ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 302

आरी

आरी एक औजार का नाम है जो लोहे तथा कई और धातुओं में बनी मिलती है इसका प्रयोग सुथार तथा अन्य जाति के लोग फर्नीचर बनाने में करते हैं। इससे लकड़ी तथा धातु को आसानी से काटा जाता है।

कुल्हाड़ी

कुल्हाड़ी या कुल्हाड़ा, एक औजार है, जिसको सदियों से लकड़ी को आकार देने या टुकड़े करने, जंगल से लकड़ी काटने, युद्ध मे एक हथियार के रूप में और एक औपचारिक प्रतीक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। कुल्हाड़ी को विभिन्न कार्यों के अनुसार कई रूप दिये गय ...

चाकू

चाकू या छुरा या छुरी एक काटने वाला औज़ार होता है जिसमें एक या एक से अधिक काटने वाली धार होती है। आमतौर से चाकुओं को हाथ से पकड़ने के लिए एक दस्ता होता है हालाँकि यह आवश्यक नहीं है। चाकू मानवों द्वारा बहुत प्राचीनकाल से इस्तेमाल होते आये हैं और इत ...

छिद्रक

शीघ्रातिशीघ्र छेद करने के लिए छिद्रक का उपयोग होता है। कागज, दफ्ती, चमड़ा, कपड़ा तथा टिन, लोहा इत्यादि धातुओं के छेद करने के लिए पृथक-पृथक छिद्रक होते हैं। धातु में छेद करने का छिद्रक मोटी नोंक युक्त एक छोटा सा मजबूत औजार होता है, जिससे बलपूर्वक ...

छेनी

छेनी एक हाथ का औजार है जिसका उपयोग फर्नीचर बनाने में तथा पत्थर और धातु का कार्य करने वाले लोग करते है। छेनी एक हाई कार्वन स्टील की बनी होती है। हाथ के बल से कटाई करने के प्रसाधनों में छेनियाँ प्रमुख हैं। सीधी छेनियों को चौरासी Firmer chisel और गो ...

टैप एवं डाई

टैप तथा डाई वे औजार हैं जो चूड़ी काटने के काम आते हैं। इनमें से अनेक काटने वाले औजार हैं जबकि अन्य रूप प्रदान करने वाले औजार।

ड्रिल

ड्रिल एक मशीनी औज़ार है जो फर्नीचर बनाने पत्थर में,Kisi v lohe me chhidra Karne k liyeछेद तथा कहीं भी छेद करने में ड्रिल का प्रयोग किया जाता है। इसमें बिट डाला जाता है।

दस्ता (पकड़)

दस्ता या हत्था या हैंडल किसी औज़ार या अन्य वस्तु से जुड़ा ऐसा हिस्सा होता है जिस से उस चीज़ को हाथ द्वारा पकड़ा जा सके। अक्सर दस्ता किसी ऐसी सामग्री से बना या ढका हुआ होता है जो पकड़ी जाने वाली वस्तु से अलग होता है ताकि दस्ता पकड़ने पर हाथ को चोट ...

दाबलंघिका

दाबलंधिका वा साइफन न्यून कोण पर मुड़ी हुई नली के रूप का एक यंत्र होता है, जिससे तरल पदार्थ एक पात्र से दूसरे में तथा नीचे स्तर में पहुँचाया जाता है। साइफन की क्रिया पूर्वोक्त नली के दोनों सिरों पर दाब के अंतर के कारण होती है और जब पात्र खाली हो ज ...

पट्टीआरा

जिस प्रकार मशीनों को चलाने के लिये चालक पुली से चालित पुली पर चमड़े की पट्टी चढ़ाकर काम लिया जाता है, उसी प्रकार पट्टीआरा मशीन में समान व्यासवाली चालक और चालित पुली पर इस्पात की पट्टी चढ़ाकर, जिसके एक किनारे अथवा दोनों किनारों पर दाँत बने होते है ...

बाँक

बाँक या वाइस एक यांत्रिक उपकरण है जो वस्तुओं को पकड़कर रोके रहता है जिससे उनके ऊपर कोई कार्य करने में वे हिले-डुलें नहीं। इनमें दो समानान्तर जबड़े होते हैं, एक चलायमान तथा दूसरा अचल। चलायमान जबद़ा, एक स्क्रू की सहायता से आगे-पीछे चलता है।

मशीनी औजार

उन यांत्रिक युक्तियों को औजारों को मशीनी औजार कहते हैं जो शक्तिचालित होतीं हैं तथा जिनका उपयोग प्राय: मशीनिंग क्रिया द्वारा मशीनों के धातु के कल-पुर्जों के निर्माण में होता है। मशीनिंग क्रिया में वांछित स्थान की धातु को हटाया जाता है। यद्यपि मशीन ...

वातिल उपकरण

वातिल उपकरण वे उपकरण हैं जो किसी गैस की शक्ति से चलाये जाते हैं। संपीडित गैस किसी गैस संपीडक से प्राप्त किया जाता है। वातिल उपकरण, विद्युत चालित उपकरणों की तुलना में प्राय: सस्ते पड़ते हैं एवं इनका प्रयोग एवं रखरखाव अधिक सुरक्षित होता है। इसके अल ...

शक्तिचालित औजार

जो औजार किसी विद्युत मोटर, संपीडित वायु मोटर या आन्तरिक दहन इंजन से शक्ति प्राप्त करके अपना काम करते हैं उन्हें शक्तिचालित औजार या पॉवर टूल कहते हैं। शक्तिचालित मशीन अचल हो सकते हैं या सचल । यहाँ सचल का अर्थ हाथ में उठाकर/लेकर काम किये जाने वाले ...

सीढ़ी

सीढ़ी या सोपान एक यांत्रिक औजार है जो धरातल से उपर चढ़ने या नीचे उतरने के काम आती है। इसमें उर्ध्वाधर या झुके हुए बहुत से चरण होते हैं। सीढ़ी मुख्यत: दो प्रकार की होती है - रस्सी की सीढ़ी जो किसी आश्रय से लटकाई जाती है। लकड़ी, लोहा, एलुमिनियम आदि ...

मेज़ानाइन

वास्तुकला में एक मेज़ानाइन या एंट्रेसोल किसी इमारत की मुख्य मंजिलों के बीच की एक मध्यवर्ती मंजिल होती है और इसलिए आम तौपर इसे इमारत की कुल मंजिलों में नहीं गिना जाता है। मेज़ानाइन की छत अक्सर काफी नीची होती है और यह एक बालकनी के रूप में दिखाई देत ...

दर्पण

दर्पण मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं: समतल दर्पण plain mirror परवलीय दर्पणparabolic mirror अवतल दर्पण concave mirror उत्तल दर्पण convex mirror

लोकल एरिया नेटवर्क

लोकल एरिया नेटवर्एक कंप्यूटर नेटवर्क है, जो घर, कार्यालय, अथवा स्कूल या हवाई अड्डा जैसे भवनों के छोटे समूह के लघु भौतिक क्षेत्र को आवृत करता है। वाइड एरिया नेटवर्क के विपरीत LAN को परिभाषित करने वाली विशेषताओं में शामिल हैं, आम तौपर उनका अधिक डाट ...

इमेज स्कैनर

कम्प्यूटर जगत में, एक स्कैनर एक ऐसा उपकरण है, जो चित्रों, मुद्रित पाठ्य-सामग्री, हस्तलेखन या किसी वस्तु को प्रकाशीय रूप से स्कैन करता है और इसे एक डिजिटल चित्र में रूपांतरित करता है। कार्यालयों में पाये जाने वाले आम उदाहरणों में विभिन्न प्रकार के ...

एलईडी प्रिन्टर

एल॰ई॰डी॰ प्रिंटर या एल॰ई॰डी॰ मुद्रक लेज़र प्रिंटर के समान ही एक कंप्यूटर मुद्रक है। जैसा कि लेज़र मुद्रक में लेज़र प्रकाश को काम में लिया जाता है ठीक उसी तरह एल॰ई॰डी॰ तकनीक में प्रकाश उत्सर्जक डायोड शृंखला को प्रकाश के रूप में काम में लिया जाता है।

डिक्टाफोन

डिक्टाफोन एक अमेरिकी कंपनी थी, जो श्रुतलेख मशीन का निर्माण करती थी - ये ध्वनि रिकॉर्डिंग उपकरण थे जिनका सबसे आम इस्तेमाल भाषण को रिकॉर्ड करना था जिसे बाद में चलाया जाता था या मुद्रित किया जाता था। "डिक्टाफोन" नाम एक ट्रेडमार्क है, लेकिन कुछ स्थान ...

होल छिद्रक

एक होल छिद्रक या छेद पंच एक कार्यालय के उपकरण है प्रयोग किया जाता है बनाने के लिए छेद पत्रकों के कागज, अक्सर के उद्देश्य के लिए इकट्ठा करने में चादरें एक बांधने की मशीन या फ़ोल्डर. शब्द भी कर सकते हैं उल्लेख करने के लिए उपकरण के विभिन्न निर्माण स ...

कल्टीवेटर

कल्टीवेटर एक कृषि उपकरण है जिसका उपयोग खेत की जुताई करने में किया जाता है। खेत में मिट्टी के ढेलों को तोड़ने में भी इसका उपयोग किया जाता है। कल्टीवेटर विविध प्रकार के होते हैं।

पटेला

पटेला एक कृषि औजार है जिसका उपयोग जुताई के बाद खेत की सतह को समतल करना और बड़े ढेलों को तोड़कर छोटे करना है। इसे हेंगा, सोहागा, सिरावन, पटरी, डन्डेला आदि नामों से भी जाना जाता है। पटेला, तीन-चार बांस के टुकडों से बनाया जाता है या लकड़ी के एक भारी ...

गणितीय सारणी

गणितीय सारणी, गणित की किसी गणना में उपयोग में आने वाली सूची होती है जिसमें किसी चर के अलग-अलग मानों के संगत एक या अधिक संख्याएं दी गयी होती हैं। ये संख्याएं किसी गणना के परिणाम होती हैं। इनके उपयोग से गणना आसानी से और तेजी से हो जाती थी। किन्तु १ ...

गिनतारा

गिनतारा जिसे गणक सांचा भी कह सकते हैं, एक गणन उपकरण होता है, जिसका प्रयोग एशिया के भागों में अंकगणितीय प्रकायों के लिये किया जाता था। आज, गिनतारा अपने वर्तमाण रूप में, तारों पर बंधे मोतियों वाले एक बांस फ्रेम के रूप में दिखाई पड़ता है, लेकिन वे म ...

चाँदा

चाँदा एक औजार है जो कोण नापने या कोण बनाने के काम आता है। यह प्रायः वर्गाकार, वृत्ताकार या अर्धवृत्ताकार होता है और पारदर्शी प्लास्टिक का बना होता है। चाँदे अनेकों प्रकार के यांत्रिक एवं तकनीकी कार्यों में प्रयुक्त होते हैं किन्तु इनका सबसे आम उप ...

परिकलक

परिकलक, अन्य हिन्दी पर्याय, गणक या गणित्र), गणितीय गणनाएं करने का एक उपकरण होता है। यद्यपि आधुनिक परिकलकों में प्रायः सामान्य उपयोग का एक संगणक होता है, फिर भी परिकलक, कंप्यूटर से इस मामले में भिन्न है कि परिकलक की अभिकल्पना अपेक्षाकृत छोटी गणनाए ...

फ्रेंच वक्र

फ्रेंच वक्र किसी धातु, लकड़ी या प्लास्टिक के बने फर्मा होते हैं जिनमें तरह-तरह के वक्र होते हैं। इनका उपयोग हाथ से विभिन्न आकार वाली निष्कोण वक्र बनाने में किया जाता है।. वक्र बनाने के लिये फर्मा को चित्रण सामग्री जैसे कागज के उपर रखा जाता है और ...

विसर्पी गणक

विसर्पी गणक या स्लाइड रूल एक यांत्रिक एनालॉग कम्प्यूटर है। यह एक यांत्रिक युक्ति है जिसका उपयोग मुख्य रूप से गुणा और भाग करने के लिये किया जाता था/है। इसके अधिक विकसित रूपों में अनेक "वैज्ञानिक फलनों" जैसे वर्गमूल, लघुगणक एवं त्रिकोणमित्तीय फलनों ...

संरेखण

संरेख एक ग्राफ पर आधारित गणना की युक्ति है। दूसरे शब्दों में, यह एक द्वि-विम आरेख होता है जो किसी फलन का मोटा-मोटी गणना की सुविधा प्रदान करता है। स्मिथ चार्ट, चाई-वर्ग वितरण का संरेख, दो प्रतिरोधों के समान्तरक्रम का संरेख आदि कुछ प्रमुख उदाहरण है ...

कालमापी

कालमापी एक विशेष प्रकार की घड़ी है जो बहुत सच्चा समय बताती है। इसका समय ग्रिनिच के स्थानीय समय से मिलाकर रखा जाता है, जिससे जहाज पर ग्रिनिच समय तुरंत जाना जा सकता है। सेक्सटैंट से सूर्य की स्थिति नापकर जहाज जिस स्थान पर है वहाँ का स्थानीय समय ज्ञ ...

सैक्स्टैंट

सेक्सटैंट सबसे सरल और सुगठित यंत्र है जो प्रेक्षक की किसी भी स्थिति पर किन्हीं दो बिंदुओं द्वारा बना कोण पर्याप्त यथार्थता से नापने में काम आता है। इसका आविष्कार सन्‌ १७३० में जान हैडले और टॉमस गोडफ्रे नामक वैज्ञानिकों ने अलग-अलग स्वतंत्र रूप से ...

क्वथन नली

क्वथन नली एक प्रकार का गर्म करने हेतु एक नली है। यह परखनली की तरह ही होता है, लेकिन उससे 50% अधिक बड़ा होता है। साथ ही इसमें अधिक ताप पर इसे गर्म भी किया जा सकता है। इसे मुख्यतः गर्म करने हेतु ही बनाया गया है। इसमें रासायनिक अभिक्रिया के दौरान तर ...

परखनली

परखनली प्रयोगशाला में तत्वों के मुख्यतः तरल अवस्था में परख ने हेतु उपयोग किया जाता है। यह सीसे अथवा साफ प्लास्टिक का बना होता है। इसके ऊपर का भाग खुला होता है और नीचे का भाग लैटिन लिपि के "U" आकार का होता है। इसे किसी भी प्रकार के तत्व के परीक्षण ...

माइकलसन मोर्ले प्रयोग

माइकलसन-मोर्ले प्रयोग, अल्बर्ट मिशेलसन और एडवर्ड मोर्ले द्वारा १८८७ में किया गया प्रयोग है। कई बार इसे माइकलसन मोर्ले व्यतिकरणमापी भी कहा जाता है। इस प्रयोग के परिणाम ने ईथर सिद्धान्त को असत्य सिद्ध कर दिया। इस प्रयोग ने परम्परागत रास्ते से हटकर ...

मापन उपकरण

विशिष्ट उपकरणों के लिये मापक उपकरणों की सूची देखें। भौतिक विज्ञानों, इंजीनियरी, नियंत्रण, स्वचालन आटोमेशन तथा गुणवत्ता सुनिश्चित करने आदि के लिये उपयुक्त भौतिक राशियों के मापन की आवश्यकता होती है जो मापन उपकरणों के द्वारा किया जाता है। बिना मापन ...

कुंडली लपेटने की प्रौद्योगिकी

कुंडली लपेटने की प्रौद्योगिकी से अभिप्राय उन सभी विधियों तथा सावधानियों से है जो किसी विद्युत्-चुम्बकीय कुंडली को तैयार करते समय लेनी होती है। किसी भी विद्युत्-चुम्बकीय कुंडली से जो अपेक्षा की जाती है वह कार्य वह अपने छोटे-से-छोटे आकार में दे सके ...

टर्बोजनित्र

टर्बोजनित्र या टर्बोजनरेटर टरबाइन और जनित्र का सम्मिलित रूप है जिसमें टरबाइन, जनित्र से सीधे जुड़ा होता है। विश्व की अधिकांश विद्युत ऊर्जा विशाल भापचालित टर्बोजनित्रों के द्वारा ही पैदा की जाती है।

डीसी मशीन

दिष्टधारा मशीउन सभी मशीनों को कहते हैं जो डीसी लेकर यांत्रिक ऊर्जा उत्पन्न करती हैं या जो यांत्रिक ऊर्जा को डीसी में बदलती हैं ।

दिक्-परिवर्तक

दिक्-परिवर्तक या कम्यूटेटर दिष्टधारा मशीनों एवं कुछ अन्य उपकरणों में प्रयुक्त एक युक्ति है जो विद्युत धारा की दिशा बदलने के काम आती है। वास्तव में, ब्रश के साथ मिलकर यह एक घूर्णी यांत्रिक स्विच का काम करती है। दूसरे शब्दों में, दिक्परिवर्तक, आर्म ...

दिष्टधारा मोटर

डीसी मोटर में बहुत से आपस में संबद्ध चालकों का तंत्र रहता है, जो एक आर्मेचर armature पर आरोपित होता है। आर्मेचर, नरम लोहे की बहुत सी पट्टिकाओं plates को जोड़कर बना होता है और बेलनाकार cylindrical होता है। इसमें चारों ओर खाँचे कटे हुए होते हैं, जि ...

दिष्टधारा विद्युतजनित्र

डायनेमो फैराडे के मूलभूत सिद्धांतों पर आधारित है, जो इस प्रकार व्यक्त किगए हैं: यदि कोई चालक किसी चुम्बकीय क्षेत्र में घुमाया जाए, तो उसमें एक विद्युत वाहक बल electromotive force की उत्पत्ति होती है। यदि चालक का परिपथ circuit पूर्ण हो, तो प्रेरित ...

विद्युत मशीन

वैद्युत अभियांत्रिकी में, विद्युत मशीन, विद्युत मोटर और विद्युत जनित्र तथा अन्य विद्युतचुम्बकीय उपकरणों के लिये एक व्यापक शब्द है । यह सब वैद्युतयांत्रिक उर्जा-परिवर्तक हैं। विद्युत मोटर विद्युत उर्जा को यांत्रिक उर्जा मे, जब कि विद्युत जनित्र या ...

खड्ग

खड्ग या खड़ग एक प्राचीन शस्त्र जिसे हम तलवार का रूप कह सकते हें। इसमें दो भाग होते हैं - मूठ और लंबा पत्र। तलवार के पत्र में केवल एक ओर धार होती हैं। ख्ड्ग के दोनों ओर धार होती है। इससे काटना और भोंकना, दोनों कार्य किए जाते हैं। खड्ग की उत्पत्ति ...

राईफ़ल

राइफल बैरल दीवारों में कटौती खांचे की एक चक्करदार नाली या पैटर्न है कि एक बैरल के साथ, कंधे से निकाल दिया जाना के लिए बनाया गया एक बन्दूक है।लकीरें का उठाया क्षेत्रों फेंकने के साथ संपर्क बनाने के लिए जो "भूमि" कहा जाता है हथियार के उन्मुखीकरण के ...

सुदर्शन चक्र

सुदर्शन चक्र भगवान विष्णु का शस्त्र है। इसको उन्होंने स्वयं तथा उनके कृष्ण अवतार ने धारण किया है। किंवदंती है कि इस चक्र को विष्णु ने गढ़वाल के श्रीनगर स्थित कमलेश्वर शिवालय में तपस्या कर के प्राप्त किया था। सुदर्शन चक्र अस्त्र के रूप में प्रयोग ...

अगस्ता वेस्टलैंड अपाचे

अगस्ता वेस्टलैंड अपाचे ब्रिटिश सेना की वायु सेना कॉरपोरेशन के लिए बोइंग एएच-64डी अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर के लिए एक लाइसेंस निर्मित संस्करण है। पहले आठ हेलीकाप्टरों को बोइंग द्वारा बनाया गया था। तथा बाद में 59 हेलीकाप्टरों को वेस्टलैंड हेलीकाप्टर द् ...

अपाचे हेलीकॉप्टर

बोइंग एएच-64 अपाचे अमेरिका का दो टर्बोशाफ्ट इंजन और चार ब्लेड वाला अटैक हेलीकॉप्टर है। यह हेलीकॉप्टर अपने आगे लगे सेंसर की मदद से रात में उङान भर सकता है। इसकी पहली उड़ान 30 सितंबर 1975 में हुई थी। यह दुनिया में सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाला अटैक ...

आकाश प्रक्षेपास्त्र

आकाश प्रक्षेपास्त्र भारत द्वारा स्वदेशीय निर्मित, माध्यम दूर की सतह से हवा में मार करने वाली प्रक्षेपास्त्र प्रणाली है। इसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन द्वारा विकसित किया गया है। मिसाइल प्रणाली विमान को 30 किमी दूर व 18.000 मीटर ऊंचाई तक टारगेट ...