ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 160

स्व-चोट जागरूकता दिवस

आत्म-चोट जागरूकता दिवस १ मार्च को एक जमीनी स्तर पर वार्षिक वैश्विक जागरूकता कार्यक्रम / अभियान है, जहां इस दिन, और सप्ताह में इसके लिए अग्रणी और बाद में, कुछ लोग अपने स्वयं के नुकसान के बारे में अधिक खुले रहना पसंद करते हैं, और स्वयं को नुकसान पह ...

कार्यस्थल सुरक्षा मानकों की सूची

भारतसुरक्षा और स्वास्थ्य भारत के लिए संगठन oshindia.com/ संयुक्त राज्यव्यावसायिक सुरक्षा और स्वास्थ्य के लिए राष्ट्रीय संस्थान चीनी जनवादी गणराज्य चीन व्यावसायिक सुरक्षा और स्वास्थ्य एसोसिएशन रूस श्रम संरक्षण और सुरक्षा का संगठन

सुरक्षा

सुरक्षा हानि से बचाव करने की क्रिया और व्यवस्था को कहते हैं। यह व्यक्ति, स्थान, वस्तु, निर्माण, निवास, देश, संगठन या ऐसी किसी भी अन्य चीज़ के सन्दर्भ में प्रयोग हो सकती है जिसे नुकसान पहुँचाया जा सकता हो।

कोल्ड स्टार्ट

कोल्ड स्टार्ट भारत की सेना द्वारा विकसित नवीन सैन्य सिद्धान्त है, जिसे भारतीय सेना ने पाकिस्तान के खिलाफ संभावित युद्ध को ध्यान में रखकर विकसित किया है। कोल्ड स्टार्ट सिद्धांत के अनुसार आदेश मिलने के 48 घंटों के भीतर हमला शुरू किया जा सकता है। इत ...

चौकीदार

चौकीदार ऐसा व्यक्ति है जो एक तरह का सुरक्षाकर्मी है और आमतौपर राज्य अथवा राज्य के किसी प्राधिकरण द्वारा उसे नियत किया गया होता है कि वह अपने निर्धारित इलाके में अपराध पर नज़र रखे और प्राथमिक रूप से उसे रोकने का कार्य करे।

टैंक

कवचयान या टैंएक प्रकार का कवचित, स्वचालित, अपना मार्ग आप बनाने तथा युद्ध में काम आनेवाला ऐसा वाहन है जिससे गोलाबारी भी की जा सकती है। युद्धक्षेत्र में शत्रु की गोलाबारी के बीच भी यह बिना रुकावट आगे बढ़ता हुआ किसी समय तथा स्थान पर शत्रु पर गोलाबार ...

थकान

परंपरागत परिभाषा के अनुसार लंबे समय तक कार्य करने के फलस्वरूप घटी हुई क्षमता को ही थकान या श्रांति की संज्ञा दी जाती है। किसी कार्य को लगातार करने से उत्पादन गति का ह्रास होना ही थकान है। थकान को साधारणतया सभी लोग जानते हैं, फिर भी इसके स्वरूप को ...

नौतम भट्ट

डॉ नौतम भट्ट भारत के एक रक्षा वैज्ञानिक थे। उन्होने भारत को रक्षा-सामग्री के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अग्‍नि, पृथ्वी, त्रिशूल, नाग, ब्रह्मोस, धनुष, तेजस, ध्रुव, पिनाका, अर्जुन, लक्ष्य, निशान्त, इन्द्र, अभय, ...

नौसेना

नौसेना किसी देश की संगठित समुद्री सेना को कहते हैं। इसके अंतर्गत रणपोत, क्रूज़र, वायुयानवाहक, ध्वंसक, सुरंगें बिछाने तथा उन्हें नष्ट करने आदि के साधन एवं सैनिकों के अतिरिक्त, समुद्रतट पर निर्माण, देखभाल, पूर्ति तथा प्रशासन, कमान, आयोजन और अनुसंधा ...

बायोमेट्रिक्स

इन्हें भी देखें: जैव सांख्यिकी बॉयोमेट्रिक्स एवं जैवसाँख्यिकी जैवमिति या बायोमैट्रिक्स जैविक आंकड़ों एंव तथ्यों की माप और विश्लेषण के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को कहते हैं। अंग्रेज़ी शब्द बायोमैट्रिक्स दो यूनानी शब्दों बायोस और मैट्रोन से मिलकर बन ...

भावनात्मक सुरक्षा

भावनात्मक सुरक्षा की कमी मानव समाज के हर व्यक्ति के भीतर छिपा हुआ एक भाव हो सकता है जिसके कारण वह अपने समूह से स्वयं को अलग महसूस कर सकता है, किसी सामान्य कार्य के सम्पन्न करने में खुद को अयोग्य समझता है, कई मामलों में खुद आगे आकर नेतृत्व करने के ...

राष्ट्रीय सुरक्षा

राष्ट्रीय सुरक्षा से आशय राष्ट्र राज्य की सुरक्षा से है जिसके अन्तर्गत नागरिकों की सुरक्षा, अर्थव्यवस्था की सुरक्षा तथा संस्थाओं की सुरक्षा सम्मिलित हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा, सरकार का कर्तव्य समझा जाता है।

व्यापक एकीकृत सीमा प्रबन्धन प्रणाली

व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली एक ऐसी सीमा सुरक्षा प्रणाली है जिसके अन्तर्गत सीमा सुरक्षा में गश्त प्रणाली समाप्त हो जाएगी। यह एक स्मार्ट बाड़ होगी।

सामाजिक इंजीनियरी (सुरक्षा)

सूचना सुरक्षा के सन्दर्भ में सामाजिक इंजीनिअरी वह कला है जिसकी सहायता से कोई दूसरे व्यक्तियों को अपनी इच्छा के अनुरूप कार्य करने के लिए या कुछ गोपनीय सूचनाएँ उगलने के लिए तैयाकर देती है। यह एक प्रकार की विश्वास युक्ति या दूसरों को विश्वास में लेक ...

सुरक्षा बल

सेना के समुदाय जो अलग रूपों में अपनी सेवायें शरीर या देश या निजी सम्पत्ति की रक्षा के लिये करे, वे ही सुरक्षा बल कहलाते है, सुरक्षा बल दो प्रकार के होते हैं, एक वे जो देश के आन्तरिक भागों की रक्षा करें, वे गॄह रक्षा और जो बाहरी आक्रमणों से रक्षा ...

हेलमेट

हेलमेट एक सुरक्षात्मक सामग्री का एक रूप है जो चोटों से सिर की रक्षा के लिए पहना जाता है। अधिक विशेष रूप से, एक हेलमेट मानव मस्तिष्क की रक्षा करने में खोपड़ी की सहायता करता है। सुरक्षात्मक कार्य के अलावा प्रतीकात्मक हेलमेट कभी-कभी उपयोग होते हैं। ...

स्टेम कोशिका उपचार

स्टेम कोशिका उपचार एक प्रकार की हस्तक्षेप इलाज पद्धति है, जिसके तहत चोट अथवा विकार के उपचार हेतु क्षतिग्रस्त ऊतकों में नयी कोशिकायें प्रवेशित की जाती हैं। कई चिकित्सीय शोधकर्ताओं का मानना है कि स्टेम कोशिका द्वारा उपचार में मानव विकारों का कायाकल ...

केन्द्रीय सरकार स्वास्थ्य योजना

केन्द्रीय सरकार स्वास्थ्य योजना) भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा संचालित एक स्वास्थ्य योजना है। यह १९५४ में आरम्भ किया गया था। इसका उद्देश्य भारत के केन्द्रीय सरकार के कर्मचारियों, पेंशनधारियों, तथा उनके आश्रितों को सम्प ...

क्रेडीहेल्थ

क्रेडीहेल्थ एक भारतीय स्वास्थ्य सेवा की जानकारी और चिकित्सा सहायता की वेबसाइट है। यह डॉक्टरों, अस्पतालों और अन्य डायग्नोस्टिक सेंटर से क्राउडसोर्सिंग का यूज़ करके मरीजों का प्रतिक्रिया इकट्ठा करता है। वेबसाइट पर रोगी को अपनी बीमारी के बारे में बत ...

टीकाकरण कवरेज के आधार पर भारत के राज्य

भारत के राज्यों की यह सूची उस प्रतिशतानुसार जिसमें १२-२३ महीनों के बच्चों को सभी सुझावित टीके दिगए । यह जानकारी एन॰एफ॰एच॰एस-३ से संकलित की गई थी। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण व्यापक-पैमाने, बहु-दौरीय सर्वेक्षण है जो अन्तर्राष्ट्रीय जनसंख् ...

भारत में स्वास्थ्य सेवा

भारत में सभी नागरिकों के लिए एक राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा या सार्वभौमिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली नहीं हैं, जिसके परिणामस्वरूप निजी क्षेत्र देश में प्रमुख स्वास्थ्य सेवा प्रदाता बन गया हैं। विषय वस्तु

स्वास्थ्य सेवा

स्वास्थ्य सेवा या हेल्थकेयर का अर्थ बीमारी की रोकथाम और उपचार करना है। स्वास्थ्य सेवा चिकित्सा, दन्त चिकित्सा, नर्सिंग और स्वास्थ्य से सम्बंधित पेशेवरों द्वारा प्रदान की जाती है। स्वास्थय सेवा तक पहुँच देशों, समूहों और व्यक्तियों के अनुसार बदलती ...

चिकित्सा समकक्ष समीक्षा

चिकित्सा समकक्ष समीक्षा ऐसी प्रक्रिया हैं जिसके द्वारा चिकित्सको की समिति सहकर्मी के कार्य की जांच करती हैं और ये निर्धारित करते हैं की जांच के अधीन चिकित्सक देखभाल मानकों मैं खरा उतरा हैं या नहीं. संस्था विशेष पर निर्भर करते हुए, चिकित्सा समकक्ष ...

जोखिम

जोखिम किसी मूल्य की चीज़ को पाने या खोने की सम्भावना को कहते हैं। जोखिम के कार्यों और प्रक्रियाओं में अनिश्चितता का तत्व उपस्थित होता है। जोखिम एक विस्तृत अवधारणा है जिसका विभिन्न परस्थितियों में विभिन्न प्रकार से विश्लेषण व प्रबंधन किया जाता है।

अरक्षितता

अरक्षितता किसी प्रणाली या इकाई की उस असक्षमता को कहा जाता है जिससे कि वह किसी प्रतिकूल वातावरण के प्रभाव को सह नहीं सकता है। अरक्षितता की खिड़की वह समय सीमा है जिसमें कि आत्मरक्षा के पैमाने कम से कम हो जाते हैं, या ढीले पड़ जाते हैं या खो जाते है ...

मुर्फ्य्स लॉ

ब्रह्मांड के कथित प्रतिकूलता लंबे टिप्पणी का विषय रहा है, और अग्रग्रामीयो को मुर्फ्य्स लॉ के आधुनिक संस्करण को खोजना मुश्किल नही है | इस क्षेत्र में हाल ही में महत्वपूर्ण अनुसंधान अमेरिकी बोली सोसायटी के सदस्यों द्वारा आयोजित किया गया है। सोसायटी ...

व्यवस्थात्मक जोखिम (वित्त)

व्यवस्थात्मक जोखिम वित्त की अवधारणा है जिसका अर्थ है ऐसा जोखिम जो कि संपूर्ण व्यवस्था में ही व्याप्त हो तथा विशाखन करने से भी उससे बचा नहीं जा सकता। ब्याज दरें, मंदी, युद्ध आदि एसे जोखिमों के कुछ उदाहरण हैं।

अभिप्रेरण

अभिप्रेरण का अर्थ किसी व्यक्ति के लक्ष्योन्मुख व्यवहार को सक्रिय या उर्जान्वित करना है। मोटिवेशन दो तरह का होता है - आन्तरिक या वाह्य । अभिप्रेरण के बहुत से सिद्धान्त हैं। अभिप्रेरण के मूल में शारीरिक कष्टों को न्यूनतमीकरण तथा आनन्द को अधिकतम् कर ...

संगीत रूप

संगीत रूप या संगीत वास्तु संगीत के किसी टुकड़े की पूरी संरजना या योजना को कहते हैं, जिसमें उसको अंशों में विभाजित करा जाता है। संगीतशास्त्र की एक अध्ययन पुस्तक, ऑक्स्फ़ोर्ड कम्पैनियन टू म्यूज़िक, के अनुसार संगीत रूप का प्रयोग किसी टुकड़े में ऊबा ...

सबसे कम विकसित देश

सबसे कम विकसित देश उन देशों की सूची हैं, जो संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, सामाजिक-आर्थिक विकास के सबसे कम संकेतांक दर्शाते हैं और विश्व के सभी देशों में जिनकी मानव विकास सूचकांक की श्रेणियाँ निम्नतम हैं। सबसे कम विकसित देश की अवधारणा १९६० के दशक के ...

उपज

उपज भूमि के किसी टुकड़े में एक ही मौसम में पैदा की गई फसल की मात्रा को कहते हैं। बहुविध फसल प्रणाली को अपना कर एवं सिंचाई व्यवस्था में सुधार लाकर उपज में बढ़ोतरी की जा सकती है। आधुनिक कृषि विदियों को अपनाने से भी उपज बढ़ती है।

उर्वरक

उर्वरक कृषि में उपज बढ़ाने के लिए प्रयुक्त रसायन हैं जो पेड-पौधों की वृद्धि में सहायता के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। पानी में शीघ्र घुलने वाले ये रसायन मिट्टी में या पत्तियों पर छिड़काव करके प्रयुक्त किये जाते हैं। पौधे मिट्टी से जड़ों द्वारा एवं ...

ऊसर

ऊसर या बंजर वह भूमि है जिसमें लवणों की अधिकता हो, । ऐसी भूमि में कुछ नहीं अथवा बहुत कम उत्पादन होता है।

एगमार्क

केन्द्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्रालय ने कृषि उत्पादों के एगमार्क गुणवत्ता प्रमाणीकरण के लिए आवेदनों के प्रसंस्करण के लिए ऑनलाइन सॉफ्टवेर लांच किया है। इसे कृषि मंत्री राधामोहन सिंह द्वारा लांच किया गया। एगमार्क AGMARK एक प्रमाणचिह्न है जो भारत ...

ओसौनी

ओसौनी प्राचीन काल से प्रचलित एक कृषि कार्य है जिसके द्वारा भूसे से अनाज को अलग किया जाता है। ओसौनी के द्वारा भंदारित अनाज से कीड़ों आदि को भी दूर किया जाता है। इस क्रिया में भूसा एवं दानों का मिश्रण तेज हवा में धीरे-धीरे गिरने के लिये छोड़ दिया ज ...

कटाई

कटाई या कटनी वह कृषिकार्य है जिसमें तैयार फसल को खेतों से काटकर एकत्रित किया जाता है। इसके बाद उसकी मड़ाई, ओसौनी एवं भंदारण किया जाता है।

कवकनाशी

ऐसे रसायन या जीव जो कवक को मारने या कम करने में सहायक होते हैं, कवकनाशी या फफूंदनाशी कहलाते हैं। कवक कृषि को भारी क्षति पहुँचा सकते हैं। इसलिये कृषि में फफूंदों से लड़ने के लिये कवकनाशी उपगोग में लाये जाते हैं। इसके अलावा कवकनाशियों का उपयोग मानव ...

किसान

किसान उन्हें कहा जाता है, जो खेती का काम करते हैं। इन्हें कृषक और खेतिहर के नाम से भी जाना जाता है। ये बाकी सभी लोगो के लिए खाद्य सामग्री का उत्पादन करते है। इसमें फसलों को उगाना, बागों में पौधे लगाना, मुर्गियों या इस तरह के अन्य पशुओं की देखभाल ...

कुदाल

कुदाल, खेतीबारी में उपयोग आने वाला एक उपकरण है। इसकी सहायता से जमीन को खोदा जाता है। यह गड़्ढा खोदने, नाली बनाने, मिट्टी खोदने आदि के काम आती है। इसमें लोहे की बनी एक चौड़ी फाल होती है जिसके लम्बवत लकड़ी की बेंट लगा होता है। इसे संस्कृत में कुद्द ...

कृषक आन्दोलन

कृषि नीति को बदलने के लिये किये गये आन्दोलन कृषक आन्दोलन कहलाते हैं। कृषक आन्दोलन का इतिहास बहुत पुराना है और विश्व के सभी भागों में अलग-अलग समय पर किसानों ने कृषि नीति में परिवर्तन करने के लिये आन्दोलन किये हैं ताकि उनकी दशा सुधर सके।मोजुदा दौर ...

कृषि अर्थशास्त्र

कृषि अर्थशास्त्र मूल रूप में वह विधा थी जिसमें फसलों उत्पादन एवं जानवरों के पालन में अर्थशास्त्र के सिद्धान्तों का प्रयोग करके इसे अधिक उपयोगी बनाने की कोशिशों का अध्ययन किया जाता था। पहले इसे एग्रोनॉमिक्स कहते थे और यह अर्थशास्त्र की वह शाखा थी ...

कृषि इंजीनियरी

कृषि उत्पादन एवं प्रसंस्करण के लिये प्रयुक्त इंजीनियरी कृषि इंजीनियरी कहलाती है। यह पशु जीवविज्ञान, पादप जीवविज्ञान, यांत्रिक इंजीनियरी, सिविल इंजीनियरी तथा रसायन इंजीनियरी को मिलाकर काम करती है।

कृषि क्रांति

यह सर्वविदित है कि विश्व की प्रथम मानव सभ्यता का अन्वेषण भारत में किया गया जो सिंधु घाटी की सभ्यता के नाम से विश्व में विख्यात हुई | यह सभ्यता नवपाषाण युग के पश्चात का अनुक्रम है | नव पाषाण युग वह युग है जिसमें कृषि का आविष्कार गया ऐसा विश्व प्रम ...

कृषि विज्ञान

कृषि विज्ञान प्राकृतिक, आर्थिक और सामाजिक विज्ञान आदि को समेटे हुए एक बहुविषयक क्षेत्र है। इस क्षेत्र में निम्नलिखित पर अनुसंधान एवं विकास कार्य किए जाते हैं:- उत्पादन तकनीकें गुणवत्ता और मात्रा की दृष्टि से कृषि उत्पादन में सुधार प्राथमिक उत्पाद ...

कृषि विपणन

प्रो० पाइले के शब्दों में" विपणन में क्रय एवं विक्रय दोनों ही क्रियायें सम्मिलित होती हैं । भारत एक कृषि प्रधान देश है और देश की अर्थव्यवस्था में कृषि की एक महत्वपूर्ण भूमिका है. देश की राष्ट्रीय आय, रोजगार, जीवन-निर्वाह, पूंजी-निर्माण, विदेशी व् ...

कृषि विस्तार

कृषि विस्तार को सामान्यतः ऐसी प्रक्रिया और प्रणाली के रूप में किया जाता है जिसमें कृषि पद्धतियों से संबंधिात सूचना, ज्ञान और कौशल उनके ग्राहकों को विभिन्न चैनलों के माधयम से संप्रेषित किए जाते हैं। कृषि विस्तार ज्ञान का निर्माण और प्रसार करने में ...

कृषि शिक्षा

कृषि शिक्षा का अर्थ हैं कृषि के बारे में अध्ययन करना इसके लिए हमारे देश मैं बहुत सारे लगभग 65 एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी हैं। देश की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी नई दिल्ली IARI indian Agriculture research institute हैं। वर्तमान में बढ़ रही जनंसख् ...

कृषिजोपजाति

किसी पौधे की कृषिजोपजाति मूल पौधे से भिन्न होते हुए भी उस पौधे की मूल विशेषताओं को अपने में समाहित रखती है। आमतौपर किसी पौधे की किस्म उसे ज्यादा सुन्दर या लाभप्रद बनाने के लिए विकसित की जाती है और इसे एक अलग नाम भी दिया जाता है।

कृषिवानिकी

फसलों के साथ-साथ पेड़ों एवं झाड़ियों को समुचित प्रकार से लगाकर दोनो के लाभ प्राप्त करने को कृषि वानिकी कहा जाता है। इसमें कृषि और वानिकी की तकनीकों का मिश्रण करके विविधतापूर्ण, लाभप्रद, स्वस्थ एवं टिकाऊ भूमि-उपयोग सुनिश्चित किया जाता है।

खरीफ फसलों के खर-पतवार

आज खाद्यान्नों की कमी के कारणों का विश्लेषण करें तो हमें पता चलेगा कि फसलों में विभिन्न नाशकों द्वारा लगभग 1.07.000 करोड़ रूपये के बराबर की वार्षिक हानि होती है। जिसमें अकेले खरपतवारों के कारण 37 प्रतिशत हानि होती है जबकि कीड़ों से 22 प्रतिशत व ब ...