ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 197

जापान में स्वास्थ्य

जापान में स्वास्थ्य का स्तर सांस्कृतिक आदतों, अलगाव और एक सार्वभौमिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली सहित कई कारकों के कारण है । मिशिगन विश्वविद्यालय और टोक्यो विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जॉन क्रेयटन कैंपबेल ने 2009 में न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि जापानी ...

जापानी लेखन पद्धति

आधुनिक जापानी लेखन पद्धति तीन लिपियों का मिश्रण है- कांजी: चीनी वर्णमाला से लिया गया, काना: निम्नलिखित दो सिलैबरीज का प्रयोग करता है- * हिरागाना: इसका प्रयोग कांजी के साथ देशज शब्दों तथा व्याकरणीय तत्त्वों को लिखने के लिए किया जाता है। * कटाकाना: ...

जापानी लोग

जापानी लोग?) एक राष्ट्और एक जातीय समूह है जो जापान के मूल निवासी है। जापानी दुनिया के सबसे बड़े जातीय समूहों में से एक हैं।

जापानी संस्कृति

जापान की संस्कृति पिछली एक सहस्राब्दियों में बहुत बदली है। प्रागैतिहासिक जोमोन काल की संस्कृति से आरम्भ होकर यह अपने वर्तमान मिश्रित रूप में दृष्टिगोचर है। जापान की वर्तमान संस्कृति पर एशिया, यूरोप तथा उत्तरी अमेरिका का मिश्रित प्रभाव है। जापानवा ...

जापानी सैन्यवाद

जापानी सैन्यवाद से आशय जापानी साम्राज्य का यह सोच कि राष्ट्र के राजनैतिक और सामाजिक जीवन में सैन्यवाद हाबी रहना चाहिए। सैन्यवाद का मतलब इस सोच से है कि सेना की शक्ति ही राष्ट्र की शक्ति है।

शिगेरू बान

शिगेरू बान एक जापानी और अंतरराष्ट्रीय वास्तुकार है, जो वास्तुकारिता में अपने अभिनव काम के लिए विश्व प्रसिद्ध है, विशेष रूप से पुनर्नवीनीकरण और कुशलता से आपदा पीड़ितों के घर बनाने में उन्हें महारत हासिल है। उन्हें वास्तुकला और डिजाइन की रूपरेखा के ...

बोनसाई

जापानी भाषा में बोनसाई का मतलब है "बौने पौधे"। यह काष्ठीय पौधों को लघु आकार किन्तु आकर्षक रूप प्रदान करने की एक जापानी कला या तकनीक है। इन लघुकृत पौधों को गमलों में उगाया जा सकता है। इस कला के अन्तर्गत पौधों को सुन्दर आकार देना, सींचने की विशिष्ट ...

रयुक्यु द्वीपसमूह

रयुक्यु द्वीपसमूह, जिन्हें नानसेई द्वीपसमूह भी कहा जाता है, पश्चिमी प्रशांत महासागर में स्थित एक द्वीपसमूह है। यह जापान के क्यूशू द्वीप के दक्षिण-पश्चिम में और पूर्वी चीन समुद्र की पूर्वी सीमा पर स्थित हैं। इन द्वीपों का मौसम उपोष्णकटिबंधीय है, ज ...

रोनिन

रोनिन मध्यकालीन जापान में ऐसे सामुराई को कहते थे जिसका अपने राजा या मालिक के साथ सम्बन्ध भंग हो गया हो, क्योंकि या तो राजा मारा गया हो या उसने सामुराई को किसी वजह से सेवा-निवृत कर दिया हो। सामुराई मध्यकालीन जापान के क्षत्रिय होते थे जो निडर, युद् ...

सामुराई

सामुराई या समुराई मध्यकालीन सामंती जापान के निम्न स्तरीय सैनिक सरगना को कहा जाता था। इस शब्द का प्रयोग बाद में सामान्य सैनिक के लिए किया जाने लगा। कई यूरोपीय शक्तियों ने भी सामुराई वस्त्रों में लड़ाईया लड़ी। पश्चिमी सभ्यता में यद्यपि सामुराई का प ...

सुटोमु यामागुकी

ये द्वितीय विस्वयुद्ध में अमेरिका द्वारा जापान पर 6 अगस्त तथा 9 अगस्त 1945 को किगए दो परमाणु हमलों को झेलकर ६५ वर्षों तक जीवित रहने वाले एकमात्र व्यक्ति थे। ६ जनवरी, २०१० को 93 वर्ष की आयु में विकिरण के प्रभाव से हुए पेट के कैंसर के कारण उनका निध ...

सेन्दाई

सेंडाई जापान के मियागी प्रान्त की राजधानी, तोहोकु क्षेत्र का सबसे बड़ा शहर और टोक्यो के उत्तर में दूसरा सबसे बड़ा शहर है। 1 अगस्त 2017 तक, शहर की आबादी 1.086.012 थी, और जापान के 20 मनोनीत शहरों में से एक है। शहर का कुल क्षेत्रफल 786.30 वर्ग किलोम ...

अश्क़ाबाद

अश्क़ाबाद या अश्गाबात मध्य एशिया के तुर्कमेनिस्तान राष्ट्र की राजधानी और सबसे बड़ी नगरी है। २००१ की जनगणना में इसकी आबादी ६,९५,३०० थी और २००९ में इसकी अनुमानित आबादी १० लाख थी। अश्क़ाबाद काराकुम रेगिस्तान और कोपेत दाग़ पर्वत शृंखला के बीच में स्थ ...

आख़ाल प्रान्त

आख़ाल प्रान्त तुर्कमेनिस्तान की एक विलायत है। यह उस देश के दक्षिण-मध्य में स्थित है और कोपेत दाग़ पर्वतों के साथ इसकी सरहदें ईरान और अफ़्ग़ानिस्तान से लगती हैं। इस प्रान्त का क्षेत्रफल ९७,१६० किमी २ है और सन् २००५ की जनगणना में इसकी आबादी ९,३९,७० ...

आनेउ

आनेउ तुर्कमेनिस्तान के आख़ाल प्रांत की राजधानी है। यह एक छोटा सी बस्ती है और १९८९ की जनगणना में इसकी आबादी सिर्फ़ ९,३३२ थी। यह शहर तुर्कमेनिस्तान की राष्ट्रीय राजधानी अश्क़ाबाद से केवल १२ किलोमीटर दक्षिणपूर्व में है।

काराकुम नहर

काराकुम नहर तुर्कमेनिस्तान में स्थित एक सिंचाई की नहर है जो आमू दरिया से पानी लेकर उसे काराकुम रेगिस्तान के पार ले जाती है। इसकी लम्बाई १,३७५ किलोमीटर है और यह दुनिया की सबसे लम्बी सिंचाई नहरों में से एक है। काराकुम नहर का निर्माण सोवियत संघ के ज ...

ख़्वारेज़्म

ख़्वारेज़्म​, ख़्वारज़्म​ या ख़्वारिज़्म​ मध्य एशिया में आमू दरिया के नदीमुख में स्थित एक नख़लिस्तान क्षेत्र है। इसके उत्तर में अरल सागर, पूर्व में किज़िल कुम रेगिस्तान, दक्षिण में काराकुम रेगिस्तान और पश्चिम में उस्तयुर्त पठार है। ख़्वारेज़्म​ प ...

तुर्कमेनाबात

तुर्कमेनाबत तुर्कमेनिस्तान के लेबाप प्रांत की राजधानी है। सन् २००९ की जनगणना में इसकी आबादी लगभग २,५४,००० थी। इस शहर को पहले चारझ़ेव या चारजू बुलाया जाता था ।

तुर्कमेनिस्तान की जनसांख्यिकी

तुर्कमेनिस्तान मध्य एशिया में स्थित एक तुर्किक देश है। १९९१ तक तुर्कमेन सोवियत समाजवादी गणराज्य के रूप में यह सोवियत संघ का एक घटक गणतंत्र था। इसकी सीमा दक्षिण पूर्व में अफ़ग़ानिस्तान, दक्षिण पश्चिम में ईरान, उत्तर पूर्व में उज़्बेकिस्तान, उत्तर ...

तुर्कमेनिस्तान के प्रान्त

तुर्कमेनिस्तान के प्रान्त तुर्कमेनिस्तान के मुख्य प्रशासनिक विभाग हैं। मध्य एशिया के बहुत से अन्य देशों की तरह तुर्कमेनिस्तान में भी प्रान्तों को विलायत बुलाया जाता है, मसलन बाल्क़ान प्रान्त का औपचारिक नाम बाल्क़ान विलायती है। हर प्रान्त के मुख्य ...

तुर्कमेनिस्तान में स्वास्थ्य

2016 में, तुर्कमेनिस्तान में पुरुषों के लिए जीवन प्रत्याशा 65 और महिलाओं के लिए 72 साल थी। तुर्कमेनिस्तान में मौत का सबसे आम कारण हृदय रोग, कैंसर और श्वसन रोग हैं । प्रमुख स्वास्थ्य कारक खराब आहार, प्रदूषित पेयजल, और औद्योगिक और कृषि प्रदूषक हैं ...

दाशोग़ुज़

दाशोग़ुज़, जिसका पुराना नाम ताशाउज़ था, तुर्कमेनिस्तान के दाशोग़ुज़ प्रांत की राजधानी है। सन् २००९ की जनगणना में इसकी आबादी २,२७,१८४ थी। यह शहर तुर्कमेनिस्तान के उत्तर में उज़बेकिस्तान के क़ाराक़ालपाक़स्तान प्रान्त के साथ की सरहद पर स्थित है। दाश ...

दाशोग़ुज़ प्रान्त

दाशोग़ुज़ प्रान्त तुर्कमेनिस्तान की एक विलायत है। यह उस देश के उत्तर में स्थित है और इसकी सरहदें उज़बेकिस्तान से लगती हैं। इस प्रान्त का क्षेत्रफल ७३,४३० किमी २ है और सन् २००५ की जनगणना में इसकी आबादी १३,७०,४०० अनुमानित की गई थी। दाशोग़ुज़ प्रान् ...

देरवेज़े

देरवेज़े या दरवाज़ा तुर्कमेनिस्तान के आख़ाल प्रान्त में स्थित एक गाँव है। यह काराकुम रेगिस्तान के मध्य में राष्ट्रीय राजधानी अश्गाबात से लगभग २६० किमी दूर स्थित है। यहाँ रहने वाले ज़्यादातर लोग तुर्कमेन समुदाय के अर्ध-ख़ानाबदोश जीवनी व्यतीत करने ...

पाताल का द्वार

पाताल का द्वार तुर्कमेनिस्तान के आख़ाल प्रान्त के देरवेज़े गाँव में एक प्राकृतिक गैस का क्षेत्र है। यहाँ पर ज़मीन में बने एक बड़े छेद से निकलती हुई गैस सन् १९७१ से लगातार जल रही है। इससे पैदा होने वाली गंधक की गंध मीलों दूर तक पूरे क्षेत्र में फै ...

बलक़ान प्रान्त

बलक़ान प्रान्त तुर्कमेनिस्तान की एक विलायत है। यह उस देश के सुदूर पश्चिम में स्थित है और इसकी सरहदें ईरान, उज़बेकिस्तान, कज़ाख़स्तान और कैस्पियन सागर से लगती हैं। इस प्रान्त का क्षेत्रफल १,३९,२७० किमी २ है और सन् २००५ की जनगणना में इसकी आबादी ५,५ ...

बलक़ानाबात

बलक़ानाबात, जिसका पुराना नाम नेबित दाग़ था, तुर्कमेनिस्तान के बलक़ान प्रांत की राजधानी है। सन् २००६ की जनगणना में इसकी आबादी ८७,८२२ थी। यह शहर तुर्कमेनिस्तान के पश्चिम में उस देश की राष्ट्रीय राजधानी अश्क़ाबाद से गाड़ी द्वारा ४ घंटे की दूरी पर स् ...

मरी प्रान्त

मरी प्रान्त तुर्कमेनिस्तान की एक विलायत है जो उस देश के दक्षिण-पूर्व में स्थित है। इसकी सरहद अफ़्ग़ानिस्तान से लगती हैं। इस प्रान्त का क्षेत्रफल ८७,१५० किमी २ है और सन् २००५ की जनगणना में इसकी आबादी १४,८०,४०० अनुमानित की गई थी। मरी प्रान्त की राज ...

मरी, तुर्कमेनिस्तान

मरी तुर्कमेनिस्तान के मरी प्रांत की राजधानी है। इसके पुराने नाम मर्व, मेरु और मारजियाना हुआ करते थे। यह काराकुम रेगिस्तान में मुरग़ाब नदी के किनारे बसा हुआ एक नख़लिस्तान है। सन् २००९ में इसकी आबादी १,२३,००० थी जो १९८९ में ९२,००० से बढ़ी हुई थी।

लेबाप प्रान्त

लेबाप प्रान्त तुर्कमेनिस्तान की एक विलायत है जो उस देश के उत्तर-पूर्व में स्थित है। इसकी सरहद उज़बेकिस्तान से लगती हैं और उन दोनों के बीच आमू दरिया बहता है। इस प्रान्त का क्षेत्रफल ९३,७३० किमी २ है और सन् २००५ की जनगणना में इसकी आबादी १३,३४,५०० अ ...

दक्षिण एशिया

दक्षिण एशिया एक अनौपचारिक शब्दावली है जिसका प्रयोग एशिया महाद्वीप के दक्षिणी हिस्से के लिये किया जाता है। सामान्यतः इस शब्द से आशय हिमालय के दक्षिणवर्ती देशों से होता है जिनमें कुछ अन्य अगल-बगल के देश भी जोड़ लिये जाते हैं। भारत, पाकिस्तान, श्री ...

दक्षिण एशियाई भोजन में प्रयुक्त पादप

दक्षिण एशिया और विशेषतः भारतीय, भोजन अधिकांशतः शाकमय होता है जिसमें विभिन्न प्रकार के फल, सब्जियाँ, अन्न, तथा मसाले होते हैं। इस लेख में दणिण एशिया के देशों के भोजन में प्रयुक्त पौधों के नाम विभिन्न भाषाओं में दिए गये हैं।

देसी

देसी देसी का अर्थ होता है देस से सम्बंधित। प्रचलित अर्थ है भारतीय, पाकिस्तानी, बंग्लादेशी, नेपाली, अथवा श्रीलंकाई व्यक्ति, भाषा, संस्कृति, वस्तु आदि। देस, संस्कृत शब्द देश का अपभ्रंश है।

पंजाब क्षेत्र

पंजाब दक्षिण एशिया का क्षेत्र है जिसका फ़ारसी में मतलब पांच नदियों का क्षेत्र है। पंजाब ने भारतीय इतिहास को कई मोड़ दिये हैं। अतीत में शकों, हूणों, पठानों व मुगलों ने इसी पंजाब के रास्ते भारत में प्रवेश किया था। आर्यो का आगमन भी हिन्दुकुश पाकर इस ...

पाकिस्तानी खाना

पाकिस्तानी खानपान दक्षिण एशिया के विभिन्न भागो के ख़ानपान व्यवहार का एक मिश्रित प्रकार है. यूँ तो पाकिस्तानी पाकविधि उत्तर भारतीय पाकविधि पर आधारित है परंतु इस पर मध्य एशिया और पश्चिमी एशिया की खानपान व्वयस्था का भी प्रभाव है और साथ ही यह माँस पर ...

तिमोर द्वीप

तिमोर, दक्षिण पूर्व एशिया के समुद्री छोर के दक्षिणी सिरे पर और तिमोर सागर के उत्तर में स्थित एक द्वीप है। यह द्वीप स्वतंत्र राष्ट्र पूर्वी तिमोऔर इंडोनेशियाई प्रांत पूर्वी नुसा तेंगारा के एक भाग पश्चिमी तिमोर के बीच विभाजित है। द्वीप का भूक्षेत्र ...

दक्षिण पूर्व एशिया

दक्षिण पूर्व एशिया या दक्षिण पूर्वी एशिया एशिया का एक उपभाग है, जिसके अंतर्गत भौगोलिक दृष्टि से चीन के दक्षिण, भारत के पूर्व, न्यू गिनी के पश्चिम और ऑस्ट्रेलिया के उत्तर के देश आते हैं। यह क्षेत्र भूगर्भीय प्लेटों के चौराहे पर स्थित है, जिसकी वजह ...

धानुक जाति

धानुक, एक जातीय समूह है जिसके सदस्य बांग्लादेश, भारत और नेपाल में पाए जाते हैं। भारत में धानुक मूलतः बिहार, झारखण्ड, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल राज्यों में विभिन्न नामों / जातियों से जाने जाते हैं। उन्हें पिछड़े जाति का दर्जा प्रदान किया गया है । नेप ...

भूमिका शर्मा

भूमिका शर्मा जिसने इटली में जाकर देश के नाम गोल्ड मेडल हांसिल किया उसको जल्द ही खेल मंत्रालय सम्मानित करेगा। देहरादून की 21 वर्षीय गोर्खा लडकी भूमिका शर्मा को इटली में बॉडी बिल्डिंग वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल जीतने के बाद अपने घर आए हुए लगभग 10 दिन ...

आमू दरिया

आमू दरिया मध्य एशिया की एक बड़ी नदी है जो वख़्श और पंज नदियों के संगम से बनती है। इस नदी की कुल लम्बाई २,४०० कीलोमीटर है जिसमें से १,४५० की॰मी॰ की गहराई और बहाव नाव-यातायात चलने योग्य है।

आमू-पार

आमू-पार या ट्रांसऑक्सेनिया या फ़रा-रूद मध्य एशिया का वह इलाक़ा है जो आमू दरिया और सिर दरिया के बीच में स्थित है। इसके फ़ारसी नाम फ़रा-रूद का मतलब है रूद से फ़रा । इस इलाक़े में ख़ानाबदोश क़बीले रहा करते थे, जिनका भारत के इतिहास पर भी गहरा प्रभाव ...

इलख़ानी साम्राज्य

इलख़ानी साम्राज्य या इलख़ानी सिलसिला एक मंगोल ख़ानत थी जो १३वीं सदी में ईरान और अज़रबेजान में शुरू हुई थी और जिसे इतिहासकार मंगोल साम्राज्य का हिस्सा मानते हैं। इसकी स्थापना चंगेज़ ख़ान के पोते हलाकु ख़ान ने की थी और इसके चरम पर इसमें ईरान, ईराक़ ...

ओग़ुज़ तुर्क

ओग़ुज़ मध्य एशिया में रहने वाली तुर्क जातियों में से एक है जो आठवीं सदी के बाद पश्चिम की ओर बसते गए। सल्जुक इन्हीं की एक उपशाखा थी जिन्होंने 11 वीं सदी में इस्लाम अपना लिया और ईरान में केन्द्रित एक साम्राज्य बनाया। यह सल्जुकी साम्राज्य तो बदलता औ ...

ख़ागान

ख़ागान या ख़ाक़ान मंगोलियाई और तुर्की भाषाओँ में सम्राट के बराबर की एक शाही उपाधि थी। इसी तरह ख़ागानत इन्ही भाषाओँ में साम्राज्य के लिए शब्द था। ख़ागान को कभी-कभी ख़ानों का ख़ान या ख़ान-ए-ख़ाना भी अनुवादित किया जाता है, जो महाराजाधिराज या शहनशाह ...

ख़ानत

ख़ानत तुर्की-मंगोल संस्कृति में किसी ऐसे राज्य को कहते हैं जिसपर किसी ख़ान की उपाधि वाले शासक का राज्य हो। इसकी तुलना हिन्दी के सल्तनत शब्द से की जा सकती है जो किसी ऐसे राज्य को कहते हैं जहाँ सुलतान का राज्य हो। इसी तरह बादशाहत में बादशाह का, रिय ...

ज़रफ़शान नदी

ज़रफ़शान नदी मध्य एशिया की एक नदी है। यह ताजिकिस्तान में पामीर पर्वतमाला में शुरू होती है और ३०० किमी पश्चिम की और ताजिकिस्तान के अन्दर ही बहती है। ताजिकिस्तान के पंजाकॅन्त Панҷакент शहर से गुज़रती हुई फिर यह उज़बेकिस्तान में दाख़िल होती है और उत ...

ज़ुन्गारिया

ज़ुन्गारिया मध्य एशिया का एक ऐतिहासिक क्षेत्र है जिसमें चीन द्वारा नियंत्रित शिनजियांग प्रांत का उत्तरी भाग, मंगोलिया का कुछ पश्चिमी अंश और काज़ाख़स्तान का थोड़ा पूर्वी हिस्सा शामिल है। कुल मिलकर ऐतिहासिक ज़ुन्गारिया का क्षेत्रफल लगभग ७,७७,००० वर ...

ज़ोरकुल सरोवर

ज़ोरकुल सरोवर, जिसे सर-ए-कोल सरोवर भी कहते हैं, पामीर पर्वतमाला में अफ़्गानिस्तान और ताजिकिस्तान की अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित एक झील है। पूर्व से पश्चिम तक फैली इस झील की लम्बाई लगभग २५ किमी है। मध्य एशिया की प्रसिद्ध नदी आमू दरिया इसी सरोवर स ...

तारिम द्रोणी/आलेख

तारिम द्रोणी या तारिम बेसिन मध्य एशिया में स्थित एक विशाल बंद जलसंभर इलाका है जिसका क्षेत्रफल ९०६,५०० वर्ग किमी है । वर्तमान राजनैतिक व्यवस्था में तारिम द्रोणी चीनी जनवादी गणराज्य द्वारा नियंत्रित श़िंजियांग उइग़ुर स्वराजित प्रदेश नाम के राज्य मे ...

तियाँ शान

तियान शान पर्वतमाला टकलामकान रेगिस्तान के उत्तर और पश्चिम में क़ाज़क़स्तान, किर्गिज़स्तान और चीन के पश्चिमी सूबे शिनजियांग की सरहद पर स्थित है। पश्चिम में यह पामीर पर्वतमाला से मिलती है। क़ाज़क़स्तान और चीन पर स्थित इसिक कुल झील इसके उत्तर-पूर्व ...