपग्रह है। इसका आकार क्रिकेट बॉल की तरह गोल है। और यह खुद से नहीं चमकता बल्कि यह तो सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित होता है। पृथ्वी से चन्द्रमा की दूरी ३८४,४०३ ...

आदि भीषण बमबारी

आदि भीषण बमबारी, लगभग ४.१ से ३.८ अरब वर्षों पूर्व की एक अवधि है, जिसके दरम्यान माना जाता है कि चन्द्रमा पर बड़ी संख्या के संघात क्रेटरों का गठन हुआ |

कैंटर (गड्ढा)

कैंटर चंद्रमा के फार साइड की ओर उत्तरी गोलार्ध में स्थित एक चंद्र इम्पैक्ट गड्ढा है। गड्ढा के बाहरी रिम में एक स्पष्ट रूप से हेक्सागोनल आकार है और उत्तर-दक्षिण दिशा में थोड़ा अधिक बड़ा है। आंतरिक दीवारें बहुत सीढ़ीदार हैं, हालांकि पश्चिमी रिम यह ...

चंद्रमा का विमुख फलक

चंद्रमा का विमुख फलक, जिसे पहले चंद्रमा का अंधकार पक्ष कहा गया, चंद्रमा का एक गोलार्ध है जिसका मुखड़ा हमेशा पृथ्वी से दूर रहता है। उस पार का इलाका असंख्य प्रहार क्रेटर की भीड़ एवं अपेक्षाकृत कुछ समतल चंद्र मारिया के साथ पूर्णतः बीहड़ है। यहाँ दक् ...

चंद्रमा की उत्पत्ति

अरसे तक चंद्रमा के इतिहास का मूलभूत प्रश्न इसकी उत्पत्ति रही थी। पूर्व की परिकल्पनाओं में पृथ्वी से विखंडन, अधिग्रहण और सह-अभिवृद्धि शामिल थी। आज भीमकाय टक्कर परिकल्पना व्यापक रूप से वैज्ञानिक समुदाय द्वारा स्वीकार्य है। सह-अभिवृद्धि सिद्धांत कहत ...

दक्षिण ध्रुव-ऐटकेन घाटी

दक्षिण ध्रुव-ऐटकेन घाटी चंद्रमा के विमुख फलक पर स्थित एक विशाल प्रहार क्रेटर है। तकरीबन 2.500 किमी चौड़ा और 13 किमी गहरा, यह सौरमंडल के ज्ञात सबसे बड़े प्रहार क्रेटरों में से एक है। चंद्रमा पर मान्यता प्राप्त यह सबसे बड़ी, सबसे पुरानी और सबसे गहर ...

सेलेन

सेलेन, जापान में अपने उपनाम कागुया से बेहतर जाना जाता है, एक द्वितीय जापानी चंद्र परिक्रमा अंतरिक्ष यान था।

बलुआ पत्थर

बालुकाश्म या बलुआ पत्थर ऐसी दृढ़ शिला है जो मुख्यतया बालू के कणों का दबाव पाकर जम जाने से बनती है और किसी योजक पदार्थ से जुड़ी होती है। बालू के समान इसकी रचना में भी अनेक पदार्थ विभिन्न मात्रा में हो सकते हैं, किंतु इसमें अधिकांश स्फटिक ही होता ह ...

संगमर्मर

संगमरमर या सिर्फ मरमर एक कायांतरित शैल है, जो कि चूना पत्थर के कायांतरण का परिणाम है। यह अधिकतर कैलसाइट का बना होता है, जो कि कैल्शियम कार्बोनेट का स्फटिकीय रूप है। यह शिल्पकला के लिये निर्माण अवयव हेतु प्रयुक्त होता है। इसका नाम फारसी से निकला ह ...

पारिस्थितिक पदचिह्न

पारिस्थितिक पदचिह्न, पृथ्वी के पारिस्थितिक तंत्रों पर मानवीय माँग का एक मापक है। यह इंसान की मांग की तुलना, पृथ्वी की पारिस्थितिकी के पुनरुत्पादन करने की क्षमता से करता है। यह मानव आबादी द्वारा उपभोग किए जाने वाले संसाधनों के पुनरुत्पादन और उससे ...

अक्षय ऊर्जा

अक्षय उर्जा या नवीकरणीय ऊर्जा में वे सारी उर्जा शामिल हैं जो प्रदूषणकारक नहीं हैं तथा जिनके स्रोत का क्षय नहीं होता, या जिनके स्रोत का पुनः-भरण होता रहता है। सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, जलविद्युत उर्जा, ज्वार-भाटा से प्राप्त उर्जा, बायोगैस, जैव इंधन आद ...

आज भी खरे हैं तालाब

आज भी खरे हैं तालाब, प्रसिद्ध पर्यावरणविद अनुपम मिश्र द्वारा लिखित हिन्दी पुस्तक है। यह १९९३ में प्रकाशित हुई थी। यह पुस्तक परम्परागत तालाबों एवं जल-प्रबन्धन से सम्बन्धित है तथा आठ वर्ष के गहन क्षेत्र-अनुसंधान के पश्चात लिखी गयी थी। भारत में बेजो ...

इलेक्ट्रानिक और कंप्यूटर कचरे

इलेक्ट्रानिक कचरा से आशय किसी वैद्युत या इलेक्ट्रानिक उपकरण से है जो पुराना, टूटा-फूटा, खराब या बेकार होने के कारण परित्यक्त हो या फेंक दिया गया हो। इसमें से कुछ चीजें पुनः प्रसंस्कारित की जा सकतीं हैं किन्तु अन्य पूर्णरूपेण कचरा होती हैं। दोनो ह ...

ईकोटूरिज़्म

पर्यावरण प्रेमी पर्यटक वे पर्यटक होते हैं, जो अपनी यात्राओं के दौरान कुछ बातों का ध्याण रखकर पर्यावरण को बचाने में अपना सहयोग देते हैं। इस प्रकार के पर्यटन को ही ईकोटूरिज़्म कहते हैं। पर्यावरण पर बढ़ते दुष्प्रभावों को देखते हुए सभी देशों में पर्य ...

उड़न राख

उड़न राख बहुत सी चीजों को जलाने से निर्मित पदार्थ है जो महीन कणों से निर्मित होती है। ये हल्के कण उत्सर्जित गैसों के साथ ऊपर उठ जाते हैं कोयले से चलने वाले विद्युत संयंत्रों में उत्पन्न उड़न राख को प्रायः चिमनियों से ग्रहण कर लिया जाता है। सभी उड ...

एजेण्डा-21

सन् 1992 में संयुक्त राष्ट्र संघ का पर्यावरण एवं विकास के मुद्दे पर केन्द्रित एक सम्मेलन ब्राजील के रियो डि जेनेरो में हुआ। इस सम्मेलन को पृथ्वी सम्मेलन के नाम से जाना जाता है। इसमें 170 देशों के प्रतिनिधियों, हजारों स्वयंसेवी संगठनों और अनेक बहु ...

एशियाई भूरा बादल

एशियाई भूरा बादल, वायु प्रदूषकों द्वारा बारबार बनने वाला एक विशाल बादल अथवा परत है जिसकी मोटाई लगभग 3000 मी होती है और इसका विस्तार दक्षिण एशिया के कुछ हिस्सों तक होता है जिनमें उत्तरी हिंद महासागर, भारत और पाकिस्तान शामिल हैं। दुनिया के इस हिस्स ...

ओज़ोन

ओजोनOZONE आक्सीजन के तीन परमाणुओं से मिलकर बनने वाली एक गैस है जो वायुमण्डल में बहुत कम मत्रा में पाई जाती हैं। समुद्र-तट से 30-32km की ऊँचाई पर इसकी सान्द्रता अधिक होती है। यह तीखे गंध वाली अत्यन्त विषैली गैस है। ओजोनOZONE O 3 आक्सीजन के तीन परम ...

ओजोन परत

ओज़ोन परत पृथ्वी के वायुमंडल की एक परत है जिसमें ओजोन गैस की सघनता अपेक्षाकृत अधिक होती है। ओज़ोन परत के कारण ही धरती पर जीवन संभव है। यह परत सूर्य के उच्च आवृत्ति के पराबैंगनी प्रकाश की 93-99 % मात्रा अवशोषित कर लेती है, जो पृथ्वी पर जीवन के लिय ...

ओस

ओस वातावरण में फैले हुए वाष्प का वह रूप है जो जमकर जलबिंदु अथवा छोटी-छोटी बूँदों के रूप में परिवर्तित होकर पृथ्वी पर गिरता है। ओस बनने की प्रक्रिया का संघनन से सीधा जुड़ाव है। वातावरण में शत-प्रतिशत सापेक्षिक आर्द्रता होने पर वायु संतृप्त हो जाती ...

कार्बन कर

कार्बन कर एक अप्रत्यक्ष कर है। यह उन आर्थिक गतिविधियों पर लगाया जाता है जिनसे प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से जनजीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसके द्वारा सरकारें अपना राजकोष भी संवर्धित करती हैं। इस कर से दो अन्य कर भी संबंधित हैं- उत्सर्जन कर और ...

किंकरी देवी

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिला के दूर दराज़ गाँव घान्टो संगडाह में चार जुलाई उनीस सौ चालीस को जन्मी किंकरी देवी ने सिरमौर जिले के गिरिपार क्षेत्र के खदानों में अवैज्ञानिक और अवैध ढंग से हो रही के विरुद्ध आवाज़ उठा कर पर्यावरण के प्रति लोगो को जागरू ...

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

भारत के केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का गठन एक सांविधिक संगठन के रूप में जल अधिनियम, 1974 के अन्तर्गत सितम्बर, 1974 में किया गया था। इसके पश्चात केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को वायु अधिनियम, 1981 के अन्तर्गत शक्तियाँ व कार्य सौंपे गये।

क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी)

क्लोरोफ्लोरोकार्बन एक कार्बनिक यौगिक है जो केवल कार्बन, क्लोरीन, हाइड्रोजन और फ्लोरीन परमाणुओं से बनता है। सीएफसी का इस्तेमाल रेफ्रिजरेंट, प्रणोदक और विलायक के तौपर व्यापक रूप से होता है।ओजोन निःशेषण में इसका योगदान देखते हुए, सीएफसी जैसे यौगिकों ...

ग्रीनहाउस

हरितगृह या ग्रीनहाउस एक इमारत है, जहां पौधे उगाये जाते हैं। ग्रीनहाउस विभिन्न तरह की आवरण सामग्रियों जैसे कांच या प्लास्टिक की छत और अक्सर कांच या प्लास्टिक की दीवारों के साथ बनी एक संरचना है; यह गर्म होता है, क्योंकि सूर्य द्वारा भेजे जा रहे दृश ...

जलवायु परिवर्तन

जलवायु परिवर्तन औसत मौसमी दशाओं के पैटर्न में ऐतिहासिक रूप से बदलाव आने को कहते हैं। सामान्यतः इन बदलावों का अध्ययन पृथ्वी के इतिहास को दीर्घ अवधियों में बाँट कर किया जाता है। जलवायु की दशाओं में यह बदलाव प्राकृतिक भी हो सकता है और मानव के क्रिया ...

जलवायु परिवर्तन सम्मेलन

द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात जलवायु परिवर्तन को लेकर वैश्विक स्तर पर चर्चाएँ प्रारंभ हुईं। १९७२ मे स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में पहला सम्मेलन आयोजित किया गया। तय हुआ कि प्रत्येक देश जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए घरेलू नियम बनाएगा। इस आशय की ...

जैवमण्डल

जैवमण्डल पृथ्वी के चारों तरफ व्याप्त ३0 किमी मोटी वायु, जल, स्थल, मृदा, तथा शैल युक्त एक जीवनदायी परत होती है, जिसके अंतर्गत पादपों एवं जन्तुओं का जीवन सम्भव होता है। सामान्यतः जैवमण्डल में पृथ्वी के हर उस अंग का समावेश है जहाँ जीवन पनपता है। जैव ...

धुआँसा

धुआँसा या स्मॉग, वायु प्रदूषण की एक अवस्था है। बीसवीं सदी के प्रारंभ में एक मिश्र शब्द स्मॉग द्वारा धुएँ और कुहासे की मिश्रित अवस्था को इंगित किया गया। धूल, धुएँ और कुहासे का यह मिश्रण हिंदी में धुआँसा कहलाता है। गाड़ियों और औद्योगिक कारखानों द्व ...

परमाणु ऊर्जा के पर्यावरणीय प्रभाव

पर्यावरण पर पडने वाले प्रभाव की दृष्टि से परमाणु ऊर्जा अन्य ऊर्जाओं से कुछ मामलों में अच्छी है और कुछ मामलों में खराब। नाभिकीय ऊर्जा में सबसे बडी बाधा नाभिकीय दुर्घटना की सम्भावना और उससे जुडे खतरे हैं। नाभिकीय रिएक्टरों से हरितगृह गैसों का उत्सर ...

परमाणु ऊर्जा नियामक बोर्ड (भारत)

परमाणु ऊर्जा विनियामक परिषद भारत में परमाणु ऊर्जा की नियामक संस्था है। यह एक स्वतंत्र एजेंसी है जो परामाणु उर्जा के सुरक्षित उपयोग से संबन्धित पहलुओं पर निगरानी रखता है। इसका गठन 15 नवम्बर 1983 को भारत के राष्‍ट्रपति के आदेशों के अनुरूप किया गया। ...

पर्यावरण संरक्षण

पर्यावरण शब्द परि+आवरण के संयोग से बना है। परि का आशय चारों ओर तथा आवरण का आशय परिवेश है। दूसरे शब्दों में कहें तो पर्यावरण अर्थात वनस्पतियों,प्राणियों,और मानव जाति सहित सभी सजीवों और उनके साथ संबंधित भौतिक परिसर को पर्यावरण कहतें हैं वास्तव में ...

पर्यावरण सुरक्शा

पर्यावरण संरक्षण पर्यावरण की रक्षा का एक व्यक्ति, संगठन या सरकारी स्तर पर, अभ्यास है, प्राकृतिक पर्यावरण और मानव के लाभ के लिए। कारण जनसंख्या का दबाव और हमारी प्रौद्योगिकी बयोफ्य्सीकल पर्यावरण के लिए अपमानित किया जा रहा है, कभी कभी स्थायी रूप से। ...

पर्यावरणीय अपराध

पर्यावरणीय अपराध वे गैर-क़ानूनी कार्य हैं जो पर्यावरण क़ानूनों के उल्लंघन के रूप में किये जाते हैं और जिनसे पर्यावरण की गुणवत्ता को नुकसान पहुँचता है।

पर्यावरणीय गुणवत्ता

पर्यावरणीय गुणवत्ता किसी स्थान विशेष पर पर्यावरण के उन लक्षणों से जुड़ी अवधारणा है जिनसे मानव अथवा अन्य जीवधारियों के जीवन पर पर्यावरण की परस्थितियों के प्रभाव को आकलित किया जाता है।

पर्यावरणीय विज्ञान

MK पर्यावरणीय विज्ञान environmental science पर्यावरण के भौतिकीय, रासायनिक और जैविक अवयवों के बीच पारस्परिक क्रियाओं का अध्ययन है। पर्यावरणीय विज्ञान पर्यावरणीय व्यवस्था के अध्ययन के लिए समन्वित, परिमाणात्मक और अन्तरविषयक दृष्टिकोण उपलब्ध कराता है ...

पर्यावरणीय विधि

पर्यावरणीय विधि अथवा पर्यावरण विधि समेकित रूप से उन सभी अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय अथवा क्षेत्रीय सन्धियों, समझौतों और संवैधानिक विधियों को कहा जाता है जो प्राकृतिक पर्यावरण पर मानव प्रभाव को कम करने और पर्यावरण की संधारणीयता बनाये रखने हेतु हैं।

पर्यावरन सुरक्श

पर्यावरण संरक्षण पर्यावरण की रक्षा का एक व्यक्ति, संगठन या सरकारी स्तर पर, अभ्यास है, प्राकृतिक पर्यावरण और मानव के लाभ के लिए। कारण जनसंख्या का दबाव और हमारी प्रौद्योगिकी बिओफिसिकल पर्यावरण के लिए अपमानित किया जा रहा है, कभी कभी स्थायी रूप से। इ ...

पृथ्वी का वायुमण्डल

पृथ्वी को घेरती हुई जितने स्थान में वायु रहती है उसे वायुमंडल कहते हैं। वायुमंडल के अतिरिक्त पृथ्वी का स्थलमंडल ठोस पदार्थों से बना और जलमंडल जल से बने हैं। वायुमंडल कितनी दूर तक फैला हुआ है, इसका ठीक ठीक पता हमें नहीं है, पर यह निश्चित है कि पृथ ...

पृथ्वी सम्मेलन

पर्यावरण में प्रदूषण के कारण पूरी पृथ्वी प्रदूषित हो रही है। वैज्ञानिकों और पर्यावरण विशेषज्ञों का मानना है यही स्थित बनी रही तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं जिनमें पृथ्वी पर प्राणियों और वृक्षों का बने रहना कठिन होगा। इस प्रकार से भविष्य में मा ...

प्राकृतिक पर्यावरण

प्राकृतिक पर्यावरण में सभी जीवित और निर्जीव पृथ्वी या कुछ उसके क्षेत्पर स्वाभाविक रूप से होने वाली बातें शामिल हैं। यह एक वातावरण है कि सभी सजीव प्रजातियों की बातचीत शामिल है। प्राकृतिक वातावरण की अवधारणा घटकों द्वारा प्रतिष्ठित किया जा सकता है: ...

फ़्लोरा

फ़्लोरा किसी क्षेत्र अथवा काल विशेष में पाए जाने वाले पौधों और वनस्पतियों के समूह को कहते हैं। आमतौपर इसमें उस क्षेत्र में मानव द्वारा बाहर से लाकर स्थापित प्रजातियों को शामिल नहीं किया जाता। कभी कभी बैक्टीरिया और कवकों को भी फ़्लोरा में शामिल कि ...

भारत के जल संसाधन

भारत के जल संसाधन यहाँ कि अर्थव्यवस्था के लिये बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि भारत की काफ़ी जनसंख्या कृषि पर निर्भर है और भारतीय कृषि काफ़ी हद तक वर्षाजल पर ‌‌‌‌निर्भर है। सिंचित क्षेत्र का ज्यादातर हिस्सा नलकूपों द्वारा है और भारत विश्व का सबसे बड़ ...

भारत के प्राकृतिक प्रदेश

भारत के प्राकृतिक प्रदेश से तात्पर्य भारत को प्राकृतिक तत्वों जैसे उच्चावच, जलवायु की विशेषताएँ, मिट्टियाँ इत्यादि के समेकित आधापर प्रदेशों में विभाजन से है। कई भूगोलवेत्ताओं द्वारा लगभग सारी प्राकृतिक विशेषताओं को ध्यान में रखते हुए भारत का प्रद ...

भारत के राष्ट्रीय उद्यान

नीचे दी गयी सूची भारत के राष्ट्रीय उद्यानों की है। 1936 में भारत का पहला राष्ट्रीय उद्यान था- हेली नेशनल पार्क, जिसे अब जिम कोर्बेट राष्ट्रीय उद्यान के रूप में जाना जाता है। १९७० तक भारत में केवल ५ राष्ट्रीय उद्यान थे। १९८० के दशक में वन्यजीव संर ...

भारत में सामाजिक वानिकी

सामाजिक वानिकी का प्रमुख अर्थ है लोगों का,लोगों के लिए, लोगों द्वारा चलाया गया कार्यक्रम" सामाजिक वानिकी से अर्थ खाली पड़े स्थानों पर फलदार वृक्ष लगाने से है जिससे पर्यावरण की सुरक्षा के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार की वृद्धि हो। राष्ट्री ...

मार्ग वृक्षपालन

मार्ग वृक्षपालन के अंतर्गत सड़कों के किनारे वृक्ष लगाना और फिर उनका अनुरक्षण करना आता है। वृक्ष विज्ञान से इसका सीधा संबंध है। मार्ग वृक्षपालन के लिए वृक्षों की वृद्धि और उनकी क्रिया-प्रणाली संबंधी ज्ञान तो अनिवार्यत: आवश्यक है ही, साथ ही साथ सजा ...

मैती आन्दोलन

मैती एक भावनात्मक पर्यावरण आंदोलन है। उत्तराखंड में जीव विज्ञान के प्राध्यापक कल्याण सिंह रावत की सोच से इस मुहिम की शुरुआत हुई तथा आज वहां के चमोली जनपद में एक अभियान का रूप ले चुकी है। मैती यानि शादी के समय दूल्हा-दुल्हन द्वारा फलदार पौधों का र ...

कल्याण सिंह रावत

मैती आंदोलन के प्रणेता एवं पर्यावरणविद कल्याण सिंह रावत का जन्म १९ अक्टूबर १९५३ को उत्तराखंड में हुआ था| जीवविज्ञान के अध्यापक के रूप में वे उत्तराखंड में विभिन्न स्थानों पर नियुक्त रहे और स्थानीय लोगों को पर्यावरण संवर्धन और वृक्षारोपण के लिए प् ...