ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 143

लाहौर संकल्पना

लाहौर प्रस्तावना, सन 1940 में अखिल भारतीय मुस्लिम लीग द्वारा प्रस्तावित एक आधिकारिक राजनैतिक संकल्पना थी जिसे मुस्लिम लीग के 22 से 24 मार्च 1940 में चले तीन दिवसीय लाहौर सत्र के दौरान पारित किया गया था। इस प्रस्ताव द्वारा ब्रिटिश भारत के उत्तर पश ...

चेकोस्लोवाकिया

चेकोस्लोवाकिया मध्य यूरोप में स्थित एक देश हुआ करता था जो अक्टूबर १९१८ से १९९२ तक अस्तित्व में रहा। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान १९३९ से १९४५ के एक अंतराल में इसका ज़बरदस्ती जर्मनी में विलय कर दिया गया इसलिए वास्तविकता में यह देश उस ज़माने में अस् ...

प्रशिया

प्रशिया, प्रुशिया या प्रशा, उत्तरी यूरोप का एक जर्मन ऐतिहासिक राज्य था। प्रशिया, अपनी राजधानी कोइनिजबर्ग और 1701 से बर्लिन के साथ, जर्मनी के इतिहास को निर्णायक रूप से आकार दिया है। 18वीं और 19वीं शताब्दियों में यह राज्य अपने चरम पर था।

महत्त्वपूर्ण दिवस

९ जनवरी - प्रवासी भारतीय दिवस 12 जनवरी युवा दिवस १० जनवरी - विश्व हिंदी दिवस, विश्व हास्य दिवस 30 जनवरी शहीद दिवस 24 जनवरी उत्तर प्रदेश दिवस ३० जनवरी - कुष्ठ रोग निवारण दिवस भारतीय १५ जनवरी - थल सेना दिवस भारत २६ जनवरी - अन्तर्राष्ट्रीय कस्टम दिव ...

राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस (भारत)

भारत में २४ दिसम्बर राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस के रूप में मनाया जाता है। सन् १९८६ में इसी दिन उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम विधेयक पारित हुआ था। इसके बाद इसअधिनियम में १९९१ तथा १९९३ में संशोधन किये गए। उपभोक्‍ता संरक्षण अधिनियम को अधिकाधिक कार्यरत और प्र ...

विश्व शौचालय दिवस

विश्व शौचालय दिवस: जो प्रत्येक वर्ष को 19 नवंबर को मनाया जाता है संयुक्त राष्ट्र के अनुसार विश्व की अनुमानि ढाई अरब आबादी को पर्याप्त स्वच्छता मयस्सर नहीं है और एक अरब वैश्विक आबादी खुले में सौच को अभिसप्त है उनमे से आधे से अधिक लोग भारत में रहते ...

विश्व स्तनपान सप्ताह

विश्व स्तनपान सप्ताह,प्रत्येक वर्ष अगस्त माह के पहले सप्ताह प्रताप 1 अगस्त से 7 अगस्त तक मनाया जाता है इसका उद्देश्य महिलाओं को स्तनपान एवं कार्य को दृढ़तापूर्वक एकसाथ करने का समर्थन देता है साथ ही इसका यह उद्देश्य है कि कामकाजी महिलाओं को उनके स ...

उम्मैद भवन पैलेस

उम्मैद भवन पैलेस राजस्थान के जोधपुर ज़िले में स्थित एक महल है। यह दुनिया के सबसे बड़े निजी महलों में से एक है। यह ताज होटल का ही एक अंग है। इसका नाम महाराजा उम्मैद सिंह के पौत्र ने दिया था जो वर्तमान में मालिक है। अभी वर्तमान समय में इस पैलेस में ...

कोषाक महल

कोशक महल इस महल को 1445 ई. में मालवा के महमूद खिलजी ने बनवाया था। यह महल चार बराबर हिस्सों में बंटा हुआ है। कहा जाता है कि सुल्तान इस महल को सात खंड का बनवाना चाहता था लेकिन मात्र दो खंड का ही बनवा सका। महल के हर खंड में बॉलकनी, खिड़कियों की कतार ...

गुजरी महल (हिसार)

हरियाणा के हिसार में स्थित प्रेम महल फिरोजशाह तुगलक द्वारा अपनी प्रेमिका गुजरी नामक कन्या के नाम पर बनवाया था इस महल 1354 ई. निर्मित कराया गया था। यह फिरोज शाह महल का भाग है। हिसार शहर एक किले के अंदर एक दीवारों के बंदोबस्त के बीच बसा था जिसमें च ...

जग मंदिर

जग मन्दिर राजस्थान के उदयपुर जिले में स्थित एक राजमहल है। यह एक द्वीप के किनारे पिछोला झील के किनारे पर बनाया गया है। यह "लेक गार्डन पैलेस" के नाम से भी जाना जाता है।

बर्लिन का रॉयल पैलेस

बर्लिन के रॉयल पैलेस प्रशिया राजाओं और जर्मन सम्राटों का निवास था। यह शहर के ऐतिहासिक मूल में है। यह पहली बार 1442 में बनाया गया है, और पर 1702 से बारोक वास्तुकला में बढ़ाया गया था। यह 2019 तक यह निजी दान करने के लिए धन्यवाद होता खंगाला किया जाएगा।

महल

महल का अर्थ होता है भव्य और शानदार भवन जो सामानयतः शासकों, राजाओं के आवास के लिये निर्मित किये जाते थे। भारत में मध्यकाल तक ऐसे भवन निर्मित किये जाते रहे जिन्हें महल की संज्ञा दी जाती है और ऐसे कई तरह के महल पाये जाते हैं। यह मूलतः अरबी शब्द है ज ...

अक्कदी सभ्यता

अक्कद या अगादे मेसोपोटामिया की प्राचीनकालीन सभ्यताओं में से एक था। इसका काल 2334-2154 ईसापूर्व के बीच था। इसके बाद और पहले सुमेरी सभ्यता का प्रभाव रहा पर इस काल में साहित्य का विकास हुआ। अपने पतन के ५०० सालों के बाद में अक्कदी भाषा ने सुमेरी भाषा ...

अश्शूर

अश्शूर प्राचीन मेसोपोटामिया में नव असीरियाई साम्राज्य की राजधानी थी। इस शहर के अवशेष इराक़ में दजला नदी के उपरी हिस्से में स्थित हैं। यह बीसवी सदी ईसापूर्व से लेकर सातवीं सदी ईसापूर्व तक अस्तित्व में था। इसके बाद फ़ारस के हख़ामनी वंश के शासकों के ...

कसदी

प्राचीन मेसोपोटामिया का एक साम्राज्य। यह सुमेरिया तथा अक्कदी साम्राज्यों के पतन के बाद उनके क्षेत्रों पर 18वीं सदी ईसापूर्व से लेकर सातवीं सदी ईसापूर्व तक रहा था। हम्मूराबी ने इस साम्राज्य को संगठित किया था।

बाबिल

NONIYAR बाबिल आजकल के ईराक क्षेत्र की सुमेर के पश्चात दूसरी सभ्यता। इस की भाषा सुमेर की भाषा से भिन्न थी। इसे बेबीलोनियन सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है। बाबिल नगर जो इसी नाम के साम्राज्य की राजधानी था, आजकल के बगदाद से ८० किलोमीटर दक्षिण में स् ...

2006 इज़राइल लेबनान संघर्ष

2006 इसराइल लेबनान संघर्ष इसराइल और लेबनान के बिच हुआ सैन्य संघर्ष है, मुख्यत: इसराइल और हिज़्बुल्ला के बीच लडाई है। यह 12 जुलाई, 2006 को आरंभ हुआ, युद्ध-विराम 14 अगस्त, 2006 को लागु हुआ।

2006 लेबनान युद्ध

इजराइल-लेबनान युद्ध 2006 ; Israel Lebanon War 2006: यह युद्ध इजराइल व लेबनान के मध्य लडा गया था। युद्ध के तुरंत बाद दोनों देशों ने अपने आप को विजय बताया था परंतु बाद में इजराइली पक्ष ने हार स्वीकाकर ली थी। इस युद्ध में इजराइल को हिजबुल्लाह ने अपन ...

अटैक हेलीकॉप्टर

अटैक हेलीकॉप्टर हमला करने वाला एक सशस्त्र हेलीकॉप्टर होता है जिसकी मुख्य भूमिका दुश्मन पैदल सेना और बख्तरबंद लड़ाकू वाहन या जमीन पर अन्य किसी लक्ष्य तो तबाह करने की होती है। इसके भारी आयुध के कारण इसे कभी कभी गनशिप भी कहा जाता है।

अस्त्र प्रक्षेपास्त्र

अस्त्र दृश्य सीमा से परे हवा से हवा में मार करने वाला प्रक्षेपास्त्र है जिसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन, भारत ने विकसित किया है। यह हवा से हवा में मार करने वाला भारत द्वारा विकसित पहला प्रक्षेपास्त्र है। यह उन्नत प्रक्षेपास्त्र लड़ाकू विमानचाल ...

आर्थिक युद्ध

आर्थिक युद्ध की परिभाषा इस प्रकार की जाती है- ऐसे उपाय करना जिसका मुख्य प्रभाव शत्रु की अर्थव्यवस्था पर पड़ता हो, जैसे आर्थिक नाकाबन्दी।

इस्सस का युद्ध

इस्सस का युद्ध ईरान के राजा दारा और सिकंदर के बीच हुआ था। यह युद्ध 333 ई.पू. के अक्टूबर/नवम्बर में दक्षिणी अनातोलिया में हुआ था। इसमें सिकन्दर की सेना विजयी रही थी।

औद्योगिक युद्ध

औद्योगिक युद्ध, युद्ध के इतिहास के उस काल को इंगित करता है जिसमें राष्ट्र-राज्यों का उदय हुआ जो बड़ी-बड़ी थलसेनाएँ, जलसेनाएं तथा वायुसेनाएँ बनाने और रखने में सक्षम थे। यह काल १९वीं शताब्दी के आरम्भिक दिनों में हुए औद्योगिक क्रांति से लेकर परमाणु ...

किला

शत्रु से सुरक्षा के लिए बनाए जानेवाले वास्तु का नाम किला या दुर्ग है। इन्हें गढ़ और कोट भी कहते हैं। दुर्ग, पत्थर आदि की चौड़ी दीवालों से घिरा हुआ वह स्थान है जिसके भीतर राजा, सरदाऔर सेना के सिपाही आदि रहते है। नगरों, सैनिक छावनियों और राजप्रासाद ...

खाई युद्ध

खाई युद्ध स्थल-युद्ध का वह प्रकार है जिसमें अधिकांशतः खाई में छिपकर शत्रु पर हमला किया जाता है। यह युद्ध प्रथम विश्वयुद्ध के समय पश्चिमी मोर्चे पर खूब लड़ा गया था। खाई युद्ध की विशेषता है कि खाई में स्थित होने के कारण सैनिक, शत्रु के छोटे आग्नेया ...

गिरियुद्ध

पर्वतीय क्षेत्र में लड़ा जानेवाला युद्ध गिरियुद्ध कहलाता है। गिरियुद्ध के कोई विशेष सिद्धांत नहीं हैं। इसमें भी युद्ध का उद्देश्य शत्रु के मुख्य स्थानों पर अधिकार करना तथा उसकी शक्ति एवं सामग्री को समूल नष्ट करना है। यह युद्ध चाहे पर्वतीय क्षेत्र ...

गोलीबारी

बन्दूक से दो अलग नीतियों को मानने वाले समुदाय एक दूसरे को हताहत करने के लिये अपनी अपनी बन्दूकों से एक दूसरे को जान से मारने के जो क्रिया करें, उस क्रिया का नाम गोलीबारी है।

चौसा का युद्ध

हुमायूँ के सेनापति हिन्दूबेग चाहते थे कि वह गंगा के उत्तरी तट से जौनपुर तक अफगानों को वहाँ से खदेड़ दे, परन्तु हुमायूँ ने अफगानो की गतिविधियों पर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया। शेर खाँ ने एक अफगान को दूत बनाकर भेजा जिससे उसकी सेना की दुर्व्यवस्था की सू ...

छत्रसेना

छत्रसेना ऐसे सैनिकों से बनी होती है, जिन्हें वायुयानों द्वारा दूरस्थ शत्रुसेना की पंक्तियों के पीछे, अथवा अन्य इष्ट स्थान पर, पैराशूट की सहायता से पृथ्वी पर लड़ने के लिए, अथवा अपनी अधिकारस्थापना के लिए, उतारा जाता है। वायुयानों पर सवार होते समय प ...

तटस्थता

प्रत्येक युद्ध में जो राज्य एक दूसरे के विरुद्ध युद्ध करते हैं, वे "युद्धरत" राज्य कहे जाते हैं। जो राज्य किसी ओर से नहीं लड़ते अथवा युद्ध में कोई भाग नहीं लेते, वे तटस्थ राज्य कहे जाते हैं। अत: तटस्थता वह निप्पक्ष अथवा तटस्थ रहने का भाव है, जो य ...

तिर्यक आक्रमण

तिर्यक आक्रमण एक सैन्य युक्ति है जिसमें आक्रमणकारी सेनानायक किसी चुने हुए स्थान पर अपनी अधिकांश शक्ति झोंक देता है और शेष शक्ति को शेष स्थानों पर लगाता ताकि शत्रुसेना को रोका जा सके। ऐसा करके कमजोर या समान शक्ति वाला सेनानायक एक या कुछ स्थानों पर ...

तोप

तोप वह हथियार है जो किसी भारी गोले को बहुत दूर तक प्रक्षिप्त कर सकती है। ये प्राय: बारूद या किसी विस्फोटक के द्वारा उत्पन्न गैसीय दाब के बल से गोले को दागते हैं। आधुनिक युग में तोप का प्रयोग सामान्यत: नहीं होता है। इसके स्थान मोर्टार, होविट्जर आद ...

तोपख़ाना

तोपख़ाना या आर्टिलरी किसी फ़ौज या युद्ध में सैनिकों के ऐसे गुट को बोलते हैं जिनके मुख्य हथियार प्रक्षेप्य प्रकृति के होते हैं, यानि जो शत्रु की तरफ़ विस्फोटक गोले या अन्य चीज़ें फेंकते हैं। पुराने ज़माने में तोपख़ानों का प्रयोग क़िले की दीवारों क ...

त्रिशूल (मिसाइल)

त्रिशूल कम दूरी का जमीन से हवा में मार करने वाला यह समन्वित मार्गदर्शित मिसाइल विकास कार्यक्रम में रक्षा अनुसंधान विकास संगठन ओर भारत डायनामिक्स लिमिटेड द्वारा विकसित किया गया था। इसका उपयोग कम उड़ान पर हमला करने वाली मिसाइलों के खिलाफ जहाज से एक ...

थर्मापायली का युद्ध

थर्मापायली का युद्ध ग्रीस के दूसरे फारसी आक्रमण के दौरान स्पार्टा के राजा लियोनीदास के नेतृत्व में यूनान नगर-राज्य के संगठन और क्षयार्षा के हख़ामनी साम्राज्य के मध्य हुआ।

द्वंद्वयुद्ध

दो विरोधी व्यक्तियों या दलों के बीच, पूर्वनिश्चित तथा जाने माने नियमों के अनुसार प्रचलित शस्त्रों द्वारा युद्ध को द्वंद्वयुद्ध कहते हैं। ऐसे युद्ध प्राचीन काल में बहुत से देशों में प्रचलित थे। इनके प्रचलन के मूल में यह विश्वास था कि इन युद्धों मे ...

धनुष

धनुष की सहायता से बाण चलाना निस्संदेह बहुत प्राचीन कला है, जिसका चलन आज भी है। आहाऔर आत्मरक्षा के लिए संसार के सभी भागों में अन्य हथियारों की अपेक्षा धनुष-बाण का प्रयोग सर्वाधिक और व्यापक हुआ है। आदिकाल से लेकर 16वीं शताब्दी तक धनुषबाण मनुष्य के ...

नाग प्रक्षेपास्त्र

नाग प्रक्षेपास्त्र एक तीसरी पीढ़ी का भारत द्वारा स्वदेशीय निर्मित, टैंक भेदी प्रक्षेपास्त्र है। यह उन पाँच मिसाइल प्रणालियों में से एक है जो भारत के रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन द्वारा एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम के तहत विकसित की गई ...

परमाणु अप्रसार संधि

परमाणु अप्रसार संधि को एनपीटी के नाम से जाना जाता है। इसका उद्देश्य विश्व भर में परमाणु हथियारों के प्रसार को रोकने के साथ-साथ परमाणु परीक्षण पर अंकुश लगाना है। १ जुलाई १९६८ से इस समझौते पर हस्ताक्षर होना शुरू हुआ। अभी इस संधि पर हस्ताक्षर कर चुक ...

परमाणु युद्ध

जिस युद्ध में शत्रु को नुकसान पहुँचाने के लिये परमाणु हथियारों का उपयोग किया जाता है उसे परमाणु युद्ध या नाभिकीय युद्ध कहते हैं।

परोक्ष युद्ध

दो देशों या समूहों के बीच ऐसे स्ंघर्ष को परोक्ष युद्ध कहते हैं जिसमें दोनों में से कोई भी पक्ष सीधे दूसरे से संघर्ष न कर रहा हो बल्कि किसी तीसरी शक्ति का उपयोग करके दूसरे पक्ष को हानि पहुँचा रहा हो। द्वितीय विश्वयुद्ध के पश्चात विश्व में परोक्ष य ...

पूर्व आधुनिक युद्ध

पूर्व आधुनिक काल के युद्ध की प्रमुख विशेषता बारूद का अधिकाधिक उपयोग था। इसके साथ ही विस्फोटकों के उपयोग करने वाले अस्त्र जैसे बन्दूक तथा तोप आदि का भी विकास हो गया था। इस कारण इस युग को बारूदी युद्ध काल भी कहते हैं।

प्रथम क्रूसयुद्ध

प्रथम क्रूसयुद्ध) पश्चिमी इसाई मतावलम्बियों द्वारा की गयी सैनिक कार्यवाही थी जो मुसलमानों द्वारा जीते गये पवित्र स्थानों को पुनः प्राप्त करने के उद्देश्य से की गयी थी। इसका आरम्भ 27 नवम्बर 1095 हुआ था।

प्राक्षेपिकी

क्षेपण विज्ञान या प्राक्षेपिकी = "throw") यांत्रिकी की एक शाखा है जिसके अन्तर्गत प्रक्षेपकों की गति, व्यवहार एवं उनके प्रभावों का अध्ययन किया जाता है। प्रक्षेपकों में भी मुख्यतः गोलियों, गुरुत्व बमों, रॉकेट आदि का बारे में अध्ययन किया जाता है। इस ...

बर्मी युद्ध

इसके प्रमुख कारण थे प्रवासियों द्वारा अराकान में लूट-मार तथा आसाम और मणिपुर वापस लेने के प्रयत्न, बंगाल की पूर्वी सीमा पर बर्मी साम्राज्य विस्तार, सीमा संबंधी झगड़े, तथा कचार में बर्मी सेना का प्रवेश। युद्ध की घोषणा करने में बंगाल की सरकार के उद् ...

मिसाइल सुरक्षा प्रणाली

मिसाइल सुरक्षा प्रणाली एक प्रणाली है जिसमें आधुनिक हथियारों और प्रौद्योगिकी का उपयोग प्रक्षेपास्त्र हमलों से बचने के लिए किया जाता है। इस प्रक्रिया में प्रक्षेपास्त्र का संसूचन, ट्रैकिंग, अवरोधन और नष्ट करना शामील है। मूलतः इसे युद्ध में प्रतिरक् ...

युद्ध

युद्ध एक लंबे समय तक चलने वाला आक्रामक कृत्य है जो सामान्यतः राज्यों के बीच झगड़ों के आक्रामक और हथियारबंद लड़ाई में परिवर्तित होने से उत्पन्न होता है।

युद्ध विधि

युद्ध विधि एक कानूनी शब्द है जिसका सम्बन्ध युद्ध आरम्भ करने के स्वीकार्य कारणों से से है और युद्ध के समय के आचरण की स्वीकार्य सीमा से है।

युद्ध-बन्दी

युद्धबन्दी उस व्यक्ति को कहते हैं जो किसी सशस्त्र संघर्ष के दौरान या तुरन्त बाद शत्रु देश द्वारा हिरासत में ले लिया गया है। पकड़ा गया व्यक्ति लड़ाकू हो या न हो, वह युद्धबन्दी ही कहा जाता है।