ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 53

मुख्तार अब्बास नकवी

मुख्तार अब्बास नकवी भारत के एक प्रसिद्ध राजनेता हैं। सम्प्रति वे भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रह चुके हैं और वर्तमान में वे भारत सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के कैबिनेट मंत्री हैं। श्री नकवी का जन्म इलाहाबाद में हुआ। उन्होने अपनी शिक् ...

वी के कृष्ण मेनन

वेंङालिल कृष्णन कृष्ण मेनोन, जिन्हें सामान्यतः कृष्ण मेनोन कहा जाता है, एक भारतीय राष्ट्रवादी, राजनीतिज्ञ, कूटनीतिज्ञ, तथा सन् १९५७ से १९६२ तक भारत के रक्षा मंत्री थे।

यशवंत सिन्हा

यशवंत सिन्हा एक भारतीय राजनीतिज्ञ और भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता हैं, जो इस समय सत्ताधारी पार्टी है। वे भारत के पूर्व वित्त मंत्री रहने के साथ-साथ अटल बिहारी वाजपेयी मंत्रिमंडल में विदेश मंत्री भी रह चुके हैं।

रमाशंकर कौशिक

रमाशंकर कौशिएक समाजवादी नेता, चिन्तक और विचारक का जन्म ग्राम गजरौला, उत्तर प्रदेश मैं पिता शिवप्रसाद और माता खिलोनियाँ देवी के घर मैं हुआ था| लखनऊ युनिवेर्सिटी से छात्र जीवन में आचार्य नरेन्द्र देव से प्रभावित होकर राजनीति में आये फिर डा राम मनोह ...

राम जेठमलानी

राम जेठमलानी एक सुप्रसिद्ध भारतीय वकील और राजनीतिज्ञ थे। 6ठी व 7वीं लोक सभा में वे भारतीय जनता पार्टी से मुंबई से दो बार चुनाव जीते थे। बाद में अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में केन्द्रीय कानून मन्त्री व शहरी विकास मन्त्री रहे थे। किसी विवादास्पद ब ...

राम निवास मिर्धा

रामनिवास मिर्धा राजस्थान से भारतीय राजनीतिज्ञ थे। वो १९५३ से १९६७ तक राजस्थान विधान सभा में विधायक और १९५७ से १९६७ तक विधानसभा अध्यक्ष भी रहे। वो १९७० और १९८० के दशक में भारत सरकार में विभिन्न विभागों के केन्द्रीय मंत्री रहे। २९ जनवरी २०१० को उनक ...

विजय माल्या

विजय माल्या एक भारतीय व्यापारी और राज्यसभा के पूर्व सदस्य हैं। वे उद्योगपति विट्ठल माल्या के पुत्र हैं तथा यूबी समूह और किंगफिशर एयरलाइंस के अध्यक्ष हैं। वर्ष 2008 में लगभग ₹72 अरब रुपये के सम्पत्ति के साथ यह विश्व के 962वें सबसे धनी लोगों में शा ...

विनय कटियार

कटियार का जन्म देवीचरण कटियार एवं श्यामकली के यहाँ हुआ। वह फैज़ाबाद अयोध्या से सन् १९९१, ९६ एवं ९९ में क्रमशः १०वीं, ११वीं एवं १३वीं लोक सभा के लिए निर्वाचित हुए। वर्तमान में वह उत्तर प्रदेश से राज्यसभा में सदस्य है।

विलासराव देशमुख

विलासराव दगड़ोजीराव देशमुख महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री थे। ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य भी हैं। ये महाराष्ट्र के लातूर जिला के हैं। श्री विलासराव देशमुख को भारत सरकार की पंद्रहवीं लोकसभा के मंत्रीमंडल में बड़े उद्योग एवं सार्वजनिक उपक्रम म ...

वी. टी. कृष्णमाचारी

राय बहादुसर वंगल तिरुवेंकटाचारी कृष्णमाचारी भारतीय नागरिक सेवक और प्रशासक थे। वो 1927 से 1944 तक बड़ोदा के दीवान और 1946 से 1949 तक जयपुर राज्य के प्रधानमंत्री रहे। इसके अतिरिक्त सन् 1961 से 1964 तक राज्य सभा सदस्य रहे। भारत विभाजन के उपरान्त उन् ...

वीरेन्द्र पाटिल

वीरेंदर पाटिल एक वरिष्ठ भारतीय राजनीतिज्ञ थे और वे दो बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे। 1968-1971 तक वह पहली बार मुख्यमंत्री बने; और दूसरी बार लगभग 18 साल बाद, 1989-1990 तक।

वेंकैया नायडू

मुप्पवरपु वेंकय्य नायुडु के वर्तमान उपराष्ट्रपति हैं। वे 2002 से 2004 तक भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। केंद्र में विभिन्न विभागों के मंत्री पदों को भी सुशोभित कर चुके है। भारत के सत्ताधारी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक संघ ने 17 जु ...

शिबू सोरेन

शिबू सोरेन जन्म ११ जनवरी, १९४४ एक भारतीय राजनेता है। वे झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष है। २००४ में मनमोहन सिंह की सरकार में वे कोयला मंत्री बने लेकिन चिरूडीह कांड जिसमें 11 लोगों की ह्त्या हुई थी के सिलसिले में गिरफ़्तारी का वारंट जारी होने के ...

शोभना भारतीय

शोभना भारतीय राज्यसभा की सांसद हैं। वे भारत के प्रसिद्द उद्योगपति कृष्णकुमार बिड़ला की बेटी हैं। वे भारत के बड़े समाचारपत्र हिन्दुस्तान टाइम्स की संपादकीय सलाहकार हैं। साथ ही वे बिड़ला प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान, पिलानी की प्रो-चांसलर भी हैं।

सचिन तेंदुलकर

सचिन रमेश तेंदुलकर क्रिकेट के इतिहास में विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ों में गिने जाते हैं। भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित होने वाले वह सर्वप्रथम खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्यक्ति हैं। राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्म ...

सांसद, राज्य सभा

राज्यसभा सांसद भारतीय संसद का सदस्य होता है और राज्य सभा में राज्य का प्रतिनिधित्व करता है। राज्य सभा भारतीय संसद का उच्च सदन है। इसके सदस्य प्रमुख रूप से राज्यों को आबंटित सीटों पर निर्वाचक मण्डल द्वारा चुने जाते हैं जबकि कुछ सांसद नामांकन द्वार ...

सालिम अली

सालिम मुईनुद्दीन अब्दुल अली एक भारतीय पक्षी विज्ञानी और प्रकृतिवादी थे। उन्हें "भारत के बर्डमैन" के रूप में जाना जाता है, सालिम अली भारत के ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने भारत भर में व्यवस्थित रूप से पक्षी सर्वेक्षण का आयोजन किया और पक्षियों पर लि ...

सुन्दर सिंह भण्डारी

सुन्दर सिंह भण्डारी एक भारतीय राजनीतिज्ञ थे। वो भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता थे और जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में से एक थे।

सुरेन्द्र मोहंती

सुरेन्द्र मोहंती ओड़िया के ऐसे कथाकारों में से हैं जो भारत की स्वतंत्रता के बाद तेज़ी से प्रकाश में आए। अलंकारिक शैली के इस कथाकार की कहानियों के विषयों का क्षेत्र बहुत विस्तृत है। उनका जन्म 1920 में हुआ तथा देहांत 1992 में। अनेक साहित्यिक पुरस्क ...

हरिवंश नारायण सिंह

हरिवंश नारायण सिंह, एक भारतीय पत्रकाऔर राजनेता है, जो भारत के वरिष्ठ सदन राज्यसभा में उपसभापति हैं। इस पद पर उन्होंने कांग्रेस सदस्य पी जे कुरियन का स्थान लिया है। उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया से अपने पत्रकारिता के करियर की शुरुआत की और अपने पूरे कर ...

हेमंत सोरेन

हेमन्त सोरेन भारतीय राज्य झारखण्ड के ५वें मुख्यमंत्री रह चुके हैं। इससे पहले वो अर्जुन मुंडा मंत्रीमण्डल में उप मुख्यमंत्री थे। उनकी राजनीतिक पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा है। २०१४ के चुनावों में वे भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हेमलाल मुरमू को 2 ...

सांसद (भारत)

भारत में संसद सदस्य देश के संसद में सेवा करने वाले व्यक्तियों को संदर्भित करता है। भारत में, भारतीय संसद के सभी सदस्यों के लिए सांसद शब्द का प्रयोग किया जाता है, इसमें शामिल है: सांसद, लोकसभा अंग्रेज़ी: Member of Parliament, Lok Sabha भारतीय संसद ...

कच्छपघात राजवंश

कच्छपघात राजवंश भारत का एक राजवंश था जिसने 10वीं से 12वीं शताब्दी ईसवी काल में मध्य भारत के पश्चिमोत्तरी भागों में शासन करा। धर्म सिंह इनमे एक अद्वितीय स्थान रखते है ।

ज़ामोरिन

ज़ामोरिन, जिसे मलयालम भाषा में सामूतिरि कहा जाता है, मध्यकालीन केरल के कोड़िकोड क्षेत्र के हिन्दू नरेश की उपाधि हुआ करती थी। यह संस्कृत के "स्वामी" और "श्री" को जोड़कर उत्पन्न हुआ शब्द था। अपने चरम पर ज़ामोरिनों का शासन मालाबार तट पर कोल्लम से ले ...

तुलुव राजवंश

तुलुव राजवंश एक भारतीय राजवंश था तथा यह भारत का तीसरा राजवंश था इनके सम्राटों ने विजयनगर साम्राज्य पर राज किया था। तुलुव राजवंश की स्थापना मूल रूप से तटीय कर्नाटक के दक्षिणी भागों पर शासन करने वाले मुखिया बंटों द्वारा की गयी थी। इनको तुलु नाडू के ...

पश्चिम गंग वंश

पश्चिम गंग वंश प्राचीन कर्नाटक का एक राजवंश था। ये पूर्वी गंग वंश से अलग थे। पूर्वी गंग जिन्होंने बाद के वर्षों में ओडिशा पर राज्य किया। आम धारण के अनुसार पश्चिम गंग वंश ने शसन तब संभाला जब पल्लव वंश के पतन उपरांत बहुत से स्वतंत्र शासक उठ खड़े हु ...

राजपूत वंशों एवं राज्यों की सूची

भारतीय इतिहास में राजपूत उन अनेक शासकों को कहा गया है जिन्होने ११वीं और १२वीं शताब्दी में गजनवी और गौरी आक्रमणकारियों से संघर्ष किया। यद्यपि उस काल में राजपूत नाम प्रचलन में नहीं था किन्तु बाद में इन शासकों को राजपूत राजा कहा गया।

सिल्हारा राजवंश

हिन्दू सिल्हारा राजवंश वर्तमान मुंबई क्षेत्पर ८१० से १२४० ई. के लगभग शासन करता था। इनकी तीन शाखाएं थीं:- दूसरी शाखा दक्षिण कोंकण पर ७६५ से १२१५ ई. में राज करती थी। एक शाखा उत्तरी कोंकण पर राज करती थी। तीसरी शाखा वर्तमान सतारा, कोल्हापुऔर बेलगाम क ...

1991 रुद्रपुर बम विस्फोट

1991 रुद्रपुर बम विस्फोट भारतीय राज्य उत्तराखंड के रुद्रपुर शहर में 1991 में संदिग्ध आतंकवादियों द्वारा किया गया बम बिस्फोट था।17 अक्टूबर 1991 को दो बम विस्फोट हुए थे। पहली बम विस्फोट तब हुआ जब लोग सार्वजनिक मैदान में रामलीला में देख रहे थे। 15 म ...

आनंदपुर साहिब प्रस्ताव

आनंदपुर साहिब प्रस्ताव वर्ष 1973 में आनंदपुर साहिब में पारित किया गया था। इस प्रस्ताव में पंजाब को एक स्वायत्त राज्य के रूप में स्वीकारने तथा केंद्र को विदेश मामलों, मुद्रा, रक्षा और संचार सहित केवल पाँच दायित्व अपने पास रखते हुए बाकी के अधिकार र ...

ऑपरेशन ब्लू स्टार

आपरेशन ब्लू स्टार भारतीय सेना द्वारा 3 से 6 जून 1984 को अमृतसर स्थित हरिमंदिर साहिब परिसर को ख़ालिस्तान समर्थक जनरैल सिंह भिंडरावाले और उनके समर्थकों से मुक्त कराने के लिए चलाया गया अभियान था। पंजाब में भिंडरावाले के नेतृत्व में अलगाववादी ताकतें ...

कंवर पाल सिंह गिल

कंवर पाल सिंह गिल भारत के पंजाब राज्य के दो बार पुलिस महानिदेशक थे। उन्हें पंजाब के आतंकवादी एवं उग्रवादी विद्रोह को नियंत्रित करने के लिए श्रेय दिया जाता है ।

तलविंदर सिंह परमार

तलवेंदर सिंह परमार का जन्म पंसता, कपूरथला, पंजाब, भारत में हुआ था। वह सिख राजपूत समुदाय का थे। परमार ने 1979 में भारत के बाहर कनाडा के वैंकूवर से बब्बर खालसा इंटरनेशनल बीकेआई को लड़ने में संस्थापित किया। परमार बब्बर खालसा का समग्र अध्यक्ष था। जबक ...

बेअंत सिंह (मुख्यमंत्री)

सरदार बेअंत सिंह कांग्रेस के नेता और पंजाब के 1992 से 1995 तक मुख्यमंत्री थे। खालिस्तानी अलगाववादिओं ने कार को बम से उड़ा कर उनकी हत्या कर दी थी। भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के शब्दों में पंजाब के मुख्‍यमंत्री के रूप में सरदार बेअंत सिंह ने ...

कुलदीप सिंह चांदपुरी

ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चाँदपुरी परमवीर चक्र, विशिष्ट सेवा मेडल भारतीय सेना में एक सेवानिवृत्त अधिकारी थे। उन्होंने लोंगावाला के प्रसिद्ध युद्ध में भारतीय सेना का वीरता के साथ नेतृत्व किया जिसके लिए उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया। बाॅलिवु ...

बन्दा सिंह बहादुर

बन्दा सिंह बहादुर बैरागी एक सिख सेनानायक थे। उन्हें बन्दा बहादुर, लक्ष्मन देव और माधो दास भी कहते हैं। वे पहले ऐसे सिख हुए, जिन्होंने मुग़लों के अजेय होने के भ्रम को तोड़ा; छोटे साहबज़ादों की शहादत का बदला लिया और गुरु गोबिन्द सिंह द्वारा संकल्पि ...

अंधक

अंधक पुराणों में वर्णित एक हज़ार सिरों वाला दैत्य है, कुछ मतों के अनुसार जिसे दिति के गर्भ से उत्पन्न कश्यप ऋषि का पुत्र बताया गया है और कहीं हिरणाक्ष का पुत्र बताया गया है। अंधक को शिव और विष्णु को छोड़कर अन्य किसी से भी पराजित न होने का वरदान प ...

अंधकासुर

लिंग पुराण अनुसार दैत्य हिरण्याक्ष ने कालाग्नि रुद्र के रूप मे परमेश्वर शिव की घोर तपस्या करके उनसे शिवशंकर जैसे एक पुत्र का वरदान मांगा। भगवान शंकर ने वरदान देकर हिरण्याक्ष को अंधकासुर के रूप मे पुत्र दिया। अंधकासुर बचपन से ही शिव के परम भक्त थे ...

अक्रूर

अक्रूर कृष्णकालीन एक यादववंशी मान्य व्यक्ति थे। ये सात्वत वंश में उत्पन्न वृष्णि के पौत्र थे। इनके पिता का नाम श्वफल्क था जिनके साथ काशी के राजा अपनी पुत्री गांदिनी का विवाह किया था। इन्हीं दोनों की संतान होने से अक्रूर श्वाफल्कि तथा गांदिनीनंदन ...

अलक्ष्मी

अलक्ष्मी, लक्ष्मी की बड़ी बहन हैं। समुद्रमंथन के समय कालकूट के बाद इनका प्रादुर्भाव हुआ। यह वृद्धा थी और इसके केश पीले, आंखें लाल तथा मुख काला था। देवताओं ने इसे वरदान दिया कि जिस घर में कलह हो, वहीं तुम रहो। हड्डी, कोयला, केश तथा भूसी में वास कर ...

अश्वसेन

अश्वसेन, तक्षक नाग का पुत्र। अर्जुन द्वारा खांडववन जलाए जाने के समय तक्षक की पत्नी तथा पुत्र अश्वसेन वहीं थे। जान बचाने के लिए तक्षक की पत्नी ने पुत्र को मुंह में दबाकर आकाशमार्ग से भाग निकलने का प्रयत्न किया। किंतु अर्जुन ने तक्षकभार्या का सिर क ...

असिक्नी

प्रजापति दक्ष ने मानसिक सृष्टि की उत्पत्ति की। लेकिन अनेक वर्ष बीत जाने के बाद भी उसमें कोई वृद्धि नहीं हुई तो दक्ष ने अपने पिता ब्रह्मा से कहा कि सृष्टि की वर्द्धि नही हो रही है। इस पर ब्रह्मा जी ने कहा कि अब तुम मैथुनजनित सृष्टि की रचना करो। इस ...

आकाशभैरव

इस ग्रन्थ में अध्याय हैं- १. उत्साहप्रक्रम २. यजनविधि ३. उत्साहयजन ४. उत्साहाभिषेकविधि ५. मन्त्रयन्त्रप्रक्रम ६. चित्रमालामन्त्र ७. वश्याकर्षणप्रयोग ८. मोहनद्रावकप्रयोग ९. स्तम्भविद्वेषप्रयोग १०. उच्चाटननिग्रहप्रयोग ११. भोगप्रद १२. आशुतार्क्ष्यवि ...

इंद्रोत शौनक

इंद्रोत शौनक महाभारतकाल के शौनक कुलोत्पन्न एक विशिष्ट ऋषि। शतपथ ब्राह्मण के निर्देशानुसार इनका पूरा नाम इंद्रोतदैवाय शौनक था तथा इन्होने राजा जनमेजय का अश्वमेध यज्ञ कराया था। ऐतरेय ब्राह्मण, तुरकावषेय नामक ऋषि को यह गौरव प्रदान करता है। जैमिनीय उ ...

इल्वल

इल्वल नाम एक दैत्य था। इसका नाम आतापि भी था। अपने छोटे भाई वातापि के साथ यह मणिमती नगरी में रहता था।वह महर्षि शुक्राचार्य के शिष्य था और मृत संजीवनी विद्या के ज्ञाता था.

उंच्छवृत्ति

उंच्छवृत्ति एक निर्धन ब्राह्मण था जिसका वर्णन जैमिनि अश्वमेध तथा महाभारत में प्राप्य है। उंच्छवृत्ति बहुत गरीब था। एकबार कई दिनों के बाद एक दिन इसे भिक्षा मे सेभर सत्तू मिला। अग्नि तथा ब्राह्मण का भाग निकालने के पश्चात् इसने शेष सत्तू अपने पूत्रो ...

उग्रायुध

भागवत के अनुसार उग्रायुध नीप का पुत्र, लेकिन अन्य पुराणों में उल्लेख है कि यह कृत का पुत्र था। इसने आठ हजार वर्ष तपस्या की थी और यम ने स्वयं इसे तत्वज्ञान सिखाया था। इसके पुत्र का नाम क्षेम्य था। इसने १०१ नीपों का नाश किया था और भल्लाटपुत्र जनमेज ...

उतथ्य

उतथ्य का जन्म आंगिरस कुल में हुआ था। उनकी भार्या भद्रा बड़ी रूपवती थी जिसे वरुण ने छिपा लिया था। जब नारद की मध्यस्थता से भी वरुण ने भद्रा को लौटाना स्वीकार नहीं किया, तब उतथ्य ने सरस्वती को सूख जाने और ब्रह्मर्षि देश को अपवित्र हो जाने का अभिशाप ...

उपरिचर

उपरिचर कुरुवंश के एक प्रतापी राजा थे। इनका वास्तविक नाम वसु था और उपरिचर इनकी उपाधि थी। ये चंद्रवंशी सुधन्वा की शाखा में उत्पन्न कृती के पुत्र थे। इन्हें मृगया का व्यसन था, लेकिन बाद में यह व्यसन छूट गया और ये तपश्चर्या के प्रति विशेष अनुरक्त हो ...

उपसुंद

उपसुंद सुंद का छोटा भाई तथा हिरण्यकशिपु के वंशज निकुंभ अथवा निसुंद नामक राक्षस का छोटा पुत्र। सुंद तथा उपसुंद ने विंध्याचल पर कठोर तपस्या की जिससे प्रसन्न हो ब्रह्मा ने उन्हें वरदान दिया कि विश्व का कोई भी व्यक्ति उनका वध न कर सकेगा। वे मरेंगे तो ...