ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 338

हिज़बुल मुजाहिद्दीन

हिज़बुल मुजाहिदीन अप्रैल, 1990 में अस्तित्व में आया एक अलगाववादी संगठन है। इसका गठन मुहम्मद एहसान डार ने किया था। 17 अक्टूबर 2016 को जम्मू-कश्मीर में ज़ाकिर मूसा को हिज़्बुल का नया कमांडर बनाया। ये बुरहान वानी की मौत के बाद उसकी जगह नया कमांडर बन ...

२००० अमरनाथ यात्रा आक्रमण

१ अगस्त २००० को पहलगाम में अमरनाथ यात्रा पर आतंकी आक्रमण हुआ। इसमें ३० लोग मारे गए। पहलगाम भारत के जम्मू एवं काश्मीर राज्य के अनन्तनाग ज़िले में है। श्रद्धालु सालाना अमरनाथ यात्रा को निकले थे जब इस्लामी आतंकवादीयोंने यह आक्रमण किया। इसके बाद, भार ...

२०१७ अमरनाथ यात्रा आक्रमण

उत्तर भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य में स्थित हिन्दू तीर्थ गुफ़ा अमरनाथ की श्रावण यात्रा को जा रहे श्रद्धालुओं के जत्थे पर 10 जुलाई 2017 को आतंकवादियों ने हमला किया था। इस्लामी आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के द्वारा किये गये इस आतंकी हमले में ७ श ...

इस्लामिक स्टेट ऑफ़ इराक एंड लेवेंट - सिनाई प्रांत

Islamic State of Iraq and the Levant – Sinai Province इस्लामी राज्य इराक और लेवेंट -सिनाई प्रांत ; या आईएसआईएल-, मिस्र के सिनाई प्रायद्वीप में सक्रिय इस्लामिक इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक और लेवेंट की एक शाखा है। सिनाई के अंसार बैत अल-मकदीस ने आईएसआईएस ...

यूनाइटेड जिहादी काउंसिल

यूनाइटेड जिहादी काउंसिल, जिसको मुताहिदा जिहाद काउंसिल भी कहते हैं, 1994 में बना चरमपंथी जिहादी संगठन है। इस संगठन के प्रमुख 60 साल के मोहम्मद यूसुफ़ शाह उर्फ सैयद सलाहुद्दीन हैं, जो जम्मू और कश्मीर के सबसे बड़े और पुराने चरमपंथी संगठन हिज़बुल मुज ...

वोल्गाग्राद स्टेशन बम विस्फोट २०१३

वोल्गोग्राद स्टेशन बम विस्फोट २०१३ दक्षिण रूस के वोल्गोग्राद ओब्लास्ट के वोल्गोग्राद नगर में २९ दिसम्बर २०१३ को हुआ आत्मघाती बम विस्फोट है। ये विस्फोट एक महिला आत्मघाती हमलावर द्वारा किया गया जिसमें कम से कम १५ लोग मारे गये एवं ५० घायल हो गये। 24 ...

1985 नारिता अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बमबारी

1985 नारिता अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बमबारी 07:13 रविवार, 23 जून 1985 को नई टोक्यो अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे में एक विस्फोट में दो सामग्रियों संचालकों की हत्या हुई और चार घायल हो गए। बम एयर इंडिया फ्लाइट 301 के इरादा से था। जो 177 यात्रियों और चा ...

1987 हरियाणा हत्याएं

1987 हरियाणा हत्याएं जुलाई 1987 में भारत में हरियाणा राज्य में 34 हिन्दू बस यात्रियों की हत्याएं सरकार विरोधी सिख उग्रवादियों द्वारा की गई। उग्रवादियों ने दो बसों पर हमला किया और 34 बस यात्रियों को मार दिया। आतंकियों ने काऔर जीप का उपयोग करके सड़ ...

गुरुदेव सिंह देबू

गुरुदेव सिंह देबू AISSF के करतारपुर के क्षेत्र का एक पूर्व अध्यक्ष था। जो ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद मनबीर सिंह चहेरू के नेतृत्व में एक क्षेत्र कमांडर के रूप में खालिस्तान कमांडो फोर्स में शामिल हुए।

बब्बर खालसा

बब्बर खालसा इंटरनेशनल, जिसे बब्बर खालसा भी कहा जाता है, भारत में स्थित एक खालिस्तान आतंकवादी संगठन है। भारतीय और ब्रिटिश सरकार सिख स्वतंत्र राज्य का निर्माण के कारण बब्बर खालसा को एक आतंकवादी समूह मानता है, जबकि इसके समर्थकों को यह प्रतिरोध आंदोल ...

सुखदेव सिंह बब्बर

सुखदेव सिंह बब्बर 1980 में भारत के पंजाब राज्य में सक्रिय बब्बर खालसा इंटरनेशनल का नेता था। जिसका प्राथमिक उद्देश्य सिखों के लिए स्वतंत्र राज्य का निर्माण था, जिसे खलिस्तान कहा जाता था।. उसने बब्बर खालसा इंटरनेशनल की स्थापना की और 1992 में जब तक ...

सुरजन सिंह गिल

सुरजन सिंह गिल एयर इंडिया फ्लाइट 182 के बम विस्फोट में एक संदिग्ध था। और यह कथित तौपर कनाडा की सुरक्षा खुफिया सेवा तिल होने का आरोप है। गिल ने खुद को खलिस्तान के कांसुलर जनरल के नाम से खिताब बताया और बमबारी से तीन दिन पहले तक बब्बर खालसा के सदस्य ...

अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध

अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध किसी देश, क्षेत्र या संगठन के सम्बन्ध में किसी अन्य देश, संगठन या मित्रपक्ष द्वारा लिये गये ऐसे राजनैतिक या आर्थिक निर्णय होते हैं जिनके अन्तर्गत उनकी कुछ आर्थिक, व्यापारिक, कूटनीतिक, सांस्कृतिक या अन्य गतिविधियों पर रोक ल ...

भीम आर्मी

भीम आर्मी अंबेडकर सेना या भीम आर्मी भारत एकता मिशन, जिसे भीम आर्मी भी कहा जाता है, भारत में एक बहुजन-संगठन है। इसकी स्थापना वकील चंद्रशेखर आज़ाद रावण और विनय रतन सिंह ने की थी। यह संगठन छुआछूत, भेदभाव ऊँच-नीच की भावनाओं को मिटाने के लिए व शिक्षा ...

परिधीय दृष्टि

परिधीय दृष्टि दृश्य बोध का वह भाग है जो आँखों के सीधा आगे नहीं बल्कि वे जहाँ ताक रहीं हों उसके किनारों पर प्रयोग होता है। इसे अक्सर "समीपी परिधीय", "मध्य परिधीय" और "दूर परिधीय" में बांटा जाता है।

रात्रि दृष्टि

रात्रि दृष्टि कम प्रकाश वाली परिस्थितियों में देखने की क्षमता होती है। कई प्राणियों की आँखों के दृष्टि पटल में शलाका कोशिकाएँ उन्हें रात्रि दृष्टि प्रदान करती हैं। कृत्रिम यंत्रों से इस क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। कुछ प्राणियों में "टपिटम लूसिडम ...

संवेदक प्रक्रमण

संवेदक प्रक्रमण किसी जीव में अपने शरीऔर आसपास के पर्यावरण से ज्ञानेन्द्रियों द्वारा बोध होने वाली जानकारी को संगठित करने की प्रक्रिया होती है। यह जीच को अपना शरीर प्रभावपूर्ण ढंग से प्रयोग करने की क्षमता देता है। इसमें मस्तिष्क द्वारा दृश्य बोध, ...

संज्ञानात्मक असंगति

संज्ञानात्मक असंगति एक असहज एहसास है जो विरोधाभासी विचारों को साथ-साथ रखने के कारण होता है। संज्ञानात्मक असंगति के सिद्धांत का प्रस्ताव है कि लोगों के पास असंगति कम करने का एक प्रेरक ऊर्जा होनी चाहिए. वे अपने अभिवृत्ति, विश्वासों और कार्यकलापों क ...

अभिप्रेरणा

अभिप्रेरणा लक्ष्य-आधारित व्यवहार का उत्प्रेरण या उर्जाकरण है। अभिप्रेरणा या प्रेरणा आंतरिक या बाह्य हो सकती है। इस शब्द का इस्तेमाल आमतौपर इंसानों के लिए किया जाता है, लेकिन सैद्धांतिक रूप से, पशुओं के बर्ताव के कारणों की व्याख्या के लिए भी इसका ...

अहंकार

अहंकार या गर्व है अधिक महत्वपूर्ण होने की इच्छा। अहंकार ____ कुछ हिन्दू पुरूष अत्याधिक अहंकार के कारण विश्व का परम् सत्य जाने की कोशिश करते है वे नर से नारायण बनने की इच्छा करते है कुछ परमात्मा से भी ऊपर ब्रह्म बनना चाहते है कुछ स्वयं के भीतर की ...

ईर्ष्या

ईर्ष्या एक भावना है, और शब्द आम तौपर विचारों और असुरक्षा की भावना को दर्शाता है। ईर्ष्या अक्सर क्रोध, आक्रोश, अपर्याप्तता, लाचारी और घृणा के रूप में भावनाओं का एक संयोजन होता है। ईर्ष्या मानवीय रिश्तों में एक विशिष्ट अनुभव है। यह शिशुओं पांच महीन ...

एमोशनल वेरीएशन

हर एक जीवी, जिसको सास लेना आता है, उसे कुछ न कुछ तो महसूस होता हैं। यह खाली मानवो के लिए नहि बल्कि हर एक जीवी को होता हैं। इस महसूस को हम इंग्लिश में इमोशनल नाम के द्वारा जानते है। इमोशनल लेवेल एक जीव से दूसरे जीव में भिन्न प्रकार से देखा जाता है ...

घृणा

घृणा एक भावना है। इसका दूसरा नाम वैमनस्य भी कह सकते हैं|जब एक समाज में एक - दूसरे के प्रति बिना वजह जाति,धर्म,रंग और अर्थ के आधापर घृणा फैली हो उसे वैमनस्यता कहा जाता है|

जिज्ञासा

जिज्ञासा या उत्सुकता जानने की इच्छा को कहते हैं। इसका ज़ाहिर करने, जांच करने, और सीखने के व्यवहार में होता है। यह इंसान और बहुत सारे जानवरों का जन्मजात लक्षण है। वैज्ञानिक खोज और अन्य पढ़ाइयों के पीछे उत्सुकता एक प्रमुख वजह और ताक़त है।

दु: ख

दु:ख मनुष्य में पाए जाने वाली एक भावना है। प्रसन्नता के विपरीत यह एक नकारात्मक और विलोम भावना है। इस कई कारण हो सकते हैं: किसी लक्ष्य को प्राप्त करने में नाकाम होना, जैसे कि परीक्षा में असफल होना। किसी आंतरिक तकलीफ़ से यह भावना का उत्पन्न होना, ज ...

दोष (भावना)

दोष किसी भी मनुष्य में उत्पन्न होने वाली एक आंतरिक भावना है जो उस समय उत्पन्न होती है जब वह व्यक्ति यह मानने लगता है या समझने लगता है - भले ही सही हो या गलत - कि उसने अपने ही सही आचरण के मानकों के साथ समझौता किया है या वैश्विक नैतिकता के मानकों क ...

प्यार के प्रकार

प्यार एक बहुत ही विशेष और जटल भावना होती है जिसे समझना कफि मुश्किल है। काफि लोगो को लगता है कि प्यार सिर्फ दिल में होता है परन्तु वह दिमाग कि सोच ही है। सभी कलाकार, कवि और चित्रकार दिल को प्रेम के प्रतीक के रूप में प्रस्तुत करते हैं। असल मे यह हम ...

मुस्कुराहट

मुस्कुराहट मानव चहरे पर प्रकट होने वाले एक भावनात्मक संकेत का नाम है जो अधिकाँश रूप से सकारात्मक होता है। इसे प्रकट करने के लिए आम तौर से गाल और होंठों को क्रियाँवित किया जाता है। कई बार हँसी और मुस्कुराहट का समानान्तर और समानार्थी रूप से प्रयोग ...

शरमाना

मनोवैज्ञानिक कारणों से एक व्यक्ति के चेहरे का लाल होना शरमाना कहलाता है। यह आमतौपर अनैच्छिक होता है और भावनात्मक तनाव से होता है। ये खास तौपर जुनून, शर्मिंदगी, क्रोध, या रूमानी उत्तेजना से जुड़ा हुआ है। उन लोगों का गंभीर रूप से शरमाना आम है जो सा ...

शरमिन्दगी

शरमिन्दगी एक भावनात्मक स्थिति है जिसमें आमतौर असुविधा या बेचैनी का अनुभव होता है जब कोई सामाजिक रूप से अस्वीकार्य या गलत समझा जाना वाला कार्य या स्थिति कोई दूसरा व्यक्ति देख लें या प्रकट हो जाए। आम तौपर इसमें सम्मान या गरिमा के नुकसान की कुछ धारण ...

हँसी

हँसी या हास्य मानव भावनाओं की अभिव्यक्ति की एक प्रक्रिया है। किसी भी मनुष्य को हँसी आ सकती है। परन्तु हँसी को कुछ लोग केवल मुस्कुराहट तक सीमित रखते हैं, कुछ लोग मुस्कुराने के साथ-साथ मुँह भी खोलते हैं और कम से कम उनके आगे दाँत भी दिखाई पड़ते हैं। ...

पूर्णांक अनुक्रम

पूर्णांक अनुक्रम जिनका नामकरण किया जा चुका है: सम और विषम अंक ल्यूकास संख्या क्रमगुणित संख्या हेमचन्द्र श्रेणी मायिक संख्या द्विपद गुणांक अभाज्य संख्या ऑयलर संख्या कैटालन संख्या न्यून संख्या

स्टर्लिंग संख्याएँ

स्टर्लिंग संख्याएँ गणितीय विश्लेषण की कई शाखाओं में काम आती हैं। इनके प्रस्तुतकर्ता जेम्स स्टर्लिंग के नाम पर इनका नाम पड़ा। ये प्रथम और द्वितीय, दो प्रकार की होती हैं। 1 + x 1 + 2 x।. 1 + n x = 1 + nS1 x + nS2 x 2 + nS3 x 3 +." x के आरोही क्रमवा ...

सहस्राब्दी पुरस्कार समस्याएं

सहस्राब्दी पुरस्कार स्मस्याएं गणित के ७ समस्याएं हैं जिसके प्रत्येक समाधान के लिए २००० में क्ले गणित संस्थान ने दस लाख अमेरिकी डॉलर सुरक्षित रखा हैं। इनमें से केवल एक समस्या का समाधान हो चुका है जो २००२-२००३ में ग्रिगोरी पेरेल्मान ने किया था। समस ...

असम आन्दोलन

भारतीय राजनीति में असम आंदोलन क्षेत्रीय और जातीय अस्मिता जुड़े आन्दोलनों में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस आंदोलन के दौरान असम के भू-क्षेत्र में बाहरी लोगों, खास तौपर बांग्लादेश से आये लोगों को असम से बाहर निकालने के लिए ज़बरदस्त गोलबंदी हुई। इस आ ...

गोर्खालैंड

गोरखालैंड, भारत के अन्दर एक प्रस्तावित राज्य का नाम है, जिसे दार्जीलिंग और उस के आस-पास के भारतीय गोरखा बहुल क्षेत्रों को मिलाकर बनाने की माँग होती रहती है। गोरखालैण्ड की मांग करने वालों का तर्क है कि उनकी भाषा और संस्कृति शेष बंगाल से भिन्न है। ...

बाँस लकड़हारे की कहानी

बाँस लकड़हारे की कहानी एक १०वीं शताब्दी की जापानी मोनोगातारी है। इसे जापानी लोककथा का सबसे पुराना गद्य कथा माना जाता है, हालाँकि इसका सबसे पुराना मौजूदा पांडुलिपि १५९२ से है। इस कहानी को अपने नायिका के कारण राजकुमारी कागुया की कहानी かぐや姫の物 ...

इरफ़ान ख़ान (कार्टूनिस्ट)

इरफ़ान ख़ान का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में हुआ था। स्थानीय अखबार दैनिक भास्कर और स्वदेश में सन ८२-१९८९ तक कार्टून बनाते रहे। दिल्ली की श्रीधरणी आर्ट गैलरी में अपनी प्रदर्शिनी के दौरान वे नवभारत टाइम्स लखनऊ के लिये चुन लिये गए। १९९४ में द ...

रंगा

१९२५ में जन्मे कार्टूनिस्ट रंगा का नाम पूरा नाम एन के रंगनाथन था। भारत के कुछ प्रथम कार्टूनिस्टों में से एक रंगा ने अपने कार्यकाल में इंडियन एक्सप्रेस, द स्टेट्समेन और ट्रिब्यून जैसे प्रतिष्ठीत समाचारपत्रों के लिए कार्टूनिस्ट के रूप में कार्य किय ...

वी जी नरेन्द्र

वी जी नरेन्द्र भारत के जाने माने कार्टूनिस्ट और भारतीय कार्टून संस्थान के संस्थापकों में से एक थे। वे शंकर्स वीकली और कन्नड़ प्रभा जैसी प्रसिद्ध पत्रिकाओं से जुड़े रहे। उन्होंने कन्नड़ कार्टूनिस्ट संघ की स्थापना की और उदीयमान कार्टूनिस्टों के लिए ...

सुमंत बरुआ

सुमंत बरुआ भारत से एक कार्टूनिस्ट हैं। अपनी कार्टूनों को उन्होंने "कर्रेंट साइंस", "साइंस रिपोर्टर", "रेज़ोनंस", "विज्ञान ज्योति", "दृष्टि", "असम विज्ञान सोसायटी का जर्नल", "प्रांतिक", "गणितसोरा", "एनाजोरी" और वेबसैट पर प्रकाशित किया गया है। उनकी ...

ओद्योगिक डिज़ाइन

ओद्योगिक डिज़ाइन डिज़ाइन की एक शाखा है जिसमें बड़े पैमाने पर वृहद उत्पादन की ओद्योगिक प्रक्रिया द्वारा किसी उत्पादन को निर्मित करने के लिये उसकी रूप-रेखा बनाई जाती है। यह केवल एक बार बनाई जाने वाली किसी चीज़ से बहुत भिन्न है क्योंकि इसमें कभी-कभी ...

आदिरूप

आदिरूप किसी वस्तु या उत्पाद को बनाने से पहले बनाया गया उसका एक नमूना, प्रतिरूप या अधूरा संस्करण होता है जिसे उस भविष्य में बनाए जाने वाले उत्पाद के बारे में सीखने, उसपर अनुभव पाने, और उसे समीक्षकों को दिखाकर उसपर प्रतिपुष्टि पाने के ध्येय से बनाय ...

अनुनादक

कोई भी युक्ति या तंत्र जो अनुनादी व्यवहार प्रदर्शित करती हो, अनुनादक कहलाती है। इसका अर्थ है कि यह कुछ विशेष आवृत्तियों पर अन्य आवृत्तियों की अपेक्षा सहज रूप में अधिक आयाम के साथ दोलन करती है। अनुनादक, यांत्रिक और विद्युतचुम्बकीय दोनो तरह के हो स ...

जय भारत जननीय तनुजते

जय भारत जननीय तनुजते एक कन्नड़ कविता है, जिसका सम्पादन कन्नड़ कवि कुवेम्पु ने किया था। यह कविता ६ जनवरी २००४ को कर्नाटक राज्य काई आधिकारिक गान घोषित हुई थी।

टू द फोर्थ ऑफ़ जुलाई

टू द फोर्थ ऑफ़ जुलाई एक अंग्रेजी कविता है जो भारतीय साधु और समाज सुधारक स्वामी विवेकानन्द द्वारा रचित है। विवेकानन्द ने यह कविता 4 जुलाई 1898 को अमेरिकी स्वतंत्रता की वर्षगाँठ पर रचित की। इस कविता में विवेकानन्द ने स्वतंत्रता की प्रशंसा और महिमा ...

वैष्णव जन तो तेने कहिये

वैष्णव जन तो तेने कहिये अत्यन्त लोकप्रिय भजन है जिसकी रचना १५वीं शताब्दी के सन्त नरसिंह मेहता ने की थी। यह गुजराती भाषा में है। महात्मा गांधी के नित्य की प्रार्थना में यह भजन भी सम्मिलित था। इस भजन में वैष्णव जनों के लिए उत्तम आदर्श और वृत्ति क्य ...

विक्टोरिया मेमोरियल

विक्टोरिया मेमोरियल कोलकाता में स्थित एक स्मारक है। 1906-1921 के बीच निर्मित यह स्मारक रानी विक्टोरिया को समर्पित है। इस स्मारक में शिल्पकला का सुंदर मिश्रण है। इसके मुगल शैली के गुंबदों में सारसेनिक और पुनर्जागरण काल की शैलियां दिखाई पड़ती हैं। ...

नुक्कड़ नाटक का इतिहास

सृष्टि का पहला नाटक तो कोई नुक्‍कड़vends tu ाक ही रहा होगाक ही रहा होगा। रंगशालाएँ और नाट्यगृह तो सभ्यता चरण पार करने के बाद बने होंगे। आदिम युग में सब लोग दिन भर शिकार करने के बाद शाम को अपने-अपने शिकार के साथ कही खुले में एकtu bordj घेरा बनाकर ...

अंधेर नगरी

अंधेर नगरी प्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार भारतेंदु हरिश्चंद्र का सर्वाधिक लोकप्रिय नाटक है। ६अंकों के इस नाटक में विवेकहीन और निरंकुश शासन व्यवस्था पर करारा व्यंग्य करते हुए उसे अपने ही कर्मों द्वारा नष्ट होते दिखाया गया है। भारतेंदु ने इसकी रचना बनार ...