ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 243

सकतपुर गाँव, किरौली (आगरा)

सकतपुर किरौली, आगरा, उत्तर प्रदेश स्थित एक गाँव है।गॉंव सकतपुर जनपद आगरा के मशहूर गॉंव मिढाकुर का सीमावरती गॉंव है ।इस गाँव की सारी अच्छाइयॉं अतीत में लुप्त हैं।प्राचीन काल में गाँव समृद्धि के चरम पर था।धन धान्य से परिपूर्ण गाँव जनपद का गौरव तो थ ...

सरेंधी गाँव, खैरागढ़ (आगरा)

सरैंधी गांव बड़ा प्राचीन गांव है.राजस्थान राज्य की सरहद बसने की वजह से इस गांव का नाम सरैंधी रखा गया. सरैंधी आगरा जनपद एवं जगनेर ब्लॉक का सबसे बड़ा गांव है. यहाँ सिद्ध बाबा से लेकर बाबरे बाबा ने तपस्या की थी और आज भी गांव से 2 किलोमीटर की दूरी पर ...

आगरा फ़ोर्ट रेलवे स्टेशन

आगरा फ़ोर्ट रेलवे स्टेशन आगरा शहर के रावतपरा मे आगरा फ़ोर्ट के निकट स्थित है. यह भारत वर्ष के उन स्टेशन मे से एक था जहाँ ब्रॉड गेज और नॅरो गेज दोनो तरह की लाइन थी. जयपुर को जाने वाली नॅरो गेज के ब्रॉड गेज मे कंवर्ट होने के बाद यहाँ सिर्फ़ ब्रॉड ग ...

कृष्‍ण बहादुर मिश्र

कृष्‍ण बहादुर मिश्र,भारत के उत्तर प्रदेश की चौथी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1967 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 155 - बहराइच विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से अ0 भा0 जनसंघ की ओर से चुनाव में भाग लिया।

केदार राज जंगबहादुर राणा

केदार राज जंगबहादुर राणा,भारत के उत्तर प्रदेश की चौथी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1967 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 149 - फसरपुर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से अ0 भा0 जनसंघ की ओर से चुनाव में भाग लिया।

गजाधर प्रसाद आर्य

गजाधर प्रसाद आर्य,भारत के उत्तर प्रदेश की चौथी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1967 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 153 - चरदा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से अ0 भा0 जनसंघ की ओर से चुनाव में भाग लिया।

गया प्रसाद उर्फ मास्‍टर साहब

गया प्रसाद उर्फ मास्‍टर साहब,भारत के उत्तर प्रदेश की चौथी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1967 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 150 - महसी विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से अ0 भा0 जनसंघ की ओर से चुनाव में भाग लिया।

प्रताप बहादुर सिंह

प्रताप बहादुर सिंह,भारत के उत्तर प्रदेश की दूसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1957 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 266 - फखरपुर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से स्‍वतंत्र प्रगतिशील विधान मण्‍डलीय दल की ओर से ...

प्रेम सिंह

प्रेम सिंह,भारत के उत्तर प्रदेश की तीसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1962 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 155 - चरदा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से स्‍वतंत्र पार्टी की ओर से चुनाव में भाग लिया।

बुद्धी लाल

बुद्धी लाल,भारत के उत्तर प्रदेश की दूसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1957 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 267 - नानपारा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से स्‍वतंत्र पार्टी की ओर से चुनाव में भाग लिया।

भगौती

लेकिन,भारत के उत्तर प्रदेश की चौथी विधानसभा के घर में विधायक रहे हैं. 1967 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में वह उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में 156 इकौना विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से यू करने के लिए ब्लॉग की ओर से चुनाव में भाग लिया.

मंगल प्रसाद आर्य

मंगल प्रसाद आर्य,भारत के उत्तर प्रदेश की तीसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1962 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 158 - इकौना विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से स्‍वतंत्र पार्टी की ओर से चुनाव में भाग लिया।

मुन्‍नू सिंह

मुन्‍नू सिंह,भारत के उत्तर प्रदेश की तीसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1962 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 159 - भिनगा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से स्‍वतंत्र पार्टी की ओर से चुनाव में भाग लिया।

मोहम्‍मद सआदत अली खां

मोहम्‍मद सआदत अली खां,भारत के उत्तर प्रदेश की प्रथम विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1952 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के नानपारा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय की ओर से चुनाव में भाग लिया।

राम अधार कनौजिया

राम अधार कनौजिया,भारत के उत्तर प्रदेश की तीसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1962 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 153 - महसी विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से स्‍वतंत्र पार्टी की ओर से चुनाव में भाग लिया।

वीरेन्‍द्र विक्रम सिंह

वीरेन्‍द्र विक्रम सिंह,भारत के उत्तर प्रदेश की प्रथम विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1952 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 268 - नानपारा विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से उत्‍तर प्रदेश प्रजा पार्टी की ओर से चुनाव ...

सैयद जरगाम हैदर

सैयद जरगाम हैदर,भारत के उत्तर प्रदेश की दूसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1957 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के 269 - बहराइच) विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से प्रजा सोशलिस्‍ट पार्टी की ओर से चुनाव में भाग लिया।

कृष्ण जन्म भूमि

कृष्ण जन्म भूमि मथुरा का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है जहाँ हिन्दू धर्म के अनुयायी कृष्ण भगवान का जन्म स्थान मानते हैं। यह विवादों में भी घिरा हुआ है क्योंकि इससे लगी हुई जामा मस्जिद मुसलमानों के लिये धार्मिक स्थल है। भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि का ...

कृष्ण बलराम मंदिर, वृन्दावन

वृन्दावन में स्थित यह इस्कॉन मंदिर अंग्रेजों का मन्दिर के नाम से भी जाना जाता है। इस्कॉन - कृष्ण जागरण के लिये अंतर्राष्ट्रीय संस्था का छोटा नाम है जिसकी स्थापना स्वामी प्रभुपाद जी ने की थी। केसरिया वस्त्रों में हरे रामा–हरे कृष्णा की धुन में तमा ...

भूतेश्वर महादेव मंदिर

भूतेश्वर महादेव मथुरा कृष्ण जन्मभूमि के दक्षिण में महादेव जी का मन्दिर है। इसमें ऐतिहासिक शिवलिंग एवं पाताल देवी के विग्रह हैं। भूतेश्वर महादेव का शिवलिंग नाग शासकों द्वारा स्थापित किया गया। श्री भूतेश्वर जी मथुरा के रक्षक सुप्रसिद्ध चार महादेवों ...

अद्वैत कुमार (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अद्वैत कुमार वृंदावन के निवासी थे। इनके पिता का नाम श्री अनंतलाल है। इन्हें १९४० ई० में गिरफ्तार किया गया और ६ माह बाद अपील पर छोड़ दिया गया। "भारत छोड़ो आन्दोलन" में भाग लेने के कारण सन् १९४२ ई० में ५०० रुपए अर्थ दण्ड या एक वर्ष के कारावास ...

अनार सिंह (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अनार सिंह मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। ये मथुरा जनपद के उस्फार गाँव के निवासी थे। सन् १९४१ में व्यक्तिगत सत्याग्रह में भाग लेने के कारण सन् १९२२ में इन्हे ५० रुपए जुर्माना और एक वर्ष के का ...

अब्दुल कादिर (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अब्दुल कादिर मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। खिलाफत आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९२२ में ३ माह के कारावास का दण्ड मिला।

अब्दुल गनी (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अब्दुल गनी मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। खिलाफत आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९२२ में ६ माह के कारावास का दण्ड मिला।

अब्दुल लतीफ (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अब्दुल लतीफ मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। खिलाफत आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९२१ में ३ माह के कारावास का दण्ड मिला।

अमर सिंह (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अमर सिंह मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। ये मथुरा जनपद के कारब गाँव के निवासी थे। सविनय अवज्ञा आन्दोलन में भाग लेने के कारण श्री अमर सिंह को सन् १९३० में इन्हे ३ माह का कारावास हुआ तथा सन् १९ ...

अमरनाथ (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अमरनाथ मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। असहयोग आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९२२ में ४ माह के कारावास का दण्ड मिला।

अर्जुन प्रसाद (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अर्जुन प्रसाद वृंदावन में प्रेम महाविद्यालय में रहते थे। इन्हें नमक सत्याग्रह और विदेशी वस्तु बहिष्कार आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९३० ई० में ६ महीने का कारावास हुआ।

अलाउद्दीन (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री अलाउद्दीन मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। खिलाफत आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन् १९२१ में ४ माह के कारावास का दण्ड मिला।

आनन्द (स्वतंत्रता संग्राम सेनानी)

श्री आनन्द काँकरा, मथुरा जनपद के निवासी थे तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की सूची में इनका नाम है। सन् १९४१ में व्यक्तिगत सत्याग्रह में भाग लेने के कारण इन्हे १७ माह के कारावास का दण्ड मिला।

प्रेम महाविद्यालय

प्रेम महाविद्यालय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी राजा महेन्द्र प्रताप सिंह द्वारा स्थापित यह महाविद्यालय वृंदावन में यमुना जी के किनारे पर स्थित है।

व्यक्तिगत सत्याग्रह

व्यक्तिगत सत्याग्रह - ०३ सितम्बर सन् १९३९ को भारत के तत्कालीन वायसराय लार्ड लिनलिथगो ने यह घोषणा की कि भारत भी द्वतीय विश्व युद्ध में सम्मिलित है। इस घोषणा से पूर्व उसने किसी भी राजनैतिक दल से परामर्श नहीं किया। इससे कांग्रेस असंतुष्ट् हो गई। महा ...

घण्टाघर, देहरादून

घण्टाघर देहरादून भारत के उत्तराखण्ड राज्य की राजधानी देहरादून में स्थित घण्टाघर है। इसका निर्माण ब्रिटिश शासन काल के दौरान अंग्रेज़ों द्वारा करवाया गया था। यह घण्टाघर षट्कोणीय आकार का है, जिसके शीर्ष पर छः मुखों पर छः घड़ियाँ लगी हुई हैं, हालांकि ...

काठगोदाम

काठगोदाम भारत के उत्तराखण्ड राज्य में स्थित हल्द्वानी महानगर का एक उपनगरीय क्षेत्र है। इसे ऐतिहासिक तौपर कुमाऊँ का द्वार कहा जाता रहा है। यह नगर पहाड़ के पाद प्रदेश में बसा है। गौला नदी इसके दायें से होकर हल्द्वानी नगर की ओर बढ़ती है। पूर्वोतर रे ...

गौजाजाली

गौजाजाली हल्द्वानी नगर का एक आवासीय क्षेत्और वार्ड है, जो नगर के केंद्र से लगभग ६ किमी दक्षिण में राष्ट्रीय राजमार्ग १०९ पर स्थित है। दिसंबर २०१७ तक यह क्षेत्र कई पृथक गांवों के रूप में अस्तित्व में था, जिसके बाद इसे हल्द्वानी नगर निगम में शामिल ...

कमलुवागांजा

कमलुवागांजा हल्द्वानी नगर का एक आवासीय क्षेत्र है, जो नगर के केंद्र से ५ किमी पश्चिम में राज्य राजमार्ग १० पर स्थित है। दिसंबर २०१७ तक यह क्षेत्र कई पृथक गांवों के रूप में अस्तित्व में था, जिसके बाद इसे हल्द्वानी नगर निगम में शामिल कर दिया गया। क ...

रानीबाग

रानीबाग हल्द्वानी नगर का एक आवासीय क्षेत्और वार्ड है, जो नगर के केंद्र से ८ किमी उत्तर में राष्ट्रीय राजमार्ग १०९ पर स्थित है। यह क्षेत्र हल्द्वानी नगर निगम की उत्तरी सीमा बनाता है। कहते हैं यहाँ पर मार्कण्डेय ॠषि ने तपस्या की थी। रानीबाग के समीप ...

अटल बिहरी वाजपेयी भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन संस्थान, ग्वालियर

अटल बिहरी वाजपेयी भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन संस्थान, ग्वालियर स्थित एक विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना १९९७ में हुई थी और २००१ में इसे मानित विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया और इसे राष्ट्रीय महत्व का संस्थान घोषित किया गया। २०१६ में भार ...

अखिल भारतीय इतिहास-संकलन योजना

अखिल भारतीय इतिहास-संकलन योजना इतिहास के क्षेत्र में कार्यरत विद्वानों का एक संगठन है जो इतिहास, संस्कृति, परम्परा आदि के क्षेत्र में कार्य करता है। सन् 1973 में श्री मोरेश्वर नीळकण्ठ पिंगळे की प्रेरणा से नागपुर में बाबा साहेब आपटे की स्मृति में ...

लाल महल, पुना

पुणे के लाल महल पुणे, भारत में स्थित सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में से एक है। वर्ष 1630 ईस्वी, शिवाजी के पिता शाहजी भोसले में अपनी पत्नी जीजाराणी और बेटे के लिए लाल महल की स्थापना की। वह अपनी पहली किले पर कब्जा कर लिया जब तक शिवाजी कई वर्षों के लिए य ...

बाणेर

बाणेर भारतीय राज्य महाराष्ट्र के पुणे ज़िले का एक उपनगर है। बाणेर मुख्यतः वरकारी परम्परा और भक्ति आराधना से जाना जाता है। यह उपनगर कात्रज - देहू सड़क के पास बसा है।

वारजे

वारजे भारतीय गणराज्य के महाराष्ट्र राज्य के पुणे ज़िले का एक उपनगर है। यह कात्रज - देहू रोड़ और पुणे के चांदनी चौक के मध्य स्थित है। पुणे ज़िले का यह क्षेत्र शिक्षा के क्षेत्र में काफी आगे हैं यहां पर बहुत सारे शिक्षण संस्थाएं मौजूद है। वारजे के ...

स्वारगेट

स्वारगेट यह महाराष्ट्र राज्य के पुणे जिला का एक उपनगर है। यहाँ एक क्रिकेट स्टेडियम भी है - नेहरू स्टेडियम। यह पुणे नगरपालिका का एक क्षेत्र है। यहाँ पर शिक्षा के काफी साधन है।

राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (भारत)

राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, भारतीय सशस्त्र सेना की एक संयुक्त सेवा अकादमी है, जहां तीनों सेवाओं, थलसेना, नौसेना और वायु सेना के कैडेटों को उनके संबंधित सेवा अकादमी के पूर्व-कमीशन प्रशिक्षण में जाने से पहले, एक साथ प्रशिक्षित किया जाता है। यह महाराष्ट ...

बगोर की हवेली, उदयपुर

यह पहले उदयपुर के प्रधानमंत्री अमरचंद वादवा का निवास स्थातन था। यह हवेली पिछोला झील के सामने है। इस हवेली का निर्माण 18वीं शताब्दीद में हुआ था। इस हवेली में 138 कमरे हैं। इस हवेली में हर शाम को 7 बजे मेवाड़ी तथा राजस्थारनी नृत्यन का आयोजन किया जा ...

आशापूरा गोमत रेलवे स्टेशन

आशापुरा गोमट रेलवे स्टेशन राजस्थान के जैसलमेर जिले में स्थित एक रेलवे स्टेशन है। इसका कोड AQG है । यह गोमत के अंतर्गत आता है। स्टेशन में 3 प्लेटफार्म हैं और यहाँ पैसेंजर, एक्सप्रेस और सुपरफास्ट ट्रेनें यहां रुकती हैं।

गोटन रेलवे स्टेशन

गोटन रेलवे स्टेशन राजस्थान के नागौर जिले, में एक रेलवे स्टेशन है। इसका कोड GOTN है । यह गोटन गांव के अंतर्गत आता है। इस रेलवे स्टेशन पर पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेनें रुकती हैं।

छोटी खाटू रेलवे स्टेशन

छोटी खाटू रेलवे स्टेशन राजस्थान के नागौर जिले, में एक रेलवे स्टेशन है। इसका कोड CTKT है । यह छोटी खाटू कस्बे के अंतर्गत आता है। स्टेशन में एक ही प्लेटफॉर्म है। यहाँ पैसेंजर, एक्सप्रेस और सुपरफास्ट ट्रेनें रुकती हैं।

जैसलमेर - जोधपुर एक्सप्रेस

जैसलमेर - जोधपुर एक्सप्रेस उत्तर पश्चिम रेलवे मंडल से संबंधित एक एक्सप्रेस ट्रेन है जो भारत में जैसलमेऔर जोधपुर जंक्शन के बीच चलती है। वर्तमान में इसे दैनिक आधापर १४८०९/१४८१० ट्रेन नंबरों के साथ संचालित किया जा रहा है।

जैसलमेर रेलवे स्टेशन

जैसलमेर रेलवे स्टेशन राजस्थान के जैसलमेर में स्थित एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है। यह रेलवे स्टेशन भारतीय रेलवे के उत्तर पश्चिम रेलवे मंडल के नियंत्रण में है। स्टेशन में तीन प्लेटफॉर्म और कुल पांच ट्रैक हैं। जोधपुर-जैसलमेर रेलवे को नवंबर १९५१ में पश्च ...